loader

मेरठ यूनिवर्सिटीः अयोध्या पर किताब खरीदने का दबाव डालने का आरोप

मेरठ यूनिवर्सिटी में अयोध्या पर किताब खरीदने की सिफारिश पर विवाद हो गया है। मेरठ यूनिवर्सिटी का दूसरा नाम चौधरी चरण सिंह यूनिवर्सिटी मेरठ है लेकिन यह मेरठ यूनिवर्सिटी के नाम से ज्यादा मशहूर है।

मेरठ विश्वविद्यालय ने अपने संबद्ध कॉलेजों को अयोध्या पर एक किताब पढ़ाने और खरीदवाने की सिफारिश की है। हालांकि रजिट्रार धीरेंद्र कुमार वर्मा ने आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि यूनिवर्सिटी ने सिर्फ किताब खरीदने पर विचार करने के लिए कहा था। मेरठ यूनिवर्सिटी से संबद्ध कॉलेजों को जारी एक सर्कुलर में इसके रजिस्ट्रार धीरेंद्र कुमार वर्मा ने संबद्ध कॉलेजों और अन्य संस्थानों के प्रमुखों को 'अयोध्या-परंपरा, संस्कृति, विरासत' नामक पुस्तक खरीदने पर विचार करने को कहा। इस पुस्तक के लेखक यतींद्र मिश्रा ने लिखा है। 6000 रुपये की यह किताब ऑनलाइन उपलब्ध है। टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक मेरठ यूनिवर्सिटी की वीसी संगीता शुक्ला की ओर से कॉलेजों को सर्कुलर भेजा गया था।
ताजा ख़बरें
सर्कुलर में कहा गया है, पुस्तक हिंदी और संस्कृत भाषाओं में उपलब्ध है...इसमें दुर्लभ चित्रों का संग्रह है...यह कॉलेजों के लिए बहुत उपयोगी साबित होगी, इसलिए पुस्तक खरीदने पर विचार करें।

सूत्रों के अनुसार, यूनिवर्सिटी संबद्ध कॉलेजों में पढ़ाने के लिए इस किताब को तय करने पर भी विचार कर रही है। मेरठ विश्वविद्यालय से पश्चिमी यूपी के सैकड़ों संबद्ध कॉलेज हैं। कॉलेजों को किताबें खरीदने के लिए कहने पर विपक्षी दलों ने विश्वविद्यालय की खिंचाई की। मेरठ में समाजवादी पार्टी (सपा) के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, यह शर्मनाक है कि विश्वविद्यालय, जो उच्च शिक्षा का केंद्र है, एक धार्मिक पुस्तक का प्रचार करने की कोशिश कर रहा है। एक स्थानीय कांग्रेस पदाधिकारी ने भी विश्वविद्यालय की आलोचना की। कांग्रेस नेता ने कहा, ऐसा तब होता है जब आरएसएस के कार्यकर्ताओं को विश्वविद्यालयों के कुलपति के रूप में नियुक्त किया जाता है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें