loader

विवाह विधेयक स्थायी समिति के पास भेजेगी सरकार

लड़कियों की शादी की न्यूनतम उम्र बढ़ाने से जुड़े विधेयक को मंगलवार देर शाम सदन में पेश करने के बाद सरकार ने कहा है कि वह इसे संसद की स्थायी समिति के पास विचार-विमर्श के लिए भेज देगी। 

महिला व बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने बाल विवाह निरोधक विधेयक, 2006, में संशोधन से जुड़ा विधेयक पेश करते हुए कहा कि यह सभी धर्मों और समुदायों पर समान रूप से लागू होगा और विवाह से जुड़े सभी क़ानूनों और व्यक्तिगत क़ानूनों के ऊपर होगा। 

ईरानी ने कहा, 

सभी धर्मों की सभी महिलाओं, वे हिन्दू विवाह अधिनियम या मुसलिम व्यक्तिगत क़ानून के तहत हों, सबको विवाह के मामले में बराबर का अधिकार मिलना चाहिए।


स्मृति ईरानी, महिला व बाल विकास मंत्री

जल्दबाजी क्यों?

कांग्रेस व दूसरे विपक्षी दलों ने विधेयक का विरोध करते हुए सवाल किया आखिर सरकार को इस पर इतनी जल्दबाजी क्यों है। 

महिला व बाल विकास मंत्री ने विधेयक पेश करते हुए कहा, "हमने महिलाओं और पुरुषों को विवाह के लिए बराबरी का अधिकार देने में 75 साल की देरी कर दी। जो लोग सदन में शोर-शराबा कर रहे हैं, वे महिलाओं को उनके अधिकारों से दूर करने का प्रयास कर रहे हैं।"

स्मृति ईरानी ने विवाह की उम्र में हुए तमाम संशोधनों का हवाला देते हुए बताया कि 1940 तक लड़कियों की शादी की उम्र 10 साल थी, जिसे बढ़ाकर 12 साल किया गया था। इसके बाद 1978 तक देश में 15 साल की उम्र में लड़कियों की शादियाँ होती रहीं।

विरोध

उन्होंने दावा किया कि देश में 2015 से 2020 के दौरान 20 लाख बाल विवाह रोके गए।

मंत्री ने विपक्ष पर हमला करते हुए कहा कि जिन लोगों को यह बिल धर्मनिरपेक्ष नहीं लगता, उन्हें सुप्रीम कोर्ट का 2010 का वह फैसला पढ़ना चाहिए, जिसमें कहा गया था कि यह धर्मनिरपेक्ष क़ानून है। अदालत ने यह भी कहा था कि मुसलिम पर्सनल लॉ बोर्ड और हिंदू मैरिज ऐक्ट के तहत भी सभी महिलाओं को विवाह के मामले में समानता का अधिकार मिलना चाहिए।

कांग्रेस, टीएमसी, एआईएमआईएम, एनसीपी, डीएमके, बीजेडी और शिवसेना ने विधेयक का विरोध किया। कुछ सांसदों ने बिल के प्रावधानों पर ऐतराज जताया तो कुछ लोगों ने इसे पेश करने के तरीके का विरोध किया।
आईएमआईएम सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने सरकार पर निशाना साधते हुए इस विधेयक को पीछे ले जाने वाला करार दिया। उन्होंने कहा कि यह अनुच्छेद 19 के तहत आज़ादी के अधिकार का हनन करता है। उन्होंने पूछा कि

18 साल की एक लड़की जब देश का प्रधानमंत्री चुन सकती है, लिव-इन रिलेशनशिप में रह सकती है तो फिर उसका शादी का अधिकार क्यों छीना जा रहा है?


असदउद्दीन ओवैसी, नेता, एआईएमआईएम

स्थायी समिति

कांग्रेस के अधीर रंजन चौधरी, गौरव गोगोई, एआईएमआईएम सांसद असदुद्दीन ओवैसी, टीएमसी के सौगत रॉय, एनसीपी की सुप्रिया सुले, डीएमके के टीआर बालू और कनिमोड़ी विधेयक के ख़िलाफ़ बोले। कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि इस बिल को संसद की स्थायी समिति के पास भेजा जाना चाहिए। 

अंत में सरकार ने एलान किया कि इस विधेयक को स्थायी समिति के पास भेज दिया जाएगा। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें