loader

महंगाई बढ़ती जा रही, कितनों की हंसी छीन चुकी है मोदी सरकारः राहुल

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आज महंगाई को लेकर मोदी सरकार ने हमला बोला। जनवरी में रिटेल महंगाई दर 6.01 फीसदी पर जा पहुंची है। यह 7 महीने में रेकॉर्ड स्तर है। देश के पांच राज्यों में इस समय विधानसभा चुनाव हो रहे हैं। राहुल का यह बयान इन चुनावों के मद्देनजर बहुत महत्वपूर्ण है। तमाम राज्यों में बीजेपी को महंगाई के मुद्दे के कारण सरकार विरोधी रुख का सामना करना पड़ रहा है।

राहुल गांधी ने आज सुबह किए गए ट्वीट में कहा कि आंकड़ों से साफ़ है- महंगाई बढ़ती जा रही है, आमदनी घटती जा रही है। लेकिन जनता की परेशानी व दर्द को कैसे नापें? कितने परिवार सूखी रोटी खाने पर मजबूर हैं? कितने बच्चों को स्कूल से निकाल लिया गया? कितनी महिलाओं के गहने गिरवी रखे गए? कितनों की हंसी छीन चुकी है मोदी सरकार?

ताजा ख़बरें

राहुल के इस बयान को पीएम मोदी के उस बयान से जोड़कर देखा जा रहा है, जिसमें उन्होंने कल सीतापुर में कहा था कि वो जानते हैं कि गरीबी क्या होती है। वो गरीबी में पलकर ही यहां तक पहुंचे हैं, बाकी लोग तो भाषण देते हैं। राहुल ने आज केंद्र सरकार की दुखती रग महंगाई का उल्लेख कर मोदी के गरीबी वाली बात की काट पेश की है। महंगाई से सिर्फ गरीब ही नहीं शहरों में रहने वाला मध्य वर्ग भी प्रभावित है। इसलिए राहुल का यह बयान दोनों वर्गों को टारगेट कर दिया गया है। 

महंगाई बढ़ाने में तेल की कीमतों की बड़ी भूमिका होती है। लेकिन इसके बावजूद महंगाई बढ़ रही है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में तेल की कीमतें बढ़ने के बावजूद भारत में तेल कंपनियां रेट नहीं बढ़ा रही हैं लेकिन अब चर्चा है कि 10 मार्च को चुनाव नतीजे आने के बाद पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ सकते हैं। जनता मीडिया से बातचीत के दौरान महंगाई का उल्लेख करना नहीं भूलती। हालांकि पेट्रोल-डीजल की कीमतें करीब एक महीने से स्थिर हैं।  

राहुल ने अपने ट्वीट के साथ मीडिया रपट का हवाला भी दिया है। जिसमें कहा गया है कि दो दिन पहले जारी महंगाई के आंकड़ों में खुदरा महंगाई दर 6.01 फीसदी पहुंचने की सूचना है। यह पिछले सात महीनों में सबसे ज्यादा है। हालांकि दिसम्बर महीने में खुदरा महंगाई दर 5.59 फीसदी पर थी। वो भी पांच महीनों में सबसे ज्यादा थी। सच तो यह है कि पिछले दो साल में खुदरा महंगाई लगातार बढ़ रही है। यह रिजर्व बैंक के लक्ष्य से बहुत ज्यादा है। 

देश से और खबरें

भारत सरकार के आंकड़े भी यही बता रहे हैं कि खुदरा महंगाई तेजी से बढ़ रही है। खाने-पीने की चीजें बेतहाशा महंगी हो गई हैं। खाने-पीने के वस्तुओं की महंगाई दर लगातार चौथे  महीने बढ़कर 5.43 फीसदी हो गई, जो 2020 के अक्टूबर के बाद सबसे अधिक है। दालों की कीमतों में 3.02 फीसदी, सब्जियों में 5.19 फीसदी और तेल और फैट की कीमतों में 18.7% की वृद्धि हुई है। इसी तरह ईंधन 9.32 फीसदी, कपड़े और जूते 8.84 फीसदी, पान और तंबाकू 2.45 फीसदी महंगे हो चुके हैं।आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने हाल ही में कहा है कि इस तरह के आंकड़े से कोई घबराहट नहीं होनी चाहिए। लेकिन आरबीआई गवर्नर ने यह नहीं बताया कि घबराहट किस तरह के आंकड़ों पर होना चाहिए। दरअसल, आरबीआई गवर्नर का यह बयान जनता की आंखों में धूल झोंकने के लिए दिया गया। लेकिन जिसकी जेब पर डकैती पड़ रही है, उसका दर्द वही जान सकता है। कोई आरबीआई गवर्नर उस दर्द को नहीं समझ सकता।

 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें