loader

कोरोना को लेकर जागरूक रहने की ज़रूरत: मोदी 

बीते दिनों में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की। प्रधानमंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मुख्यमंत्रियों से बात की। 

प्रधानमंत्री के अलावा केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया और संबंधित मंत्रालयों के तमाम आला अफसर भी बैठक में मौजूद रहे। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बैठक में कहा कि कोरोना से लड़ने के लिए जरूरी सभी स्वास्थ्य सुविधाएं चुस्त-दुरुस्त रहें। उन्होंने कहा कि शिक्षकों और अभिभावकों को भी कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए जागरूक रहने की जरूरत है। प्रधानमंत्री ने कहा कि मेडिकल कॉलेजों और जिला अस्पतालों में स्वास्थ्य सुविधाओं को दुरुस्त करने की जरूरत है। 

उन्होंने कहा कि केंद्र और राज्य सरकारों के साझा प्रयासों से ही आज देश में स्वास्थ्य सुविधाओं में सुधार हो पाया है। उन्होंने कहा कि विश्व में बन रहे हालात के बीच केंद्र और राज्यों के बीच संबंधों को बेहतर बनाना बेहद जरूरी हो गया है। उन्होंने कहा कि अस्पतालों का सेफ्टी ऑडिट हो जिससे अस्पतालों में आग लगने जैसी घटनाएं फिर से न हों। 

प्रधानमंत्री ने राज्य सरकारों से पेट्रोल और डीजल पर वेट कम करने की भी अपील की।

ताज़ा ख़बरें

प्रधानमंत्री इससे पहले भी कोरोना के मामले में मुख्यमंत्रियों के साथ ऐसी बैठक करते रहे हैं।

भारत में बीते कुछ दिनों में कोरोना ने रफ्तार पकड़ी है और यह आंकड़ा 24 घंटों में लगभग 3000 मामलों तक पहुंच गया है। बीते दिनों में दिल्ली-एनसीआर के भी कई स्कूलों में छोटे बच्चे कोरोना संक्रमित हुए थे। इसके बाद एहतियातन स्कूलों को बंद करना पड़ा था। 

भारत में अब तक वैक्सीन की 188 करोड़ डोज लग चुकी हैं और एहतियात बरतते हुए अब 6 से 12 साल की उम्र के बच्चों को भी आने वाले कुछ वक्त में वैक्सीन लगाए जाने की तैयारी है। 

देश से और खबरें

18 साल से ऊपर की उम्र के लोगों को भी वरिष्ठ नागरिकों की तरह प्रीकॉशन डोज लग रही है।

चीन में कोरोना को लेकर हालात बिगड़ रहे हैं और वहां लाखों लोगों को एक बार फिर लॉकडाउन में रहने को मजबूर होना पड़ा है। भारत में बीते दिनों में बढ़ते मामलों को देखते हुए सतर्कता बेहद जरूरी है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें