loader

आरोग्य सेतु: सरकार को क्यों सफ़ाई देनी पड़ी कि डाटा सुरक्षा को कोई ख़तरा नहीं?

'आधार' ऐप में गड़बड़ियाँ उजागर करने वाले फ़्रांसीसी हैकर ने दावा किया है कि आरोग्य सेतु ऐप में डाटा सुरक्षित नहीं हैं और क़रीब 9 करोड़ भारतीयों की निजता ख़तरे में है।  हैकर के इस दावे के जवाब में सरकार को सफ़ाई जारी करनी पड़ी। सरकार ने इसे सिरे से खारिज कर दिया और कहा है कि इसमें कोई भी सुरक्षा चूक नहीं है। इसने कहा कि उस हैकर द्वारा किसी भी यूज़र के बारे में कोई ऐसी जानकारी नहीं दी गई है जिससे सिद्ध हो कि लोगों का डाटा ख़तरे में है। 

आरोग्य सेतु ऐप पर इसलिए विवाद हो रहा है कि शुरू से ही इसमें डाटा की सुरक्षा और निजता को लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं। अभिव्यक्ति और निजता को लेकर काम करने वाली संस्था इंटरनेट फ्रीडम फाउंडेशन यानी आईएफ़एफ़ ने कहा है कि इस ऐप में कई कमियाँ हैं। सुरक्षा चिंताओं को लेकर सवालों के उठने के बीच ही केंद्र सरकार ने सभी सरकारी विभागों और सभी निजी कंपनियों से भी कहा है कि वे सब अपने अपने कर्मचारियों के लिए इसे मोबाइल पर डाउनलोड करना अनिवार्य कर दें। दिल्ली से सटे नोएडा में तो प्रशासन ने मोबाइल में इस ऐप को इंस्टॉल नहीं करने पर तो दंडनीय अपराध बना दिया है। नोएडा और ग्रेटर नोएडा में अगर कोई बाहर दिखता है और उसके स्मार्टफ़ोन पर इस ऐप को नहीं पाया जाता है तो उसपर जुर्माना लगाया जा सकता है या जेल की सजा दी जा सकती है। ऐसा तब है जब इस ऐप को लॉन्च करते समय कहा गया था कि यह पूरी तरह स्वैच्छिक रहेगा। 

ताज़ा ख़बरें

दरअसल, आरोग्य सुरक्षा ऐप में डाटा सुरक्षा को लेकर यह ताज़ा मामला तब आया जब फ़्रांस में इथिकल हैकर यानी नैतिक रूप से सही हैकिंग करने वाले के तौर पर पहचाने जाने वाले इलिएट एल्डर्सन ने इस ऐप में सुरक्षा को लेकर चेतावनी दी। एल्डर्सन ने कांग्रेस नेता राहुल गाँधी को टैग करते हुए लिखा, 'हेलो, आरोग्य सेतु, आपके ऐप में एक सुरक्षा समस्या पाई गई है। 90 मिलियन भारतीयों की गोपनीयता दाँव पर है। क्या आप मुझसे निजी संपर्क कर सकते हैं? सादर। राहुल गाँधी सही थे।'

इस ट्वीट के बाद हैकर ने जानकारी दी कि भारत सरकार ने उनसे संपर्क साधा है। इसके बाद एक अन्य ट्वीट में हैकर ने कहा, '90 मिलियन भारतीयों के मेडिकल डेटा को रखना विकल्प नहीं है। मुझे ज़्यादा धैर्य नहीं है, इसलिए एक उचित समय सीमा के बाद, मैं इसका खुलासा करूँगा, चाहे आप इसे दुरुस्त करें या नहीं।'

हैकर के दावे के बाद आरोग्य सेतु के ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर जवाब दिया गया कि जो भी चिंताएँ जताई गई हैं उनमें कोई दम नहीं है। इसमें हर मुद्दे पर सफ़ाई पेश की गई। इसके बाद एल्डर्सन ने ट्वीट किया, 'मूल रूप से आपने कहा कि यहाँ कुछ भी देखने लायक नहीं है। हम देखेंगे। मैं कल वापस आपसे संपर्क करूँगा।'

इथिकल हैकर एल्डर्सन ने राहुल गाँधी की जिन चिंताओं का जिक्र किया है उसे उन्होंने दो मई को उठाया था। राहुल ने इसको लेकर ट्वीट किया था, 'यह ऐप निगरानी करने वाली काफ़ी उन्नत प्रणाली है जिसे आउटसोर्स कर निजी ऑपरेटर के हाथों में दे दिया गया है और इस पर कोई संस्थागत निरीक्षण नहीं है। इससे डाटा और लोगों की गोपनीय जानकारियों की सुरक्षा के लिए गंभीर ख़तरा की आशंका है। प्रौद्योगिकी हमें सुरक्षित रखने में मदद कर सकती है; लेकिन नागरिकों की सहमति के बिना भय का लाभ उठाने के लिए उनको ट्रैक नहीं किया जाना चाहिए।'

इसके बाद केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने ट्वीट किया था, 'हर रोज़ एक नया झूठ। आरोग्य सेतु एक शक्तिशाली साथी है जो लोगों की सुरक्षा करता है। इसमें एक मज़बूत डेटा सुरक्षा आर्किटेक्ट है। जो लोग अपने पूरे जीवन निगरानी करने में जुटे रहे, वे नहीं जानते कि अच्छे के लिए तकनीक का लाभ कैसे उठाया जा सकता है!'

देश से और ख़बरें

बता दें कि सरकार ने कहा है कि आरोग्य सेतु ऐप से कोरोना वायरस की कड़ी को तोड़ने में मदद मिलेगी और वायरस को फैलने से रोका जा सकता है। कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों के संपर्क में आने वाले लोगों का पता लगाने के लिए इस ऐप को केंद्र सरकार द्वारा तैयार किया गया है। इस ऐप को 2 अप्रैल को लॉन्च किया गया था। यह ऐप ब्लू टूथ और लोकेशन डाटा के आधार पर ऐप का प्रयोग करने वाले की स्थिति पर निगरानी रखती है और यह भी कि वह किन-किन व्यक्तियों के संपर्क में आया है। 

इस ऐप के उपयोग करने वाले लोगों के 30 दिन के अंदर संपर्क में आए लोगों का डाटा सर्वर पर रखा जाता है। ऐसे में किसी कोरोना पॉजिटिव केस के आने पर या कोरोना फैलने का ख़तरा होने पर यह उस व्यक्ति के संपर्क में आए सभी लोगों को एलर्ट भेज देता है। हालाँकि इस ऐप से फ़ायदे के बीच ही साइबर सुरक्षा से जुड़े विशेषज्ञ निजी सूचना की सुरक्षा को लेकर चिंताएँ जता रहे हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें