loader

12 सितंबर तक गोगरा-हॉटस्प्रिंग से हट जाएंगी भारत-चीन की सेनाएं 

गोगरा और हॉटस्प्रिंग के इलाकों में भारत और चीन की सेनाएं पीछे हटने की प्रक्रिया को 12 सितंबर तक पूरा कर लेंगी। भारत के विदेश मंत्रालय ने शुक्रवार को एक बयान जारी कर यह बात कही है। गुरुवार को ही दोनों देशों की सेनाओं ने घोषणा की थी कि उन्होंने गोगरा और हॉटस्प्रिंग के इलाकों के पेट्रोलिंग पॉइंट 15 से पीछे हटने का काम शुरू कर दिया है। गलवान की झड़प के बाद से ही यहां पर दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने थीं। 

बताना होगा कि साल 2020 मई में पूर्वी लद्दाख के गलवान में भारत और चीन के सैनिकों के बीच जबरदस्त हिंसक झड़प हुई थी। इस झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हुए थे जबकि चीन लंबे वक्त तक इस बात से इनकार करता रहा कि गलवान में हुई झड़प में उसके किसी सैनिक की मौत हुई है लेकिन बाद में उसने स्वीकार किया था कि उसके 4 सैनिक इस झड़प में मारे गए हैं। 

38 चीनी सैनिक मारे गए?

फरवरी 2022 में एक ऑस्ट्रेलियाई अखबार 'द क्लैक्सन' ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि गलवान में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प में चीन के 38 जवान मारे गए थे। यह रिपोर्ट 1 साल की लंबी पड़ताल के बाद तैयार की गई थी। अखबार ने अपनी रिपोर्ट में चीन के ब्लॉगर्स, चीनी नागरिकों से मिली जानकारी और चीनी अफसरों के द्वारा डिलीट कर दी गई मीडिया रिपोर्ट्स को शामिल किया था।

India China to complete disengagement in Gogra Hotsprings - Satya Hindi

बहरहाल, विदेश मंत्रालय ने अपने बयान में कहा है कि दोनों पक्ष इस बात पर सहमत हुए हैं कि बाकी मुद्दों पर उनकी वार्ता जारी रहेगी जिससे एलएसी पर शांति बहाली हो सके। बताना होगा कि गलवान में हुई झड़प के बाद भारत और चीन के सैन्य कमांडर्स के बीच कई दौर की वार्ता चली थी। इस दौरान दोनों देशों की सेनाएं तमाम बख्तरबंद वाहनों, रॉकेट और मिसाइलों के साथ पूरी ताकत से सीमा पर डटी रहीं। 

पीटीआई के मुताबिक, मंत्रालय ने अपने बयान में कहा है कि दोनों पक्षों द्वारा इस इलाके में बनाए गए सभी अस्थाई ढांचों को गिरा दिया जाएगा और इसे दोनों पक्षों द्वारा प्रमाणित भी किया जाएगा। मंत्रालय ने कहा है कि अब इस इलाके में गलवान में हुई झड़प से पहले वाले हालात को बहाल किया जाएगा।

एलएसी के उल्लंघन का आरोप 

गलवान में हुई मुठभेड़ के बाद दोनों देशों ने एक-दूसरे पर एलएसी का उल्लंघन करने के आरोप लगाए थे। इस बीच कई बार इस तरह की सैटेलाइट तस्वीरें सामने आईं जिनसे पता चला कि चीन एक तरफ़ तो बातचीत से सीमा विवाद के मुद्दे को हल करने का दिखावा कर रहा है और दूसरी तरफ़ वह अरुणाचल प्रदेश में अवैध निर्माण कर रहा है। 

देश से और खबरें

इस साल मई में खबर आई थी कि चीन ने रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण पैंगोंग त्सो झील पर एक और पुल का निर्माण शुरू कर दिया है। इससे कुछ महीने पहले ही वहां चीन द्वारा एक और पुल बनाए जाने की ख़बर आई थी। 

इसके अलावा सैटेलाइट तस्वीरों से पता चला था कि डोकलाम पठार से 9 किमी पूर्व में एक चीनी गांव पूरी तरह बस गया है। इस इलाके में 2017 में भारतीय और चीनी सेना का आमना-सामना हुआ था।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें