loader
कानपुर हिंसा का फाइल फोटो

कानपुर हिंसाः वीडियो के बावजूद एकतरफा गिरफ्तारियां, FIR कराने वालों पर ही छापे

कानपुर हिंसा में पुलिस पर एकतरफा कार्रवाई का आरोप लग रहा है। लेकिन पुलिस ने जिन 36 लोगों को गिरफ्तार किया है, वे सभी मुसलमान हैं। इस सिलसिले में पथराव के जो वीडियो सामने आए थे, उनमें साफ दिखा था कि दोनों समुदाय एक दूसरे पर पथराव कर रहे हैं। वीडियो के सबूत काफी अहम हैं और सोशल मीडिया पर उपलब्ध हैं।

शहर काज़ी अब्दुल कुद्दूस हादी ने कहा कि अगर हिंसा होती है, तो दो पक्ष होते हैं। पुलिस ने एक पक्ष के खिलाफ कार्रवाई की है जबकि दूसरा पक्ष जो अपराध के लिए समान रूप से जिम्मेदार है उसे छोड़ दिया जा रहा है। अपने दावे के समर्थन में उन्होंने कहा कि एफआईआर में नामजद सभी 36 लोग एक समुदाय से थे। अन्य समुदायों के सदस्यों को क्यों नहीं गिरफ्तार किया जाता है या उनके खिलाफ एफआईआर क्यों नहीं दर्ज की जा रही है।

ताजा ख़बरें
हादी का दावा है कि जब वह कानपुर के पुलिस आयुक्त के आह्वान पर लोगों को शांत करने गए तो उनके और उनके बेटों के साथ मारपीट की गई। यह सभी को देखना चाहिए। इसके पक्ष में वीडियो सबूत हैं। फिर भी पुलिस ने मेरे एक सहयोगी को गिरफ्तार कर लिया।

दो बच्चों की मां सना का दावा है कि उनके पति मोहम्मद नासिर हिंसा की जगह से करीब 5 किलोमीटर दूर बकरा मंडी में थे, लेकिन पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। पुलिस हमारे कुछ रिश्तेदारों को गिरफ्तार करने के लिए हमारे घर आई थी, लेकिन उन्हें खोजने में नाकाम रहने पर पुलिस मेरे पति को ले गई। उनके पति एफआईआर में नामित 36 आरोपियों में से एक हैं। हिंदुत्व वॉच के एक हैंडल में एक मुस्लिम आदमी को भीड़ द्वारा पीटते हुए दिखाया गया है। पुलिसकर्मी मौजूद हैं। बाद में अन्य पुलिसकर्मियों ने उस व्यक्ति को बचा लिया।
उनका कहना है कि उनके एक रिश्तेदार ने नूपुर शर्मा के बयान के लिए कर्नलगंज थाने में बीजेपी प्रवक्ता के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी। मेरे पति का उस शिकायत से कोई लेना-देना नहीं है, फिर भी, उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।

नर्सिंग की छात्रा शिफा अनम ने कहा कि उसके भाई साजिद हुसैन को उस समय गिरफ्तार कर लिया गया जब वह उसे स्कूल से लेने आ रहा था। साजिद वीडियो में नहीं दिख रहा है, फिर भी पुलिस ने उसे उठाया और उसे एक आरोपी के रूप में नामजद किया।
देश से और खबरें
संयुक्त पुलिस आयुक्त आनंद प्रकाश तिवारी ने इन आरोपों का खंडन करते हुए कहा कि वीडियो साक्ष्य के आधार पर लोगों को गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने कहा, हमारे पास आरोपियों के खिलाफ फुलप्रूफ मामला है और हम अदालत में उनके आरोप साबित करेंगे।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें