loader

भारत में 83 प्रतिशत कोरोना संक्रमित 60 साल से कम उम्र के

भारत में कोरोना संक्रमित लोगों में ज़्यादातर यानी 83 प्रतिशत से अधिक लोग 60 साल से कम उम्र के हैं। कोरोना रोगियों में सबसे ज़्यादा यानी 41 प्रतिशत लोग 21 से 40 साल के बीच की उम्र के हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के आँकड़ों से यह स्थिति साफ़ होती है। 

ट्रेंड के उलट

कोरोना के बारे में यह कहा जाता है कि इसकी चपेट में ज़्यादातर बूढ़े ही आते हैं, पर इसके उलट भारत में कोरोना की चपेट में आए लोगों में सिर्फ 17 प्रतिशत लोग ही ऐसे हैं जिनकी उम्र 60 साल से ऊपर है। 
देश से और खबरें
इससे यह भी स्पष्ट होता है कि 21-40 की उम्र के जो लोग इसकी चपेट में आए हैं, वे वैसे लोग हैं जो ख़ुद विदेशों से आए या वहां से आए लोगों के संपर्क में आए हैं। इनमें छात्र और पेशेवेर लोग भी हैं, जो दूसरे देशों से भारत लौटे हैं।  
विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना से मरने वालों में बूढ़े ही अधिक हैं। कोरोना से मरने वालों में वे लोग अधिक है, जिन्हें पहले से ही डायबिटीज़, दिल की बीमारी या हाई ब्लड प्रेशर था।
स्वास्थ्य विभाग के आँकड़ों के अनुसार, 20 साल तक की उम्र के सिर्फ़ 8.61 प्रतिशत कोरोना से प्रभावित हुए। कोरोना की चपेट में आए लोगों में 41.88 प्रतिशत लोग 21 से 40 की बीच के उम्र के हैं। इसके अलावा संक्रमित लोगों में 16.69 प्रतिशत लोग 41-60 के बीच की उम्र के हैं। 
स्वास्थ्य विभाग के आँकड़ों से यह भी पता चलता है कि जो 58 बेहद गंभीर मामले पाए गए, उनमें से ज़्यादातर केरल, मध्य प्रदेश और दिल्ली के हैं।

क्या कहना है सरकार का?

स्वास्थ्य मंत्रालय में संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा है कि मरने वालों में अधिकतर लोग बुजुर्ग थे और उन्हें  डायबिटीज़, गुर्दा रोग या हृदय रोग था। इसलिए ऐसे लोग जो इस जोख़िम वाली श्रेणी में आते हैं, उन्हें अधिक सावधान रहने की ज़रूरत है।
उन्होंने इसके आगे कहा, ‘हम एक बहुत ही संक्रामक और छूआछूत से फैलने वाले रोग से निपट रहे हैं। हम इससे प्रतिदिन ही लड़ रहे हैं। इसके बावजूद भारत में संक्रमण से प्रभावित होने वाले लोगों की तादाद दूनी होने की रफ़्तार दूसरे देशों से कम है।’ क्या यह राहत की बात है या तूफ़ान के आने के पहले की शांति है?
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें