loader
प्रतीकात्मक तसवीर।

दक्षिण अफ्रीका से आया भारतीय दिल्ली से मुंबई पहुंचा, कोरोना पॉजिटिव था

जिस दक्षिण अफ्रीका में कोरोना के नये वैरिएंट ओमिक्रॉन के मिलने से दुनिया भर में एक बार फिर से खौफ फैला है वहां से लौटा एक भारतीय कोरोना संक्रमित होने के बाद भी दिल्ली होते हुए मुंबई पहुँच गया। हालाँकि, अभी तक इसकी पुष्टि नहीं हुई है कि वह शख्स ओमिक्रॉन वैरिएंट से संक्रमित है या नहीं। लेकिन इतना तो तय है कि कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए जिस तरह की चौकसी की ज़रूरत बताई जा रही है उसमें कहीं न कहीं ढिलाई जान पड़ती है। 

यह मामला मुंबई के डोंबिवली के रहने वाले एक 32 वर्षीय व्यक्ति से जुड़ा है। वह 24 नवंबर को दक्षिण अफ्रीका से दिल्ली के रास्ते मुंबई पहुँचे। उनके आगमन पर उनकी रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई। यह रिपोर्ट आने के बाद अब अधिकारी इसकी पड़ताल में लगे हैं कि उस कोरोना पॉजिटिव के साथ यात्रा करने वाले लोग कौन-कौन थे।

ताज़ा ख़बरें

उन सह यात्रियों का जल्द ही पता लगा लिए जाने की अधिकारियों को उम्मीद है। लेकिन सवाल है कि जब तक उनका पता लगाया जाएगा तब तक वह कितने लोगों के संपर्क में आ चुके होंगे और कितने लोगों में संक्रमण फैलने का ख़तरा रहेगा, यह कहना मुश्किल है। 

बता दें कि अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए केंद्र सरकार के 11 नवंबर के दिशानिर्देशों के अनुसार, आगमन पर आरटी-पीसीआर टेस्ट के नमूने जमा किए जाने होते हैं, इसके बाद यात्रियों को हवाई अड्डे से बाहर जाने की अनुमति दी जाती है। यात्रियों को सात दिनों के लिए होम क्वारेंटीन का पालन करना होता है, आठवें दिन अनिवार्य रूप से फिर से जाँच करानी होती है।

बहरहाल, अधिकारियों ने दक्षिण अफ्रीका से आए यात्री के कोरोना संक्रमित होने पर बयान जारी किया है। कल्याण डोंबिवली नगर निगम यानी केडीएमसी की मुख्य चिकित्सा अधिकारी प्रतिभा पनपाटिल ने कहा, 'यात्री ने केप टाउन से दुबई के रास्ते दिल्ली की यात्रा की। उन्होंने दिल्ली में एक सैंपल दिया और उन्हें मुंबई के लिए कनेक्टिंग फ्लाइट में चढ़ने की अनुमति दी गई। मुंबई पहुंचने पर वह पॉजिटिव पाये गये। उनमें लक्षण नहीं दिख रहे हैं और उन्होंने खुद को होम क्वारेंटीन कर लिया था। बाद में निगम ने उन्हें संस्थागत क्वारेंटीन में रखा है।' केडीएमसी अधिकारियों का कहना है कि उन्होंने एयरपोर्ट अधिकारियों को इसको लेकर आगाह कर दिया है। 

देश से और ख़बरें

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, अतिरिक्त मुख्य सचिव (स्वास्थ्य) डॉ. प्रदीप व्यास ने कहा, 'हमने जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए उनके नमूने भेजे हैं ताकि यह पता लगाया जा सके कि वह ओमिक्रॉन वैरिएंट से संक्रमित हैं या नहीं।'

ओमिक्रॉन वैरिएंट पर बढ़ती चिंताओं के बीच, बृहन्मुंबई नगर निगम ने दक्षिण अफ्रीका सहित 'कंट्रीज ऑफ़ कंसर्न्स' से पिछले 15 दिनों में शहर में आने वाले 466 यात्रियों से संपर्क करना शुरू कर दिया है। आरटी-पीसीआर जाँच के लिए उनसे नमूने लिए जाएंगे।

बता दें कि दक्षिण अफ़्रीका में आये नये वैरिएंट के बारे में जो शुरुआती आकलन आया है वह चिंतित करने वाला है। विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी डब्ल्यूएचओ के अनुसार, शुरुआती साक्ष्य से पता चलता है कि जिन लोगों को पहले कोरोना संक्रमण हो चुका है उनको 'ओमिक्रॉन' के फिर से संक्रमण का ख़तरा बढ़ सकता है। ऐसे लोग अधिक आसानी से दोबारा संक्रमित हो सकते हैं।

ख़ास ख़बरें
इस संक्रमण को लेकर पूरी दुनिया सतर्क हो गई है। ब्रिटेन, इटली, जर्मनी जैसे देशों ने दक्षिण अफ्रीका की अपनी उड़ानें रद्द कर दी हैं। भारत में भी अलर्ट जारी किया गया है। ऐसे फ़ैसले तब लिए जा रहे हैं जब इस नये वैरिएंट वाले संक्रमण की पुष्टि दक्षिण अफ्रीका के अलावा बोत्सवाना और हांगकांग जैसे कई देशों में हो चुकी है और इसके मामले लगातार अन्य देशों में भी मिल रहे हैं।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें