loader

चिन्ता...पूर्वी लद्दाख में 26 प्वाइंट्स पर भारत की गश्त नहींः रिपोर्ट

भारत-चीन के बीच जारी विवाद के बीच पूर्वी लद्दाख इलाके से चिन्ताजनक सूचना है। एक रिपोर्ट में कहा गया है कि पूर्वी लद्दाख इलाके में 65 पेट्रोल प्वाइंट्स में से 26 पेट्रोल प्वाइंट्स पर अब भारतीय सेना गश्त नहीं कर रही है। यानी इसका मतलब ये है कि बॉर्डर पर 26 गश्त वाली जगहों पर अब भारतीय सेना गश्त नहीं कर पा रही है और वे इलाके चीन में कथित तौर पर चले गए हैं। द हिन्दू ने अपनी रिपोर्ट में इसका खुलासा करते हुए दावा किया है कि उसने इससे संबंधित दस्तावेजों को भी देखा है। बीजेपी नेता सुब्रह्मण्यम स्वामी ने आज 25 जनवरी को सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने पीएम मोदी के उस जुमले की याद दिलाई है - हमारी सीमा में न कोई घुसा था और घुसा है।
दिल्ली में पिछले हफ्ते वार्षिक पुलिस बैठक में पेश रिसर्च पेपरों को द हिंदू अखबार ने देखा है। उसके अनुसार, पूर्वी लद्दाख में 65 पेट्रोलिंग पॉइंट्स (पीपी) में से 26 तक भारत की पहुंच खत्म हो गई है। आगे के क्षेत्रों में जिला प्रशासन और स्थानीय लोगों की आवाजाही को प्रतिबंधित कर दिया गया है। इसमें कहा गया है कि चाइनीज पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के साथ परेशानी से बचने के लिए ऐसा किया गया है। पीपी 15 और 16 में हाल के समझौतों के नतीजे में गोगरा पहाड़ियों, पैंगोंग त्सो के उत्तरी तट और काकजंग क्षेत्रों में चरागाह भूमि का नुकसान हुआ है। 
ताजा ख़बरें
द हिन्दू के मुताबिक इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) के वार्षिक पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) सम्मेलन में यह पेपर चर्चा के लिए नहीं आया, जो 20-22 जनवरी तक आयोजित की गई थी। इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने हिस्सा लिया था। हालांकि यह पेपर देशभर के पुलिस अधिकारियों द्वारा 'बिना बाड़ वाली भूमि सीमा से संबंधित सुरक्षा मुद्दे' पर पेश 15 रिसर्च पेपर में से एक था।

द हिंदू ने 22 दिसंबर, 2022 को खबर दी थी कि वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के साथ पूर्वी लद्दाख में कम से कम 30 पीपी हैं, जहां अब भारतीय सैनिक गश्त नहीं कर रहे हैं।
इन प्वाइंट्स पर अप्रैल-मई 2020 से पहले नियमित रूप से गश्त की जाती थी, जब चीन ने पूर्वी लद्दाख में एलएसी के करीब सैनिकों को इकट्ठा करना शुरू कर दिया था। 15 जून, 2020 को पीएलए के साथ हुई हिंसक झड़प में 20 भारतीय सैनिक मारे गए थे। चीन के कम से कम चार सैनिक भी मारे गए।
द हिन्दू के मुताबिक इस पेपर में कहा गया है: वर्तमान में, काराकोरम दर्रे से लेकर चुमुर तक 65 पीपी हैं, जिन्हें आईएसएफ (भारतीय सुरक्षा बल) द्वारा नियमित रूप से गश्त किया जाना है। 65 पीपी में से 26 पीपी (यानी पीपी नंबर 5-17, 24-32, 37, 51,52,62) में हमारी उपस्थिति आईएसएफ द्वारा गश्त नहीं करने के कारण खो गई है। बाद में, चीन ने हमें इस तथ्य को स्वीकार करने के लिए मजबूर किया कि ऐसे क्षेत्रों में लंबे समय से आईएसएफ या नागरिकों की उपस्थिति नहीं देखी गई है, जबकि चीनी इन क्षेत्रों में मौजूद थे।
इंच-दर-इंच जमीन हड़पने की पीएलए की इस रणनीति को सलामी स्लाइसिंग के नाम से जाना जाता है।

एक रक्षा सूत्र ने द हिंदू को बताया कि पूर्वी लद्दाख में एलएसी पर फिजिकल गश्त या तकनीकी साधन जबरदस्त ढंग से मौजूद हैं। "डिसइंगेजमेंट के कारण क्षेत्र का कोई नुकसान नहीं हुआ है। कुछ क्षेत्रों को विवादों के राजनयिक समाधान होने तक दोनों पक्षों की गश्त के लिए प्रतिबंधित कर दिया गया है। कोई चारागाह भूमि नष्ट नहीं हुई है। भारत की सुरक्षित रणनीति यह है कि वे विवादित बताए जा रहे क्षेत्रों पर आपत्ति जताने का मौका देकर पीएलए को नाराज नहीं करना चाहते।
देश से और खबरें
द हिन्दू ने कहा: “सितंबर 2021 तक, जिला प्रशासन और सुरक्षा बलों के वरिष्ठ अधिकारी डीबीओ सेक्टर में काराकोरम दर्रे (दौलत बेग ओल्डी से 35 किमी) तक आसानी से गश्त कर रहे थे। काराकोरम दर्रे की ओर डीबीओ में ही दिसंबर 2021 में पीएलए ने कैमरे लगाए थे।
चंगथांग क्षेत्र (रेबोस) के खानाबदोश समुदाय के लिए बिना बाड़ वाली सीमाएं चारागाह के रूप में काम कर रही हैं और समृद्ध चरागाहों की कमी को देखते हुए, वे परंपरागत रूप से पीपी के करीब के क्षेत्रों में पशुओं को चराते रहेंगे।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें