loader

चीन, नेपाल, भूटान और अब इरान! पड़ोसियों से भारत के रिश्ते ख़राब क्यों हो रहे हैं?

चीन, नेपाल, भूटान और अब इरान! तेहरान ने भारत को एक ज़ोरदार झटका दिया है और यह साफ़ कर दिया है कि भारत की विदेश नीति और भारतीय राजनय में कहीं कुछ गड़बड़ी ज़रूर है कि एक के बाद एक तमाम पड़ोसी इससे मुँह मोड़ते जा रहे हैं।
इरान ने चाबहार बंदरगाह से ज़हेदन को जोड़ने वाली 628 किलोमीटर लंबी रेल लाइन परियोजना से भारत को बाहर कर दिया है। यह रेल लाइन भविष्य में अफ़ग़ानिस्तान से लगने वाली सीमा जरंज तक जा सकती है। भारतीय रेल की आनुषंगिक कंपनी इंडियन रेलवेज़ कंस्ट्रक्शन लिमिटेड यानी इरकॉन को यह ठेका मिला था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इरान दौरे पर इससे जुड़े क़रार पर दस्तख़त किया गया था।
देश से और खबरें

भारत बाहर, चीन अंदर!

अब इरान का कहना है कि वह ख़ुद यह रेल परियोजना पर काम करेगा। इसके लिए इरानी राष्ट्रीय विकास कोष से 40 करोड़ डॉलर दिए जाएंगे। यानी, इरान ने इस रेल परियोजना से भारत को बाहर कर दिया है।
iran drops india from chabahar rail project - Satya Hindi
भारत की मदद से बन रहा चाबहार बंदरगाह।
इसके ठीक पहले यानी पिछले हफ़्ते ही तेहरान ने चीन के साथ एक क़रार किया, जिसके तहत बीजिंग चाबहार ड्यूटी फ्री ज़ोन और तेल साफ़ करने का कारखाना बनाएगा। यह भी मुमकिन है कि  चाबहार बंदरगाह बनाने में भी उसकी भूमिका हो। इस पूरी परियोजना पर चीन 400 अरब डॉलर खर्च करेगा।
यह भारत के लिए एक बहुत बड़ी कूटनीतिक हार इसलिए है कि इससे यह साफ़ हो जा रहा है कि तेहरान पर नई दिल्ली का असर कम हो रहा है और बीजिंग का प्रभाव बढ़ रहा है।

ग्वादर बंदरगाह

चीन पहले से ही पाकिस्तान का ग्वादर बंदरगाह बना रहा है। वह चाबहार से 72 किलोमीटर दूर है। चाबहार से यह लगता था कि भारत की मौजूदगी इरान में है। अब यह साफ़ हो गया है कि चीन ने भारत को पीछे छोड़ दिया है।
पाकिस्तान और चीन ही नहीं, नेपाल, भूटान और इरान भी आँखें दिखा रहे हैं तो सवाल उठता है कि भारत के पड़ोसी क्यों इसका साथ छोड़ते जा रहे हैं? क्यों एक-एक कर सब दूर हो रहे हैं?

पड़ोसियों से अनबन!

ये सवाल इसलिए भी अहम हैं कि भारत का चीन के साथ बेहद तनावपूर्ण रिश्ता है। पारंपरिक मित्र नेपाल ने आरोप लगाया है कि भारत ने उसके इलाक़े पर कब्जा कर लिया है, उसने चुनौती भी दे दी है कि वह अपना इलाक़ा हर हाल में भारत से लेकर रहेगा। भूटान ने बीते हफ़्ते एक नहर को बंद कर दिया था जिससे उसका पानी असम के किसानों को मिलना बंद हो गया। हालांकि बाद में भूटान और भारत दोनों ने इस पर सफ़ाई दी थी, पर यह तो स्पष्ट हो ही गया कि कुछ गड़बड़ ज़रूर है।

कांग्रेस का हमला

भारत में इरान के साथ आए इस खटास पर तीखी प्रतिक्रिया हो रही है। विपक्षी दल कांग्रेस ने इसके लिए नरेंद्र मोदी सरकार को कटघरे में खड़ा किया है।
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा, 'यह मोदी सरकार की कूटनीति है जो काम किए बग़ैर ही वाहवाही लूट लेती है, चीन ने चुपचाप काम किया। भारत के लिए यह बड़ा नुक़सान है। पर आप तो सवाल ही नहीं पूछ सकते।' 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें