loader
जहांगीरपुरी में अब निकल रहा है पीस मार्च ताकि शांति लौट सके

जहांगीरपुरीः VHP की धमकी -पुलिस ने हमें पकड़ा तो आंदोलन होगा

दिल्ली की जहांगीरपुरी में हनुमान जयंती पर बिना अनुमति शोभा यात्रा निकालने वाले संगठन विश्व हिन्दू परिषद (वीएचपी) ने धमकी दी है कि दिल्ली पुलिस ने अगर हमारे किसी कार्यकर्ता पर कार्रवाई की तो हम दिल्ली पुलिस के खिलाफ सीधे आंदोलन करेंगे। 16 अप्रैल को निकाली गई इस शोभा यात्रा के दौरान साम्प्रदायिक हिंसा हो गई थी। जिसकी वजह से तनाव अभी तक कम नहीं हो पाया है। वीएचपी की यह धमकी तब सामने आई जब पुलिस ने कल सोमवार को कहा था कि उसने आयोजकों के खिलाफ बिना अनुमति जुलूस निकालने के लिए एफआईआर दर्ज की है, और वीएचपी नेता प्रेम शर्मा को गिरफ्तार किया है।

ताजा ख़बरें
टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक बाद में पुलिस ने यह कहते हुए उस बयान वापस ले लिया कि भारतीय दंड संहिता की धारा 188 (लोक सेवक द्वारा विधिवत आदेश की अवज्ञा) एक जमानती अपराध है और जांच में शामिल होने वाले व्यक्ति को पूछताछ के बाद छोड़ दिया जाता है। यानी पुलिस के कहने का आशय यह था कि प्रेम शर्मा को गिरफ्तार नहीं किया गया।

दिल्ली पुलिस ने जो संशोधित बयान जारी किया, उसमें वीएचपी और बजरंग दल का नाम नहीं था। जबकि पहले वाले बयान में बजरंग दल और वीएचपी का नाम था।

समझा जाता है कि दिल्ली पुलिस पर जबरदस्त दबाव के बाद उसने बजरंग दल और वीएचपी का नाम अपने बयान से हटाया, हालांकि पुलिस इस तथ्य को कैसे झुठलाएगी कि शोभा यात्रा किस संगठन ने निकाली थी।   हालांकि स्थानीय लोग हकीकत कुछ और ही बता रहे हैं। जैसे नीचे एक ट्विटर हैंडल से आजतक का वीडियो शेयर किया गया है। उसे देखिए।

उत्तर पश्चिमी पुलिस उपायुक्त (डीसीपी) उषा रंगनानी ने कहा कि बिना अनुमति इलाके में शनिवार शाम को जुलूस निकालने के लिए आयोजकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई और एक आरोपी व्यक्ति जांच में शामिल हुआ है।

बहरहाल, पुलिस कार्रवाई पर तीखी प्रतिक्रिया देते हुए वीएचपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता विनोद बंसल ने कहा, 'हमें पता चला है कि वीएचपी और बजरंग दल के कार्यकर्ताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है और एक कार्यकर्ता को भी गिरफ्तार किया गया है। पुलिस बहुत बड़ी भूल कर रही है।

उन्होंने पुलिस के इस दावे को 'बेतुका' बताते हुए खारिज कर दिया कि आयोजकों ने बिना अनुमति के जुलूस निकाला और कहा कि ऐसा लगता है कि पुलिस 'इस्लामिक जिहादियों' के सामने झुक गई है। अगर अनुमति नहीं थी, तो इतनी बड़ी संख्या में पुलिस कर्मी जुलूस के साथ कैसे थे?
बंसल ने कहा कि वीएचपी कानून का पालन करने वाला संगठन है और इसके और इसके कार्यकर्ताओं के खिलाफ इस तरह के आरोप लगाने से पुलिस के कामकाज पर कई सवाल उठते हैं। विहिप ऐसी चीजों को बर्दाश्त नहीं करेगी।
बंसल ने चेतावनी दी, अगर वे (पुलिस) झूठा मामला दर्ज करने या उसके किसी कार्यकर्ता को पकड़ने की कोशिश करेंगे तो वीएचपी आंदोलन शुरू करेगी। बंसल ने दिल्ली पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा, अचानक, उसने एक जुलूस के लिए दी गई अनुमति को वापस ले लिया, जिसे सोमवार को निकाला जाना था। इसके अलावा, कल सुबह, पुलिस ने भलस्वा गांव से निकाले गए जुलूस को उस बिंदु से लगभग 100 मीटर पहले रोक दिया, जहां वो समाप्त होने वाला था। यह क्या है?बहरहाल, मौके पर लोगों ने जो वीडियो बनाए और जिन्हें मीडिया में भी शेयर किया गया, वीएचपी नेता की बातों को झुठलाते हैं। नीचे एक ट्वीट है, जिसमें न्यूज 24 के वीडियो को ट्वीट किया गया है, जिससे पता चलता है कि 16 अप्रैल के जुलूस में क्या हो रहा था।

दिल्ली के पुलिस आयुक्त राकेश अस्थाना ने सोमवार को कहा था कि झड़पों में शामिल लोगों को बख्शा नहीं जाएगा, चाहे उनका वर्ग, पंथ और धर्म कुछ भी हो। झड़प के सिलसिले में कुल 21 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने जहांगीरपुरी में शांति बहाली के लिए कई बैठकें सभी समुदायों के साथ की हैं। बीती रात को इलाके में पीस मार्च भी निकाला गया। इलाके में चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात है। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें