loader

धर्म संसद: SC ने कहा- बेहतर हलफ़नामा दायर करे दिल्ली पुलिस 

दिल्ली में बीते साल हुई धर्म संसद के मामले में शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली पुलिस से कहा है कि वह एक बेहतर हलफ़नामा अदालत के सामने रखे। दिल्ली पुलिस ने बीते हफ्ते सुप्रीम कोर्ट से कहा था कि दिल्ली में बीते साल हुई धर्म संसद में किसी भी समुदाय के खिलाफ भड़काऊ बयानबाजी नहीं की गई थी। दिल्ली में यह धर्म संसद बीते साल 19 दिसंबर को हुई थी और इसमें भड़काऊ बयानबाजी होने की बात सामने आई थी। 

यह धर्म संसद हिंदू युवा वाहिनी की ओर से कराई गई थी और इसमें भारत को हिंदू राष्ट्र बनाने की बात कही गई थी।

सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली पुलिस के जवाब को लेकर निराशा जाहिर की। अदालत ने दिल्ली पुलिस से कहा कि वह 4 मई से पहले इस मामले में एक और हलफ़नामा दे।

दिल्ली पुलिस ने कहा कि वह अपने हलफ़नामे को फिर से देखेगी।

ताज़ा ख़बरें

सुनवाई के दौरान सीनियर एडवोकेट कपिल सिब्बल ने कहा कि दिल्ली पुलिस ने अपने हलफ़नामे में कहा है कि धर्म संसद में भाषण देने वालों का मकसद उनके समुदाय की नैतिकता को बचाना था। उन्होंने कहा कि इस बात का आखिर क्या मतलब है।

इसके बाद जस्टिस एएम खानविलकर ने कहा, “यह हलफ़नामा दिल्ली पुलिस के डीसीपी ने दायर किया है। क्या वह इससे सहमत हैं या उन्होंने सब इंस्पेक्टर स्तर के किसी पुलिस अफसर की जांच रिपोर्ट को फिर से तैयार करके अदालत के सामने रख दिया है।” 

दिल्ली पुलिस ने सुप्रीम कोर्ट से कहा था कि उसने आरोपों की पूरी गहराई से जांच की और इस धर्म संसद के वीडियो और दूसरी सामग्रियों को भी देखा और यह पाया कि किसी भी समुदाय के खिलाफ कोई नफरत वाली बयानबाजी नहीं की गई है। 

और इसलिए जांच के आधार पर धर्म संसद को लेकर दायर सभी शिकायतों को खारिज कर दिया गया है। पुलिस ने अपने हलफ़नामे में पुलिस से पहले सुप्रीम कोर्ट आने के लिए याचिकाकर्ताओं पर सवाल उठाया था। 

देश से और खबरें

दिल्ली पुलिस ने हलफनामे में कहा था कि याचिकाकर्ताओं के इस तरह के आरोप कि पुलिस और भड़काऊ बयानबाजी करने वाले लोगों के बीच में कोई मिलीभगत है, यह पूरी तरह बेबुनियाद और कल्पनाओं पर आधारित है।

जबकि याचिकाकर्ताओं ने कहा था कि दिल्ली पुलिस के द्वारा धर्म संसद को लेकर दी गई शिकायत के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं की गई जबकि इसमें समुदाय विशेष के लिए नरसंहार की बातें कही गई थी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें