loader

राहुल के ट्वीट पर हर्षवर्द्धन का पलटवार, कहा, लाशों पर राजनीति  करती है कांग्रेस

सरकारी आँकड़ों के मुताबिक कोरोना महामारी से तीन लाख से अधिक लोगों की मौत होने के बावजूद केंद्र सरकार उससे निपटने के लिए आलोचकों की सलाह लेने या उनसे बात करने के बजाय उन पर ज़ोरदार हमले करने की नीति पर चल रही है।

इसे इससे समझा जा सकता है कि कोरोना से मौतों की संख्या से जुड़े  राहुल गांधी के ट्वीट पर स्वास्थ्य मंत्री ने बेहद तीखा हमला बोलते हुए कहा कि कांग्रेस गिद्ध की तरह है जो लाशों पर राजनीति करती है।

उन्होंने महामारी से हो रही मौतों से न इनकार किया, न इसे रोकने के लिए किसी रणनीति का एलान किया, पर यह ज़रूर कहा कि लाशों पर राजनीति करना कोई कांग्रेस  से सीखे।

ख़ास ख़बरें

'लाशों पर राजनीति'

हर्षवर्द्धन ने कहा, 'लाशों पर राजनीति, कांग्रेस स्टाइल! पेड़ों पर से गिद्ध भले ही लुप्त हो रहे हों, लेकिन लगता है उनकी ऊर्जा धरती के गिद्धों में समाहित हो रही है। राहुल गांधी जी को दिल्ली से अधिक न्यूयॉर्क पर भरोसा है। लाशों पर राजनीति करना कोई धरती के गिद्धों से सीखे।'

स्वास्थ्य मंत्री ने कांग्रेस के इस पूर्व अध्यक्ष के उस ट्वीट पर जवाब दिया है जिसमें उन्होंने न्यूयॉर्क टाइम्स में छपी एक ख़बर के हवाले से कहा कि 'संख्या झूठ नहीं बोलते, भारत सरकार झूठ बोलती है।'

क्या है मामला?

बता दें कि 'न्यूयॉर्क टाइम्स' ने एक ख़बर छापी है जिसमें यह कहा गया है कि भारत सरकार कोरोना से जितने लोगों के मारे जाने की बात कहती है, उससे कई गुणा अधिक लोग मारे गए हैं। 

अमेरिका से छपने वाले इस अख़बार ने कई सर्वेक्षणों और संक्रमण के दर्ज आँकड़ों के आकलन के आधार पर कहा है कि भारत में आधिकारिक तौर पर क़रीब 3 लाख मौतें बताई जा रही हैं, पर दरअसल मरने वालों की संख्या 6 लाख से लेकर 42 लाख के बीच होगी।

आख़िर 'न्यूयॉर्क टाइम्स' ने इसका आकलन कैसे किया? 

'न्यूयॉर्क टाइम्स' का आकलन भारत में स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी किए गए आँकड़ों का भी इस्तेमाल करता है। लेकिन सबसे प्रमुख तौर पर इसने सीरो सर्वे की रिपोर्ट को आधार बनाया है। इसने भारत में कराए गए तीन सीरो सर्वे यानी देशव्यापी एंटीबॉडी टेस्ट के नतीजों का इस्तेमाल किया।

कोरोना और उससे हो रही मौत पर बीजेपी, उसके नेता और उसकी सरकार के लोग लगातार झूठ बोल रहे हैं? क्या है मामला? देखें वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष का क्या कहना है। 

सरकार की आलोचना

बता दें कि इसके पहले प्रतिष्ठित पत्रिका 'द इकोनॉमिस्ट' ने कोरोना से लड़ने के मुद्दे पर भारत सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तीखी आलोचना की थी।

 इसने लिखा था कि जब कोरोना की दूसरी लहर से देश त्रस्त था तब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ग़ायब थे। 'द इकोनॉमिस्ट' में प्रकाशित तीखे लेख में कहा गया है कि प्रधानमंत्री को लाइमलाइट पसंद है, लेकिन तभी जब चीजें ठीक चल रही हों। इसने साफ़-साफ़ लिखा है कि जब हालात अच्छे नहीं होते हैं तो प्रधानमंत्री नहीं दिखते हैं। 

ऐसा ही एक लेख 'आउटलुक' मैगज़ीन में भी हाल में छपा था जिसका शीर्षक था 'भारत सरकार लापता।' हालाँकि कई लोगों ने इस पर सवाल उठाए थे कि इस मैगज़ीन ने प्रधानमंत्री का नाम क्यों नहीं लिया। 

लेकिन ऐसे लोगों की 'द इकोनॉमिस्ट' मैगज़ीन के इस लेख को लेकर ऐसी कोई शिकायत नहीं होगी क्योंकि इसमें साफ़-साफ़ प्रधानमंत्री के नाम का कई जगहों पर उल्लेख किया गया है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें