loader

सरकार ने फ़्रीडम हाउस की रिपोर्ट को खारिज किया, गलत और भ्रामक बताया

सरकार ने अमेरिकी थिंकटैंक 'फ़्रीडम हाउस' की उस रिपोर्ट को खारिज कर दिया है, जिसमें कहा गया है कि भारत पहले से कम लोकतांत्रिक रह गया है। केंद्र सरकार ने इस रिपोर्ट को 'भ्रामक' और 'ग़लत' क़रार दिया है।

‘2021 में विश्व में आज़ादी- लोकतंत्र की घेरेबंदी’ शीर्षक से जारी की गई इस रिपोर्ट में कहा गया है कि ऐसा लगता है कि भारत ने वैश्विक लोकतांत्रिक नेता के रूप में नेतृत्व करने की क्षमता को त्याग दिया है और भारत के इस सूची में नीचे जाने से दुनिया भर के लोकतांत्रिक मापदंडों पर ख़राब असर हो सकता है। भारत की ओर से अभी तक इस बारे में कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

ख़ास ख़बरें

क्या कहना है सरकार का?

सरकार ने फ़्रीडम हाउस की उस रिपोर्ट का बिंदुवार जवाब देते हुए कहा है कि यह रिपोर्ट ग़लत है, यह इसी से ज़ाहिर होता है कि 'देश के कई राज्यों में उन दलों की सरकार है जो केंद्र के सत्तारूढ़ दल से अलग राय रखते हैं और ये सरकार निष्पक्ष चुनाव के ज़रिए चुनी गई हैं, यह चुनाव आयोजित कराने वाला निकाय पूरी तरह स्वतंत्र है।'

फ़्रीडम हाउस की रिपोर्ट में कहा गया है कि दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश अधिनायकवाद में धंसता जा रहा है। इसके लिए दिल्ली दंगों और मुसलमानों के ख़िलाफ़ भीड़ की हिंसा का हवाला दिया गया है। सरकार की आलोचना करने वालों पर राजद्रोह के मुक़दमे और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लॉकडाउन का यकायक एलान और उसे बेहद सख़्ती से लागू करने की बात भी कही गई है।

हर नागरिक समान

सरकार ने इसके जवाब में कहा है कि 'वह हर नागरिक के साथ समान व्यवहार करती है जैसा कि संविधान में व्यवस्था है और हर क़ानून को बग़ैर किसी भेदभाव के सबपर समान रूप से लागू किया जाता है। क़ानून व्यवस्था के विषय में नियम क़ानून का पूरे सम्मान के साथ पालन किया जाता है और ऐसा उकसाने की कार्रवाई करने वाले की पहचान के बग़ैर किया जाता है।'

सरकार ने यह भी दावा किया है कि जहाँ तक 2020 में फरवरी में उत्तर-पूर्व दिल्ली के दंगों की बात है, क़ानून व्यवस्था के लिए ज़िम्मेदारी एजंसियों ने बगैर समय गंवाए पूरी मुस्तैदी से काम किया। फ़ोन पर जानकारी मिलते ही हर तरह के क़ानूनी कदम उठाए गए और कार्रवाई की गई।

freedom house report on democracy index, freedom of expression rejected - Satya Hindi
दिल्ली दंगा

राजद्रोह पर सरकार का तर्क

केंद्र सरकार ने आलोचकों पर राजद्रोह लगाने के मुद्दे पर भी सफाई दी। उसने कहा है कि क़ानून व्यवस्था राज्यों के अधीन है और संबंधित राज्य सरकारों ने क़ानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए कदम उठाए, मामलों की जाँच की और दूसरी तरह की कर्रवाइयां कीं। इसलिए यह काम संबंधित एजंसियों का है और उन्हें जो ठीक लगा, उन्होंने किया।

सरकार ने असहमति रखने वाले अकदामिक लोगों, पत्रकारों और मीडिया को निशाना बनाने से साफ़ इनकार कर दिया और तर्क दिया है कि संविधान के अनुच्छेद 19 के तहत हर किसी को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता है।

सरकार ने कहा है, "परिचर्चा, बहस और असहमति भारतीय लोकतंत्र का हिस्सा है। सरकार पत्रकारों समेत हर नागरिक की सुरक्षा को सर्वोपरि मानती है। सरकार ने सभी राज्य सरकारों और केंद्र शासित क्षेत्रों को विशेष सलाह जारी कर कहा है कि वे पत्रकारों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए क़ानून व्यवस्था के उपायों को सख़्ती से लागू करें।"

समय-समय पर इंटरनेट कनेक्शन काट देने पर सफाई देते हुए सरकार ने कहा है कि यह क़ानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए खास मौकों पर ही किया गया है और उससे जुड़े दिशा-निर्देशों का पालन किया गया है।

सरकार ने मानवाधिकार के लिए काम करने वाली संस्था एमनेस्टी इंटरनेशनल पर लगे प्रतिबंध को भी जायज़ ठहराया है। इसने कहा है कि इस संस्था ने ग़ैरक़ानूनी तरीके से बहुत सारा पैसा विदेशों से ले लिया। इसने उस पैसे को प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफ़डीआई) के रूप में दिखाया।

 

फ़्रीडम हाउस की रिपोर्ट में क्या कहा गया है और उसका क्या महत्व है, देखें, वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष का क्या कहना है। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें