loader

महामारी में लैंगिक असमानता : पुरुषों की तुलना में कम महिलाओं को कोरोना टीका

लैंगिक असमानता पर बँटे समाज में तमाम मामलों में महिलाएँ पीछे हैं, लेकिन जब महामारी से बचने के लिए टीका लगाने जैसे मामले में भी उनके साथ भेदभाव किया जाए तो यह साफ हो जाता है कि इस अन्याय की जड़ें कितनी गहरी हैं। 

ब्रिटिश समाचार एजेंसी 'रॉयटर्स' के अनुसार, भारत में जितने पुरुषों को कोरोना टीका दिया गया है, उससे 17 प्रतिशत कम महिलाओं को यह यह टीका मिला है।

उसका कहना है कि भारत में अब तक 10 करोड़ से ज़्यादा लोगों का आंशिक या पूर्ण टीकाकरण हो चुका है। आंशिक टीकाकरण का मतलब टीके की एक खुराक़ और पूर्ण टीकाकरण का मतलब टीके की दो खुराक़ें मिलना। 

ख़ास ख़बरें

महिलाओं का टीकाकरण 17 प्रतिशत कम

दिल्ली और उत्त प्रदेश जैसी जगहों पर यह असमानता अधिक गहरी देखी गई है। केरल और छत्तीसगढ़ ही वे राज्य है, जहाँ टीकाकरण के मामले में महिलाएँ थोड़ा आगे हैं। 

कोरोना टीकाकरण से जुड़ी सरकारी वेबसाइट 'कोविन' से लिए गए आँकड़ों के विश्लेषण से पता चलता है कि सबसे ज़्यादा 52 प्रतिशत महिलाओं को केरल, 51 प्रतिशत महिलाओं को छत्तीसगढ़ और 50 प्रतिशत महिलाओं को हिमाचल प्रदेश में कोरोना वैक्सीन दिया गया है। 

gender inequality - less women get corona vaccine - Satya Hindi
कोरोना टीकाकरण में लैंगिक भेदभाव दिखाता ग्राफ़cowin.gov.in

सबसे बुरा हाल केंद्र-शासित क्षेत्र दादरा व नगर हवेली का है, जहाँ सिर्फ 32 प्रतिशत महिलाओं को कोरोना टीका दिया गया है। 

वजह क्या है?

गुजरात के एक बड़े सरकारी अस्पताल के मेडिकल सुपरिटेंडेंट प्रशांत पांड्या ने 'रॉयटर्स' से कहा, 'हमने पाया है कि पुरुष जब कामकाज के सिलसिले में बाहर निकलते हैं, वे कोरोना टीका भी लगवा लेते हैं, पर महिलाएँ घर के कामकाज में इस तरह फँसी रहती हैं कि वे बाहर नहीं निकल पाती हैं और कोरोना टीकाकरण में पीछे छूट गई हैं।'

गुजरात और राजस्थान में कुछ महिलाओं ने गुजारिश की कि स्वास्थ्य कर्मी घर-घर जाकर कोरोना टीका दें क्योंकि घरेलू कामकाज और बच्चों को छोड़ कर टीकाकरण के लिए जाना मुश्किल है।

लेकिन सरकार का कहना है कि कोरोना टीका देने के बाद उसके प्रभावों पर नज़र रखने के लिए लोगों को थोड़ी देर के लिए वहीं रोके रखना ज़रूरी है और ऐसे में घर-घर जाकर टीका देना व्यावहारिक नहीं है। 

बंगाल में अनूठा प्रयोग

लेकिन पश्चिम बंगाल सरकार ने इस दिशा में महत्वपूर्ण कदम उठाया है।

पश्चिम बंगाल सरकार चुनिंदा इलाक़ों में बस भेजती है, टीका देने के बाद बस वहीं खड़ी रहती है और लोगों को भी वहीं बिठाए रखा जाता है। थोड़ी देर बाद वह बस आगे बढ़ती है और अगले इलाक़े में ऐसा ही करती है।

जागरुकता फैलाए सरकार

 यह ग्रामीण इलाक़ों व कस्बों में हो रहा है और इसमें महिलाओं के साथ-साथ पुरुषों को भी कोरोना वैक्सीन दिया जा रहा है। 

एक दसूरी और बड़ी वजह कोरोना टीका को लेकर फैलाई गई अफवाहों की भूमिका भी है। कुछ इलाक़ों अफवाहें फैला दी गई हैं कि कोरोना टीका लगाने से महिलाओं की माहवारी में दिक्कत आती है, उनका चक्र बिगड़ जाता है। यह अफवाह भी फैला दी गई है कि कोरोना टीका से महिलाएँ बाँझ हो सकती हैं।  ये दोनों ही बातें बेबुनियाद हैं। 

पूर्व ब्यूरोक्रेट और स्वास्थ्य सेवा से जुडी हुई सुधा नारायण ने 'रॉयटर्स' से कहा कि सरकार को गाँवों में बड़े पैमाने पर जागरुकता अभियान चलाना चाहिए और महिलाओं को समझाना चाहिए कि कोरोना टीका अनिवार्य है और वे हर हालत में टीकाकरण करवाएँ। 

भारत की जनसंख्या लगभग 130 करोड़ है, जिनमें पुरुषों की जनसंख्या महिलाओं से छह प्रतिशत अधिक है। 

gender inequality - less women get corona vaccine - Satya Hindi

बता दें कि कोरोना टीके की किल्लत के बीच केंद्र सरकार ने वैक्सीन खरीदने के नए ऑर्डर दिए हैं और दावा कर रही है कि अगस्त से दिसंबर के बीच उसे टीके की 44 करोड़ खुराक़ें मिल जाएंगी।

स्वास्थ्य मंत्रालय के इस एलान के एक दिन पहले ही प्रधानमंत्री ने कहा था कि 18 साल से अधिक की उम्र के हर आदमी को मुफ़्त कोरोना टीका दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ये टीके खरीद कर राज्यों को मुफ़्त देगी। 

मंगलवार को मंत्रालय ने कहा कि कोवीशील्ड की 25 करोड़ और कोवैक्सीन की 19 करोड़ खुराक़ों के आर्डर दे दिए गए हैं। सीरम इंस्टीच्यूट ऑफ इंडिया कोवीशील्ड और भारत बायोटेक कोवैक्सीन बना रहा है। 

कोरोना की तीसरी लहर पर देखें वरिष्ठ पत्रकार शैलेश का यह वीडियो। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें