loader

बिहार के सीएम नीतीश के प्रोग्राम में हल्का बम फटा, पुलिस ने कहा- पटाखा था

बिहार के नालंदा में सिलाओ इलाके में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के कार्यक्रम में हल्का बम विस्फोट हुआ है। हालांकि पुलिस अधिकारी इसे पटाखा बता रहे हैं। नीतीश की सुरक्षा में एक महीने से भी कम समय में दूसरी बार सुरक्षा चूक का मामला सामने आया है। सीएम मंगलवार को अपने गृह जिले नालंदा के सिलाव में थे। लगभग 250 लोगों से मिलने वाले मंच से मुश्किल से 20 फीट की दूरी पर एक युवक ने कम तीव्रता वाला विस्फोट किया। पटना सेंट्रल रेंज के आईजी राकेश राठी ने कहा कि युवक ने बम नहीं बल्कि दिवाली पटाखा का इस्तेमाल किया। पुलिस ने आरोपी की पहचान इस्लामपुर प्रखंड के ग्राम सत्यारगंज निवासी 22 वर्षीय शुभम आदित्य के रूप में की है। संदिग्ध से पूछताछ जारी है, जबकि सीएम ने अपने पूर्व निर्धारित कार्यक्रम को जारी रखा। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि फॉरेंसिक टीम विस्फोट में प्रयुक्त विस्फोटक की प्रकृति का पता लगाएगी।

ताजा ख़बरें
किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है। प्रारंभिक रिपोर्टों में कहा गया है कि विस्फोट उस मंच के पीछे हुआ जहां से सीएम लोगों से लिखित शिकायतें ले रहे थे। मंगलवार को नीतीश कुमार पहले पावापुरी गए थे और वहां से उन्हें सिलाव होते हुए राजघाट जाना था। घटना सिलाओ गांधी हाई स्कूल की है। अच्छी तरह से सजाए गए मंच पर मौजूद लोग केवल विस्फोट की आवाज सुन सके। आवाज के कारण वहां हंगामा मच गया। एक पुलिसकर्मी ने बताया कि यह कम तीव्रता वाला विस्फोट था। नालंदा के पुलिस अधिकारियों ने खुलासा किया कि शुभम मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ राष्ट्रीय मुद्दों को उठाना चाहते थे, लेकिन सीएम ने उन्हें कोई जवाब नहीं दिया। एक पुलिस अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर कहा, कोई अजनबी मंच के करीब कैसे पहुंच सकता है, यह जांच का विषय है।

देश से और खबरें
यह घटना तब हुई जब बिहार पुलिस ने दावा किया कि नीतीश कुमार पर 27 मार्च को एक युवक द्वारा हमला किए जाने के बाद उनकी सुरक्षा कड़ी करने का खाका तैयार किया गया है। पटना में गृह विभाग की एक उच्च स्तरीय बैठक में खाका पेश किया गया जहां सुरक्षा व्यवस्था के हर बिंदु पर चर्चा हुई। एडीजी (सुरक्षा) बच्चू सिंह मीणा ने भी राज्य के प्रत्येक जिला मजिस्ट्रेट और एसपी को दिशा-निर्देश जारी किए हैं कि 1991 की वर्मा समिति की सिफारिश के अनुसार सीएम का जिले में दौरा हो तो उसके अनुसार सारी व्यवस्था करें।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें