loader

ओमिक्रॉन के ख़तरे पर बोले गुलेरिया- किसी भी हालात के लिए रहें तैयार 

कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के चलते तीसरी लहर आने का अंदेशा बना हुआ है। इस बीच, एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया ने बड़ी टिप्पणी की है। गुलेरिया ने कहा है कि हमें किसी भी तरह के हालात के लिए तैयार रहना चाहिए। 

ब्रिटेन और फ्रांस में बिगड़ रहे हालात के बीच भारत सरकार ने भी इसे लेकर चेताया है और कहा है कि यहां भी अगर इन देशों की तर्ज पर संक्रमण फैला तो 13-14 लाख मामले हर दिन आ सकते हैं। 

डॉ. गुलेरिया ने एएनआई से बातचीत में कहा, “ब्रिटेन में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए भारत को भी तैयारी रखनी चाहिए। हालांकि हमें उम्मीद है कि ब्रिटेन जैसे ख़राब हालात यहां नहीं होंगे। हमें ओमिक्रॉन पर अभी और डाटा की ज़रूरत है।” उन्होंने कहा कि दुनिया के दूसरे देशों में भी अगर इसके मामले बढ़ते हैं तो हमें उस पर ध्यान देने की ज़रूरत है। 

ताज़ा ख़बरें

डॉ. गुलेरिया ने कहा कि यह बेहतर होगा कि हम तैयार रहें बजाए किसी मुसीबत में फंसने के। 

एक स्टडी के मुताबिक़, ओमिक्रॉन डेल्टा से 70 गुना ज़्यादा तेजी से फैलता है और इसे लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) और दुनिया भर के विशेषज्ञ चेता चुके हैं। कुछ ही दिनों में यह संक्रमण दुनिया के लगभग 100 देशों तक पहुंच गया है। 

डब्ल्यूएचओ की चिंता

डब्ल्यूएचओ ने कहा है कि इससे पहले किसी भी वैरिएंट को इस रफ़्तार से फैलते हुए नहीं देखा गया है। डब्ल्यूएचओ इस बात को लेकर चिंतित है कि लोग ओमिक्रॉन को यह कहकर खारिज कर रहे हैं कि इसके लक्षण बेहद हल्के हैं और ऐसा करके हम इसे कम करके आंक रहे हैं। 

डब्ल्यूएचओ ने कहा था कि इस वैरिएंट पर वैक्सीन का असर कम है और यह तेज़ी से फैलता है। 

देश से और ख़बरें

इस बीच, देश के दो बड़े डॉक्टर्स ने कहा है कि ओमिक्रॉन डेल्टा के मुकाबले हल्का होगा। यह फैलेगा जरूर और केस भी ज्यादा होंगे, लेकिन कोरोना की दूसरी लहर जैसा असर नहीं होगा। कोरोना की दूसरी लहर में देश में बदतर हालात बन गए थे। 

एम्स में कम्युनिटी मेडिसिन के प्रोफेसर डॉ. पुनीत मिश्रा ने कहा है कि ओमिक्रॉन डेल्टा वैरिएंट जितना खतरनाक नहीं है। जबकि भारत में कोविड सुपर मॉडल कमेटी के मुखिया प्रोफेसर विद्यासागर ने कहा है कि भारत में ओमिक्रॉन की तीसरी लहर जरूर आएगी लेकिन यह कोविड 19 की दूसरी लहर के मुकाबले हल्की होगी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें