loader

भारत ने क्वैड बैठक में अपरोक्ष रूप से उठाया चीनी घुसपैठ का मुद्दा, बीजिंग को चेतावनी

चीन के साथ तनाव और वास्तविक नियंत्रण रेखा के आर- पार हज़ारों सैनिकों की तैनाती के बीच भारत ने टोक्यो में हुई क्वैड बैठक में नाम लिए बग़ैर चीनी घुसपैठ का मुद्दा उठा कर बीजिंग को कड़ा संकेत दे दिया है। यह महत्वपूर्ण इसलिए है कि क्वैड के सदस्य देशों में सबके साथ चीन के रिश्ते तल्ख हैं। इसके अलावा 'एशिया का नैटो' कहे जाने वाले इस सुरक्षा समूह में भारत का प्रभाव बढ़ता जा रहा है। दूसरे, यह बैठक ऐसे समय हो रही है जब समूह की नौसेनाओं का साझा अभ्यास 'मालाबार' अगले ही महीने होने को है। यह हिंद-प्रशांत क्षेत्र में होगा और चीन इससे बेहद परेशान होता है।
क्वैड यानी क्वाड्रिलैटरल स्ट्रैटेजिक डॉयलॉग के सदस्य देश भारत, अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया हैं। यह सामरिक संगठन है, जिसे यूरोप और अमेरिका में अभी से ही 'एशिया का नैटो' कहा जाने लगा। चीन का मानना है कि उसे रोकने और उस पर अंकुश रखने के लिए ही इस संगठन की नींव डाली गई है।
देश से और खबरें

भारत ने रखा अपना पक्ष

मंगलवार को टोक्यो में हुई क्वैड बैठक में भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर के अलावा अमेरिका के माइक पॉम्पिओ, जापान के तोशिमित्सू मेतगी और ऑस्ट्रेलिया की मरीस पाइन भी थीं।
जयशंकर ने कहा कि 'भारत क्षेत्रीय एकता, संप्रभुता और विवादों के शांतिपूर्ण समाधान के पक्ष में है।' उन्होंने इसके साथ ही अंतरराष्ट्रीय नियमों के आधार पर समस्या के निपटारे की बात कही।
इसके साथ ही उन्होंने नियम-क़ानून, पादर्शिता, फ्रीडम ऑफ़ नैविगेशन और क्षेत्रीय संप्रभुता पर भी ज़ोर दिया। जयशंकर ने कहा, 'हमारा उद्येश्य सदस्य देशों की सुरक्षा और आर्थिक हितों की रक्षा करना है।'
अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पिओ ने खुल कर चीन का नाम लिया और उसे चेतावनी दी। उन्होंने क्षेत्र में 'चीन की ग़लत गतिविधियों' पर चिंता जताई। उन्होंने कहा कि 'क्वैड हिंद-प्रशांत क्षेत्र में शांति और सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए काम करेगा।'

संकेतों में चीन को चेतावनी

इसका अर्थ बहुत ही साफ है, अमेरिका भारत के साथ चीन के तनाव से चिंतित है। इसी तरह भारत ने जब 'फ्रीडम ऑफ नैविगेशन' की बात कही तो उसने अमेरिका की मांग और हिंद प्रशांत क्षेत्र में चीन के दबदबे का विरोध ही किया।

क्यों है अहम?

यह बैठक इसलिए भी अहम है कि कुछ दिन पहले ही भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच शिखर स्तर की बातचीत हुई। इसमें प्रधानमंत्री मोदी ने ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बात की। दोनों नेताओं ने दोनों देशों के बीच संबंधों को और मज़बूत करने पर ज़ोर दिया था। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था कि यह सभी समय है जब भारत और ऑस्ट्रेलिया संबंधों को और मज़बूत करें।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बातचीत के दौरान कहा था, 'हमारी दोस्ती को मज़बूत करने के लिए अनंत अवसर हैं। इसके साथ ही क्षमता को वास्तविकता में बदलने के लिए चुनौतियाँ भी आएँगी। हमारा संबंध क्षेत्र की स्थिरता के लिए एक फ़ैक्टर भी है। भारत ऑस्ट्रेलिया के साथ अपने संबंधों को मज़बूत करने के लिए प्रतिबद्ध है, यह न केवल हमारे दो देशों के लिए बल्कि हिंद-प्रशांत क्षेत्र और पूरी दुनिया के लिए भी महत्वपूर्ण है।'
बता दें कि चीन और ऑस्ट्रेलिया के बीच बेहद तनावपूर्ण रिश्ते हैं। इसी तरह अमेरिका से भी चीन के खराब रिश्ते हैं और एक तरह का शीतयुद्ध चल रहा है। ऐसे में यह बैठक अहम हो जाती है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें