loader

अहमद पटेल के इशारे पर तीस्ता ने रची थी गुजरात सरकार को गिराने की साजिश: SIT

2002 के गुजरात दंगों से जुड़े एक मामले की जांच कर रही गुजरात की स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम यानी एसआईटी ने अमहदाबाद की एक अदालत के सामने हलफनामा दिया है। एसआईटी ने हलफनामे में कहा है कि सामाजिक कार्यकर्ता तीस्ता सीतलवाड़ एक बड़ी साजिश का हिस्सा थीं और उन्होंने कांग्रेस के दिवंगत नेता अहमद पटेल की मदद से 2002 में नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली गुजरात की बीजेपी सरकार को गिराने की साजिश रची थी।

एसआईटी ने कहा है कि तीस्ता सीतलवाड़ के साथ ही पूर्व डीजीपी आरबी श्रीकुमार और पूर्व आईपीएस अफसर संजीव भट्ट भी इस साजिश का हिस्सा थे और किसी भी तरीके से तत्कालीन राज्य सरकार को गिराना चाहते थे। बताना होगा कि उस वक्त नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे।

गवाहों के बयानों का हवाला देते हुए एसआईटी ने कहा है कि कांग्रेस नेता अहमद पटेल के इशारे पर यह साजिश रची गई थी और गोधरा में हुए दंगों के बाद अहमद पटेल के इशारे पर ही तीस्ता सीतलवाड़ को 30 लाख रुपये मिले थे।

ताज़ा ख़बरें
अहमदाबाद की सेशन कोर्ट के सामने दाखिल किए हलफनामे में एसआईटी ने कहा है कि तीस्ता सीतलवाड़ को गुजरात के एक विपक्षी राजनीतिक दल की ओर से वित्तीय सहायता और कई दूसरी तरह की मदद मिलती थी।
Gujarat Police SIT report Teesta Setalvad part to topple government - Satya Hindi

तीस्ता सीतलवाड़ को कुछ दिन पहले गुजरात दंगों के मामले में सबूतों को कथित रूप से गढ़ने से छेड़छाड़ करने को लेकर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था उनके साथ ही पूर्व पुलिस महानिदेशक आरबी श्रीकुमार को भी गिरफ्तार किया गया था।

हलफनामे में एसआईटी ने दावा किया है कि तीस्ता सीतलवाड़ उस वक्त दिल्ली की हुकूमत में बैठी पार्टी के नेताओं से मिलती रहती थीं और वह गुजरात की बीजेपी सरकार के तत्कालीन मुख्यमंत्री और कई वरिष्ठ नेताओं को दंगों के मामले में फंसाना चाहती थीं।

एक और गवाह के दावों का हवाला देते हुए एसआईटी ने कहा है कि तीस्ता सीतलवाड़ ने 2006 में कांग्रेस के एक नेता से पूछा था कि पार्टी सिर्फ शबाना और जावेद को ही मौका क्यों दे रही है और उन्हें राज्यसभा का सदस्य क्यों नहीं बनाया जा रहा है।

जमानत का किया विरोध 

एसआईटी ने इस दौरान तीस्ता सीतलवाड़ की ओर से जमानत के लिए लगाई गई याचिका का विरोध किया और कहा कि उनके खिलाफ अभी जांच जारी है और अगर उन्हें रिहा कर दिया जाता है तो वह गवाहों को डरा सकती हैं और सुबूतों के साथ छेड़छाड़ कर सकती हैं। जज ने एसआईटी के हलफनामे को रिकॉर्ड पर रखते हुए कहा कि मामले की सुनवाई अब सोमवार को होगी।

Gujarat Police SIT report Teesta Setalvad part to topple government - Satya Hindi

क्लीन चिट रखी थी बरकरार

बीते महीने सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात दंगों के मामले में तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को एसआईटी के द्वारा दी गई क्लीन चिट को बरकरार रखा था और कांग्रेस के पूर्व सांसद एहसान जाफरी की पत्नी जाकिया जाफरी की याचिका को खारिज कर दिया था।

अपनी याचिका में जाकिया जाफरी ने मांग की थी कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, सीनियर पुलिस अफसरों और नौकरशाहों सहित 64 लोगों को 2002 के दंगों की साजिश रचने के लिए अभियुक्त बनाया जाए। 

देश से और खबरें

इसके बाद 25 जून को अहमदाबाद में एक एफआईआर दर्ज की गई थी और इसमें तीस्ता सीतलवाड़, आरबी श्रीकुमार और संजीव भट्ट का नाम शामिल किया गया था। एफआईआर में कहा गया था कि इन तीनों ने ही दंगों से संबंधित फर्जी सुबूत गढ़े हैं और साजिश रची है। 

गुजरात में साल 2002 में दंगे हुए थे और दंगों की जांच के लिए बनी एसआईटी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को क्लीन चिट दी थी। उस वक्त नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे। 

बड़े नेता थे अहमद पटेल 

बता दें कि अहमद पटेल कांग्रेस के दिग्गज नेताओं में शुमार थे और नवंबर 2020 में कोरोना संक्रमित होने के बाद उनका निधन हो गया था। सोनिया गांधी के राजनीतिक सचिव और कांग्रेस के कोषाध्यक्ष रहे अहमद पटेल पार्टी के संकटमोचकों में शुमार थे और पार्टी के सांगठनिक मामलों को देखते थे। अहमद पटेल गुजरात से ही आते थे। 2014 में कांग्रेस की सरकार जाने के बाद अहमद पटेल पार्टी को एकजुट करने के काम में जुटे थे और उन्होंने ही एकला चलो का नारा देने वाली कांग्रेस को गठबंधन की राजनीति की जरूरत समझाई थी। इसके बाद 2004 में एक बड़ा गठबंधन कांग्रेस ने बनाया था और 2014 तक सरकार चलाई थी। 

2014 में सरकार बदलने के बाद अहमद पटेल के खिलाफ इनकम टैक्स, सीबीआई और ईडी जैसी केंद्रीय एजेंसियों ने कई बार कार्रवाई की थी। अहमद पटेल के बारे में कहा जाता था कि उनका केंद्रीय गृह मंत्री और गुजरात से ही आने वाले अमित शाह के साथ 36 का आंकड़ा था। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें