loader
फ़ोटो क्रेडिट- WSJ

वैश्विक भूख सूचकांक 2021: बांग्लादेश, नेपाल से भी पीछे रहा भारत 

वैश्विक भूख सूचकांक 2021 की ताज़ा रिपोर्ट भारत के भविष्य को लेकर बेहद चिंताजनक तसवीर पेश करती है। रिपोर्ट बताती है कि दुनिया के 116 देशों में भारत 101 वें स्थान पर है और यह पिछली बार से सात पायदान नीचे खिसक गया है। 2020 में यह 94 वें स्थान पर था। 

इससे भी चिंताजनक बात यह है कि भारत पड़ोसी देशों पाकिस्तान, बांग्लादेश और नेपाल से भी पीछे है। 

दुनिया के 18 देशों जिनमें चीन, कुवैत और ब्राज़ील शामिल हैं, को शीर्ष स्थानों पर जगह बनाने में कामयाबी मिली है। 

ताज़ा ख़बरें

वैश्विक भूख सूचकांक 2021 में नेपाल 76 वें, बांग्लादेश 76 वें, म्यांमार 71 वें और पाकिस्तान 92 वें स्थान पर है। इससे साफ है कि भारत इन कमजोर माने जाने वाले मुल्क़ों से भी बहुत पीछे रह गया है। 

यह रिपोर्ट कंसर्न वर्ल्ड वाइड और वेल्ट हंगर हाईलाइफ़ ने मिलकर तैयार की है। रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में भूख का जो स्तर (जीएचआई स्कोर) है, वह बेहद चिंताजनक है क्योंकि साल 2000 में यह 38.8 था जो 2012 से 2021 के बीच घटकर 28.8 से 27.5 के बीच आ गया है। 

निश्चित रूप से यह बहुत ज़्यादा गिरा है और देश की तरक़्की होने के तमाम सरकारी दावों को झूठा साबित करता है। 

देश से और ख़बरें

वेस्टिंग दर सबसे ज़्यादा 

जीएचआई स्कोर चार पैमानों से निर्धारित होता है। इनमें कुपोषण, बच्चों की मृत्यु दर, बच्चों की वेस्टिंग दर आदि पैमाने लिए जाते हैं। बच्चों की वेस्टिंग दर से मतलब है कि बच्चे बेहद कमजोर हैं और उनका वजन तेजी से गिर रहा है। ऐसे बच्चों की जान को भी ख़तरा होता है लेकिन उनका इलाज किया जा सकता है। 

रिपोर्ट कहती है कि भारत में बच्चों की वेस्टिंग दर 1998-2002 में 17.1 फ़ीसदी थी जो 2016-2020 के बीच 17.3 फ़ीसदी हो गयी। 

रिपोर्ट कहती है कि भारत में कोरोना और इसे रोकने के लिए लगाए गए प्रतिबंधों के कारण लोगों पर बुरी मार पड़ी है और भारत में बच्चों की वेस्टिंग दर दुनिया में सबसे ज़्यादा है। 

रिपोर्ट कहती है कि भूख के ख़िलाफ़ जो लड़ाई है, वह पटरी से उतरती दिख रही है। 

हुक्मरानों पर सवाल 

वैश्विक भूख सूचकांक 2021 की रिपोर्ट मुल्क़ के हुक्मरानों को भी आईना दिखाती है क्योंकि मुल्क़ की जो तसवीर आम लोगों को दिखाई जा रही है, उसमें बताया जा रहा है कि कोरोना महामारी की मार के बावजूद हिंदुस्तान बहुत तेज़ी से आगे बढ़ रहा है लेकिन वैश्विक संस्थाओं की ओर से तैयार की गई यह हुक्मरानों को बेनकाब करती है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें