loader

आरक्षण में क्रीमी लेयर की सीमा 8 लाख से बढ़ाएगी सरकार?

केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा है कि वह आर्थिक रूप से कमज़ोर वर्ग (ईडब्लूएस) के लोगों को आरक्षण देने के मामले में क्रीमी लेयर के लिए सालाना आठ लाख रुपए की सीमा पर पुनर्विचार करेगी।

सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने केंद्र सरकार का पक्ष रखते हुए इसके लिए चार हफ़्तों का समय भी माँगा। 

जस्टिस डी. वाई. चंद्रचूड़ की बेंच से मेहता ने कहा कि इसे देखते हुए एनईईटी की कौंसिलिंग फिलहाल रोक दी जाएगी। इस बेंच में जस्टिस सूर्यकांत और जस्टिस विक्रम नाथ भी शामिल हैं।

govt may increase creamy layer limit for EWS or economically weaker section - Satya Hindi

सरकार को चुनौती

बता दें कि कुछ परीक्षार्थियों ने आर्थिक रूप से कमज़ोर लोगों को मेडिकल के कोर्स में दाखिले में 10 प्रतिशत आरक्षण देने के केंद्र सरकार और मेडिकल कौंसिल के नोटिस को चुनौती दे रखी है।

इसके पहले सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से सवाल किया कि था आर्थिक तौर पर कमजोर वर्ग (ईडब्ल्यूएस) के लिए आठ लाख रुपए सलाना आमदनी से कम आमदनी का जो मानदंड तय किया गया है, उस पर उसने क्या किया है। सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से कहा कि वह बताए कि इसके पीछे क्या आधार है। सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से पूछा था कि आठ लाख रुपये की आमदनी के मानदंड पर क्या वह दुबारा विचार करेगी। 

ख़ास ख़बरें

अदालत ने केंद्र सरकार से यह भी पूछा कि क्या यह फ़ैसला अगले साल से लागू हो सकेगा। इस पर सॉलिसिटर जनरल ने कहा कि सरकार लिए मुश्किल हो सकता है क्योंकि जो भी होगा वह संविधान के संशोधन के तहत होगा। 

समझा जाता है कि सरकार आठ लाख रुपए की सीमा को बढ़ा कर 10 लाख करना चाहती है, कुछ लोग 12 लाख रुपए करने की माँग भी कर रहे हैं। इसकी पूरी संभावना है कि सरकार आठ लाख की सीमा को बढ़ा दे।

इस मामले पर अगली सुनवाई 6 जनवरी को होगी। 

बता दें कि पहले 25 अक्टूबर को नीट पीजी 2021 काउंसलिंग होनी थी। लेकिन यह मामला टलता गया और अब तक कोई फ़ैसला नहीं हो पाया है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें