loader

असम पुलिस के अफ़सरों के ख़िलाफ़ दर्ज FIR को वापस लेगी मिज़ोरम सरकार 

पूर्वोत्तर के राज्यों असम और मिज़ोरम के बीच चल रहा सीमा विवाद अब सुलझता दिख रहा है। मिज़ोरम के मुख्यमंत्री ज़ोरामथंगा ने इस मामले में मिज़ोरम पुलिस की ओर से दर्ज की गई एफ़आईआर को वापस लेने के निर्देश दिए हैं। 

ज़ोरामथंगा ने सोमवार को ट्वीट कर कहा है कि दोनों राज्यों के बीच जारी सीमा विवाद को ख़त्म करने और किसी समाधान तक पहुंचने के लिए ज़रूरी अनुकूल माहौल को बनाने के लिए उन्होंने मिज़ोरम पुलिस को उस एफ़आईआर को वापस लेने के निर्देश दिए हैं। 

बता दें कि मिज़ोरम की पुलिस ने बीते शुक्रवार की रात को असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा और छह शीर्ष पुलिस अफ़सरों के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज की थी। इस एफ़आईआर में असम सरकार के 200 अज्ञात पुलिसकर्मियों का भी नाम था। 

ताज़ा ख़बरें

यह एफ़आईआर मिज़ोरम के कोलासिब जिले के वैरेंगटे पुलिस स्टेशन में दर्ज की गई है। मिज़ोरम का कोलासिब जिला असम के कछार जिले से लगता है। 

एफ़आईआर में सरमा के अलावा आईजीपी अनुराग अग्रवाल, डीआईजी कछार देवज्योति मुखर्जी, डीसी कछार कीर्ति जल्ली, डीएफ़ओ कछार सनी देव चौधरी, एसपी कछार चंद्रकांत निंबालकर, ओसी धोलाई पुलिस स्टेशन साहब उद्दीन के नाम शामिल थे। 

रविवार को मिज़ोरम की सरकार ने कहा था कि वह इस एफ़आईआर से हिमंता बिस्व सरमा के नाम को हटा रही है। सरमा ने भी पुलिस को निर्देश दिया था कि वह मिज़ोरम के सांसद के. वनललवेना के ख़िलाफ़ दर्ज एफ़आईआर को वापस ले लें। इस मामले में दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों की केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के साथ बात हुई है।

के. वनललवेना के कथित भड़काऊ बयान को लेकर विवाद हो गया था। इस बयान में उन्होंने कथित रूप से असम पुलिस के लोगों को मार डालने की बात कही थी। 

26 जुलाई को इन दोनों राज्यों के दो सीमाई जिलों के लोगों के बीच हिंसा भड़क गई थी, जिसमें जमकर गोलियां चली थीं। इसके बाद दोनों ही राज्यों ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मामले को सुलझाने की अपील की थी। हालात को देखते हुए सीआरपीएफ़ ने इस इलाक़े में तैनाती बढ़ा दी है। दोनों राज्यों की सीमा पर सीआरपीएफ़ के 500 जवान तैनात हैं। 

FIR withdrawn against cops in assam mizoram border dispute - Satya Hindi

सैटेलाइट इमेजिंग का लिया सहारा

इधर, केंद्र सरकार ने उत्तर-पूर्वी राज्यों में सीमा विवाद को सैटेलाइट इमेजिंग के माध्यम से सीमा विवाद सुलझाने का फ़ैसला लिया है। एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों का कहना है कि सीमाओं के निर्धारण का काम अंतरिक्ष विभाग और उत्तर पूर्वी परिषद की संयुक्त पहल के रूप में गठित नॉर्थ ईस्टर्न स्पेस एप्लीकेशन सेंटर यानी एनईएसएसी को दिया गया है।

देश से और ख़बरें

मिज़ोरम की असम के साथ 123 किलोमीटर, त्रिपुरा के साथ 109 किलोमीटर और मणिपुर के साथ 95 किलोमीटर की सीमाएं हैं। 1995 के बाद से मिज़ोरम और असम सरकारों के अधिकारियों के बीच सीमा विवाद को सुलझाने के लिए कई बैठकें हो चुकी हैं। मिज़ोरम के तीन ज़िले - कोलासिब, आइजोल और ममित - दक्षिणी असम के कछार, हैलाकांडी और करीमगंज ज़िलों के साथ 123 किमी की सीमा साझा करते हैं।

मिज़ोरम और असम की सीमा पर दोनों राज्यों के लोगों के बीच अक़सर झड़प होती है और विवाद होता रहता है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें