loader

आयकर छापे से मीडिया को डराने का प्रयास: विपक्षी नेता

सरकार की नीतियों की आलोचनात्मक रिपोर्टें छापने वाले दैनिक भास्कर और भारत समाचार पर आयकर छापे को विपक्षी दलों के नेताओं ने मीडिया को डराने का प्रयास क़रार दिया है। कांग्रेस नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा है कि यह प्रजातंत्र के चौथे स्तंभ को दबाने का काम किया जा रहा है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, अल्का लांबा जैसे नेताओं ने मोदी सरकार पर निशाना साधा है। 

आयकर विभाग की यह कार्रवाई उस अख़बार और न्यूज़ चैनल पर की गई है जिन्हें सरकार की कथित ग़लत नीतियों के ख़िलाफ़ और आम लोगों के पक्ष में ख़बर पेश करने के लिए जाना जाता रहा है। दैनिक भास्कर समूह काफ़ी वक़्त से तल्ख़ ख़बरें कर रहा है। केन्द्र की नरेंद्र मोदी सरकार के अलावा मध्य प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान सरकार को एक्सपोज़ करने वाली अनेक ख़बरें पिछले कुछ महीनों में समाचार पत्र ने बहुत प्रमुखता के साथ प्रकाशित की हैं।

ताज़ा ख़बरें

दैनिक भास्कर के साथ ही उत्तर प्रदेश के क्षेत्रीय न्यूज़ चैनल भारत समाचार ने भी कोरोना संक्रमण के कारण अव्यवस्था से लेकर हाथरस मामले और उत्तर प्रदेश में अपराध के मामले की रिपोर्टिंग भी निर्भीक ढंग से की है। 

दैनिक भास्कर और भारत समाचार चैनल की रिपोर्टिंग की हाल के दिनों में तारीफ़ होती रही है कि इसने बिना किसी सत्ता के दबाव के रिपोर्टिंग की है। इसी कारण जब आयकर विभाग की कार्रवाई हुई तो सोशल मीडिया पर पत्रकारों की ओर से तो तीखी प्रतिक्रिया हुई ही, सामाजिक कार्यकर्ताओं और विपक्षी नेताओं की ओर से भी ऐसी ही प्रतिक्रिया आई है। 

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा, 'पत्रकारों और मीडिया घरानों पर हमला लोकतंत्र को कुचलने का एक और क्रूर प्रयास है। दैनिक भास्कर ने बहादुरी से उसकी रिपोर्टिंग की जिसकी नरेंद्र मोदी जी ने पूरे कोरोना संकट को ग़लत तरीक़े से संभाला और एक भयंकर महामारी के बीच देश को उसके सबसे भयावह दिनों में ले गए।'

उन्होंने एक अन्य ट्वीट में लिखा, 'मैं इस बदले की कार्रवाई की कड़ी निंदा करती हूँ जिसका उद्देश्य सत्य को सामने लाने वाली आवाज़ों को दबाना है। यह एक गंभीर उल्लंघन है जो लोकतंत्र के सिद्धांतों को कमजोर करता है। मीडिया में सभी से मज़बूत रहने का मेरा आग्रह। हम सब मिलकर निरंकुश ताक़तों को कभी सफल नहीं होने देंगे!'

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने ट्वीट कर कहा कि अपने विरोधियों को दबाने के लिये, सच को सामने आने से रोकने के लिये ईडी, आईटी व अन्य एजेंसियो का दुरुपयोग यह सरकार शुरू से ही करती रही है और यह काम आज भी जारी है?

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी आयकर छापे की कार्रवाई को मीडिया को डराने का प्रयास बताया। उन्होंने कहा कि मीडिया को स्वतंत्र रूप से काम करने दिया जाना चाहिए। 

आशुतोष की बात में देखिए, दैनिक भास्कर व भारत समाचार पर आयकर छापे क्यों? 

अल्का लांबा ने ट्वीट कर मोदी सरकार पर निशाना साधा। 

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट कर कहा, 'दैनिक भास्कर अख़बार और भारत समाचार न्यूज़ चैनल पर इनकम टैक्स का छापा मीडिया की आवाज़ को दबाने का खुला प्रयास है। मोदी सरकार अपनी आलोचना को ज़रा भी बर्दाश्त नहीं कर सकती। अपनी फासीवादी मानसिकता के कारण बीजेपी लोकतांत्रिक व्यवस्था में सच्चाई को नहीं देखना चाहती।' 

गहलोत ने एक अन्य ट्वीट में लिखा, 'इस तरह की हरकतों में लिप्त होकर और मीडिया को चकमा देकर मोदी सरकार यह संदेश देना चाहती है कि अगर मीडिया गोदी-मीडिया नहीं बना तो उसकी आवाज़ दबा दी जाएगी।'

तृणमूल कांग्रेस नेता महुआ मोइत्रा ने ट्वीट किया, 'कोरोना की दूसरी लहर की तबाही पर रिपोर्टिंग के बाद दैनिक भास्कर कार्यालयों और प्रमोटर घरों पर आईटी छापे। अगर आप गोदी मीडिया की तरह रेंगते नहीं हैं तो क़ीमत चुकाएँ!'
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें