loader

सिब्बल के फिर बग़ावती तेवर, “पता नहीं पार्टी में क्या हो रहा है?"

कांग्रेस पार्टी में अंदरूनी घमासान थमने का नाम नहीं ले रहा है। पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष को चिट्ठी लिख कर शीर्ष नेतृत्व पर सवाल उठाने वालों में एक कपिल सिब्बल ने एक बार पार्टी पर सवाल उठाया है। उन्होंने कहा कि पार्टी में अध्यक्ष पद पर चुनाव कराने की घोषणा किए हुए एक महीना हो गया, पर अब तक इस दिशा में कुछ नहीं हुआ है। 

याद दिला दें कि कांग्रेस कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पिछले महीने कहा था कि अध्यक्ष पद का चुनाव होगा और दूसरे आंतरिक चुनाव कराए जाएंगे। 

ख़ास ख़बरें

सिब्बल : कब होगा चुनाव?

कपिल सिब्बल ने सोमवार को 'इंडियन एक्सप्रेस' से बात करते हुए कहा कि चुनाव पार्टी के संविधान के मुताबिक ही होना चाहिए। उन्होंने कहा, "अध्यक्ष पद का चुनाव  कार्यकारिणी समिति और केंद्रीय चुनाव कमेटी के चुनाव के साथ ही होना चाहिए। पर क्या होगा, यह साफ नहीं है।" 

सिब्बल ने यह भी कहा,

"संसदीय बोर्ड को पुनर्जीवित किया जाना चाहिए। चुनाव कराने की बात कहे एक महीना हो गया, पर अभी तक कुछ पता नहीं है कि यह कैसे होगा और कब होगा।"


कपिल सिब्बल, सांसद, कांग्रेस

'पार्टी में असंतोष'

इस मशहूर वकील ने बग़ैर किसी का नाम लिए केंद्रीय नेतृत्व और उसके इर्द-गिर्द के लोगों पर एक बार फिर हमला बोला। उन्होंने कहा कि "जिन लोगों को लगता है कि कांग्रेस पार्टी बहुत ही मजबूत राजनीतिक ताक़त है और उनसे जो कुछ बन पा रहा है, कर रहे हैं, वे एक बार यह देखें कि अलग-अलग राज्यों में पार्टी का प्रदर्शन कैसा रहा है। पार्टी में असंतोष है।"

सिब्बल ने दिल्ली प्रदेश कांग्रेस का उदाहरण देते हुए कहा कि किस तरह लोग उनके पास जाकर पार्टी के कामकाज पर चिंता जताते रहते हैं। 

सिब्बल ने इन तमाम बातों को पार्टी का अंदरूनी मामला क़रार दिया और कहा कि यह आपसी बातचीत है। लेकिन इसके साथ ही उन्होंने ज़ोर देकर कहा कि कांग्रेस पार्टी का एक संविधान है और सारे लोग इसे मान कर चलते हैं, इसलिए आगे के काम भी इसके अनुकूल ही होने चाहिए। 

जी-23!

याद दिला दें कि अगस्त में कांग्रेस के 23 वरिष्ठ नेताओं ने कांग्रेस कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी को चिट्ठी लिख कर लंबे समय से पूर्णकालिक पार्टी अध्यक्ष के न होने और दूसरे मुद्दों पर सवाल उठाए थे। पत्र लिखने वालो में वरिष्ठ नेता ग़ुलाम नबी आज़ाद, कपिल सिब्बल, शशि थरूर और आनंद शर्मा के अलावा उत्तर प्रदेश के जितिन प्रसाद के भी हस्ताक्षर थे। 

kapil sibal questions congress leaderhsip again - Satya Hindi
ग़ुलाम नबी आज़ाद, नेता, काेंग्रेस

इसके बाद सिब्बल पर चौतरफा हमला हुआ, किसी न उन्हें विश्वासाती कहा तो किसी ने कहा कि वे बीजेपी के हाथों खेल रहे हैं।

लेकिन कांग्रेस का यह सांसद फिर भी चुप नही रहा। बिहार चुनाव के बाद उन्होंने एक बार फिर पार्टी को निशाने पर लिया और कहा कि लोग अब कांग्रेस पार्टी को विकल्प के रूप में नहीं देखते हैं। 

बिहार चुनाव बाद सिब्बल का हमला

सिब्बल ने ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ से कहा था, ‘हम में से कुछ लोगों ने बताया कि कांग्रेस में आगे क्या किया जाना चाहिए। लेकिन हमारी बात सुनने के बजाय उन्होंने हमसे मुँह फेर लिया। अब हम नतीजे देख सकते हैं। केवल बिहार के ही लोग नहीं, बल्कि जहाँ-जहाँ उपचुनाव हुए हैं, स्वाभाविक रूप से वहाँ के लोग कांग्रेस को एक प्रभावी विकल्प नहीं मानते।’ 

उन्होंने इसके आगे कहा,

‘कांग्रेस भी इन दिक्क़तों का हल जानती है, लेकिन वह इसे स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं है। इसलिए ग्राफ़ नीचे गिरता जा रहा है। कांग्रेस को इसे स्वीकार करने की हिम्मत दिखानी चाहिए।’


कपिल सिब्बल, सांसद, कांग्रेस

बता दें कि बिहार में कांग्रेस पार्टी ने 70 सीटों पर विधानसभा चुनाव लड़ा, सिर्फ़ 19 सीटें जीती थी। उपचुनावों में गुजरात, उत्तर प्रदेश में उसका खाता तक नहीं खुला है। मध्य प्रदेश में 28 सीटों पर हुए उपचुनाव में वह सिर्फ़ 9 सीटें जीती थीं।

सिब्बल पर पलटवार

राजस्थान के मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक गहलोत ने आगे बढ़ कर सिब्बल पर हमला बोला। उन्होंने कहा, ‘कपिल सिब्बल को पार्टी के आंतरिक मामलों पर मीडिया में बात करने की कोई ज़रूरत नहीं थी। इससे देश भर में पार्टी के कार्यकर्ताओं की भावनाएँ आहत हुई हैं।’ 

गहलोत ने कहा कि कांग्रेस ने अपने इतिहास में कई बार संकटों का सामना किया है, लेकिन हर बार और मजबूत होकर वापसी की। उन्होंने कहा कि ऐसा सिर्फ़ अपनी विचारधारा, कार्यक्रमों, नीतियों और पार्टी नेतृत्व में भरोसे के कारण ही संभव हो सका। 

kapil sibal questions congress leaderhsip again - Satya Hindi

कांग्रेस के एक दूसरे वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद ने फ़ेसबुक पोस्ट में अंतिम मुग़ल शासक बहादुर शाह जफ़र को उद्धृत करते हुए कपिल सिब्बल पर तंज किया था।

खुर्शीद ने कहा था,

"आलोचना करने वालों को पहले अपने अंदर की कमियों को देखना चाहिए। सफलता का कोई शॉर्टकट नहीं होता है।"


सलमान ख़ान, नेता, कांग्रेस

खुर्शीद ने पोस्ट में लिखा, "अगर मतदाताओं का मूड उन उदारवादी मूल्यों के ख़िलाफ़ है, जिन्हें हमने अपनाया है... हमें सत्ता में वापस आने के लिए शॉर्टकट संघर्षों को देखने के बजाय लंबे संघर्ष के लिए तैयार रहना चाहिए।" उन्होंने तो यहाँ तक लिखा कि "जिसको काम नहीं आता है वह अपने औजार को ही दोष देता है।" यानी 'नाच न जाने आँगन टेढ़ा'। 

इन आलोचनाओं के बाद कांग्रेस की बैठक हुई, जिसमें राहुल गांधी ने कहा कि पार्टी जैसा कहेगी, वे करेंगे। उसी बैठक के बाद सोनिया गांधी ने पार्टी में आंतरिक चुनाव कराने की बात कही थी। 

कपिल सिब्बल ने सोनिया के उस बयान से ही इस बार मुद्दा उठाया है। लोगों की निगाहें इस पर टिकी हैं कि कांग्रेस पार्टी आगे क्या करती है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें