loader

मोदी कैबिनेट का विस्तार आज, ‘मिनिस्ट्री ऑफ़ को-ऑपरेशन’ का गठन

मोदी कैबिनेट 2.0 का पहला विस्तार बुधवार शाम को होगा। माना जा रहा है कि यह विस्तार काफ़ी बड़ा होगा और 20 नए चेहरों को मंत्रिमंडल में जगह दी जा सकती है जबकि कुछ मंत्रियों की छुट्टी भी हो सकती है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने नए मंत्रियों की सूची को अंतिम रूप दे दिया है।   

प्रधानमंत्री मोदी ने बीते दिनों कई केंद्रीय मंत्रियों से अलग-अलग मुलाक़ात की है और उनके विभागों के काम की समीक्षा की है। 

इधर, मोदी सरकार ने एक नये मंत्रालय का गठन किया है। इस मंत्रालय का नाम ‘मिनिस्ट्री ऑफ़ को-ऑपरेशन’ रखा गया है। इस मंत्रालय का गठन कैबिनेट विस्तार से ठीक एक दिन पहले किया गया है। 

इस मंत्रालय का गठन ‘सहकार से समृद्धि’ के दृष्टिकोण को ध्यान में रखते हुए किया गया है। माना जा रहा है कि यह मंत्रालय देश में सहकारिता के आंदोलन को मज़बूत करने के लिए प्रशासनिक, कानूनी और नीतिगत ढांचा उपलब्ध कराएगा। 

ये चेहरे हो सकते हैं शामिल

जिन चेहरों के कैबिनेट में शामिल होने की अटकलें लगाई जा रही हैं, उनमें पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, असम के पूर्व मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल, बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी, एलजेपी सांसद पशुपति पारस का नाम चर्चा में है। एक और सहयोगी दल जेडीयू को भी दो मंत्री पद मिल सकते हैं हालांकि जेडीयू की ओर से चार पद दिए जाने की मांग चर्चा में है। 
ताज़ा ख़बरें

इन नामों के अलावा महाराष्ट्र बीजेपी के वरिष्ठ नेता नारायण राणे, उत्तर प्रदेश से बीजेपी सांसद वरूण गांधी, टीएमसी छोड़कर आए दिनेश त्रिवेदी और कांग्रेस छोड़कर आए जितिन प्रसाद का नाम शामिल है। जितिन कुछ दिन पहले ही बीजेपी में शामिल हुए थे। 

इसके अलावा अनुप्रिया पटेल, रीता बहुगुणा जोशी, पंकज चौधरी, रामशंकर कठेरिया, लल्लन सिंह और राहुल कासवान का नाम भी संभावित मंत्रियों में लिया जा रहा है। केंद्रीय कैबिनेट में 81 सदस्य हो सकते हैं जबकि अभी 53 सदस्य हैं। 

युवा कैबिनेट होने का दावा 

एनडीटीवी ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि विस्तार के बाद मोदी कैबिनेट भारत के इतिहास की सबसे युवा कैबिनेट होगी। केंद्र सरकार की योजना छोटे समुदायों को जगह देने की है। इसके अलावा महिला मंत्री भी होंगी और ऐसे नेता भी शामिल होंगे जिनके पास प्रशासनिक अनुभव है। विस्तार के बाद मोदी कैबिनेट में ओबीसी वर्ग से दो दर्जन चेहरे होने की बात कही गई है। 

देश से और ख़बरें

राज्यपालों का तबादला 

कैबिनेट विस्तार से पहले ही कई राज्यों के राज्यपालों का तबादला किया गया है और 8 राज्यों में नए राज्यपालों की नियुक्ति भी की गई है। राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद की ओर से इस संबंध में आदेश जारी कर दिया गया है। 

केंद्रीय मंत्री थावर चंद गहलोत को कर्नाटक का राज्यपाल नियुक्त किया गया है। गहलोत सामाजिक कल्याण और सशक्तिकरण मंत्रालय का काम देख रहे हैं और राज्यसभा में बीजेपी संसदीय दल के नेता भी हैं। 

इन राज्यपालों का हुआ तबादला

मिज़ोरम के राज्यपाल पीएस श्रीधरन पिल्लई को गोवा, हरियाणा के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य को त्रिपुरा और त्रिपुरा के राज्यपाल रमेश बैस को झारखंड भेजा गया है। हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय अब हरियाणा के राज्यपाल का पद संभालेंगे जबकि हरि बाबू कंभमपति मिज़ोरम के राज्यपाल होंगे।

मंगूभाई छगनभाई पटेल को मध्य प्रदेश का और  राजेंद्र विश्वनाथ अर्लेकर को हिमाचल प्रदेश का राज्यपाल बनाया गया है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें