loader

कोरोना: वैक्सीन के अलावा अब निगलने वाली गोली को भी मंजूरी

भारत में मंगलवार को पहली एंटी-वायरल कोविड-19 गोली मोलनुपिरवीर को मंजूरी मिली है। भारत में यह दवा 13 भारतीय दवा निर्माताओं द्वारा तैयार की जाएगी। भारतीय दवा नियामक ने भारत में इस दवा को कोरोना के वयस्क रोगियों और जिनमें बीमारी बढ़ने का ज़्यादा ख़तरा होगा उनके इलाज के लिए मंजूरी दी है। इस दवा के साथ ही दो और वैक्सीन को भी भारत में मंजूरी दी गई है। 

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. मनसुख मंडाविया ने कहा है कि कोरोना के ख़िलाफ़ लड़ाई को मज़बूती देने के लिए एक दिन में तीन मंजूरियाँ दी गई हैं। उन्होंने कहा है कि कॉर्बेवैक्स व कोवोवैक्स वैक्सीन और एंटी वायरल मोलनुपिरवीर की दवा को हरी झंडी दी गई है।

बहरहाल, अमेरिका की बायोटेक्नोलॉजी कंपनी रिजबैक बायोथेरेप्यूटिक्स ने यूएस फार्मा दिग्गज मर्क के सहयोग से कोरोना की इस दवा को विकसित किया है। मोलनुपिरवीर को शुरू में इन्फ्लूएंजा के इलाज के लिए विकसित किया गया था। लेकिन बाद में कोरोना रोगियों के इलाज के लिए इसे नये सिरे से तैयार किया गया है। 

मोलनुपिरवीर एक ऐसी एंटी-वायरल गोली है जो कोरोना वायरस के आनुवंशिक कोड में गड़बड़ियाँ डालने का काम करती है। इस वजह से वायरस का बढ़ना रुक जाता है। मोलनुपिरवीर को 200 मिलीग्राम के 4 कैप्सूल को हर 12 घंटे में मुंह से निगलना होता है। इसके लिए पांच दिनों तक 40 कैप्सूल की पूरी खुराक है। 

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि एंटी-वायरल दवा मोलनुपिरवीर का निर्माण भारत में 13 कंपनियों द्वारा किया जाएगा। 

ताज़ा ख़बरें

यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने हाल ही में मर्क के मोलनुपिरवीर को वयस्कों में उन हल्के से मध्यम लक्षण वाले कोरोना मरीज़ों के इलाज के लिए अनुमति दी है जिन्हें गंभीर बीमारी का ख़तरा है। इससे पहले नवंबर में ब्रिटेन ने मर्क की इस दवा को सशर्त मंजूरी दी थी। ऐसा करने वाला ब्रिटेन पहला देश था।

क्लिनिकल ट्रायल में कहा गया है कि बीमारी के शुरुआती दौर में उच्च जोखिम वाले मरीज़ों में यह दवा अस्पताल में भर्ती होने और मृत्यु को लगभग 30 प्रतिशत तक कम करती है।

देश से और ख़बरें

इन दो वैक्सीन को मंजूरी

आज कॉर्बेवैक्स और कोवोवैक्स के आपातकालीन इस्तेमाल को मंजूरी मिली है। कॉर्बेवैक्स भारत का पहला स्वदेशी आरबीडी प्रोटीन सब-यूनिट वैक्सीन है। इसे हैदराबाद की फर्म बायोलॉजिकल-ई ने बनाया है। नैनोपार्टिकल वैक्सीन कोवोवैक्स का निर्माण पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ़ इंडिया द्वारा किया जाएगा।

इन दोनों वैक्सीन की मंजूरी के साथ ही अब तक भारत में आठ वैक्सीन को मंजूरी मिल चुकी है। कोविशील्ड, कोवैक्सीन, जायकोव-डी, स्पुतनिक वी, मॉडर्ना और जॉन्सन एंड जॉन्सन को पहले ही मंजूरी मिल चुकी है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें