loader

बदज़ुबानी: अन्नदाता किसानों को कंगना ने कहा आतंकी, बीजेपी कुछ बोलेगी?

सिने अदाकारा कंगना रनौत ने जब मुंबई को पीओके कहा, महाराष्ट्र को पाकिस्तान कहा, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री जैसे गरिमामयी ओहदे पर बैठे उद्धव ठाकरे से तू-तड़ाक की तो लोगों को समझ आ गया था कि वो किसकी शह पर ऐसी भाषा बोल रही हैं। राजनीति और जीवन का तजुर्बा रखने वालों ने उनकी बातों को फिजूल समझकर उन पर ध्यान देना छोड़ दिया था। लेकिन अब तो इस अदाकारा ने हद ही पार कर दी है। 

आप किसी विशेष विचारधारा से प्रभावित हो सकते हैं, उस विचारधारा की सरपरस्ती करने वाली पार्टी की सरकार से वाई श्रेणी की सुरक्षा मिलने का एहसान तमाम नफ़रती बयानों के जरिए चुका सकते हैं, लेकिन आप अन्नदाता किसानों का अपमान क़तई नहीं कर सकते। 

कंगना रनौत ने बदजुबानी की सरहदों को लांघते हुए अब ऐसा बयान दिया है, जिसे लेकर उनकी सोच पर सिर्फ़ अफ़सोस जाहिर किया जा सकता है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा किए गए इस ट्वीट को लेकर कि न्यनूतम समर्थन मूल्य की व्यवस्था और सरकारी खरीद जारी रहेगी, इस पर कंगना ने लिखा- ‘प्रधानमंत्री जी कोई सो रहा हो उसे जगाया जा सकता है, जिसे ग़लतफ़हमी हो उसे समझाया जा सकता है मगर जो सोने की ऐक्टिंग करे, ना समझने की ऐक्टिंग करे उसे आपके समझाने से क्या फ़र्क़ पड़ेगा?’ 

कंगना ने आगे लिखा- ‘ये वही आतंकी हैं, नागरिकता क़ानून (सीएए) से एक भी इंसान की नागरिकता नहीं गयी मगर इन्होंने ख़ून की नदियाँ बहा दीं।’ 

ताज़ा ख़बरें

कोई भी भारतीय शख़्स किसी भी पार्टी से जुड़ा हो, वह इस बयान को बर्दाश्त नहीं कर सकता कि किसान को आतंकी कह दिया जाए। बता दें कि कृषि विधेयकों को लेकर पंजाब और हरियाणा में किसान तपती सड़कों पर धरने पर बैठे हुए हैं। इन विधेयकों को काला क़ानून बताते हुए उन्होंने इन्हें वापस लेने की मांग की है और सरकार इन्हें उनके फ़ायदे वाला क़ानून बता रही है। लेकिन कंगना की बदज़ुबानी तो उस किसान के हौसले को तोड़ने वाली है, जो सर्दी-गर्मी, धूप-बरसात को दरकिनाकर कर अन्न उपजाने के काम में जुटा रहता है। 

कंगना रनौत की बयानबाज़ी को लेकर देखिए, वरिष्ठ पत्रकारों की चर्चा-

...वंशवाद का एक नमूना हो’

बदतमीजी की हदों को लांघते हुए कंगना ने कुछ दिन पहले उद्धव ठाकरे को वंशवाद का नमूना कहा था। इससे पहले कंगना ने उद्धव ठाकरे के लिए जिस भाषा का इस्तेमाल किया था, उससे आम लोग भी सन्न रह गए थे। उन्होंने उद्धव को तू कहकर संबोधित किया था। 

बीएमसी के द्वारा  अपने ऑफ़िस में अवैध निर्माण को लेकर कार्रवाई करने पर कंगना ने कहा था, ‘उद्धव ठाकरे तुझे क्या लगता है कि तूने फ़िल्म माफिया के साथ मिलकर मेरा घर तोड़कर मुझसे बहुत बड़ा बदला लिया है। आज मेरा घर टूटा है, कल तेरा घमंड टूटेगा। ये वक़्त का पहिया है, याद रखना हमेशा एक जैसा नहीं रहता।’ 

देश से और ख़बरें

कंगना ने उनके ऑफ़िस में तोड़फोड़ करने पहुंची बीएमसी की टीम की तुलना बाबर से की थी। 

कार्रवाई करेगी सरकार?

किसानों के हक की बात करने वाली बीजेपी क्या अब भी कंगना के समर्थन में खुलकर खड़ी रहेगी क्योंकि सवाल यह है कि 138 करोड़ भारतीयों का पेट भरने वाला किसान अगर सरकार की नीति का विरोध करे तो क्या वह आतंकी हो जाएगा। राष्ट्रवाद की झंडाबरदार बीजेपी को इस मुद्दे पर जवाब देना चाहिए कि कंगना के इस बयान पर उसका क्या कहना है। क्या वह कंगना के बयान के समर्थन में है और विरोध में है तो क्या सिर्फ़ दिखावटी या केंद्र या हिमाचल सरकार से कहकर अभिनेत्री के ख़िलाफ़ कोई कार्रवाई करेगी। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें