loader

मोदी ने ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री से की मुलाक़ात, दोतरफा रिश्तों पर बात

अमेरिका की यात्रा पर गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वहाँ गुरुवार को ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरीसन से मुलाक़ात की। 

यह मुलाक़ात इस मामले में अहम है कि क्वाड्रिलैटरल स्ट्रैटजिक डॉयलॉग यानी क्वैड की शिखर बैठक अमेरिका में अभी ही होनी है। क्वैड में भारत और ऑस्ट्रेलिया के अलावा जापान और अमेरिका भी हैं। 

यह बैठक दोतरफा रिश्तों के लिहाज से भी महत्वपूर्ण है। नरेंद्र मोदी और स्कॉट मॉरीसन ने ही इस साल की शुरुआत में इंडिया- ऑस्ट्रेलिया स्ट्रैटजिक पार्टनरशिप पर दस्तख़त किए थे। यह क़रार वाणिज्य व उद्योग के लिहाज से अहम है। इसके तहत दोनों एक दूसरे को कई मामलों में रियायतें व छूट देने पर राजी हुए थे।

ख़ास ख़बरें

दोनों प्रधानमंत्रियों ने 15 सितंबर को टेलीफ़ोन पर बात की थी और इस पार्टनरशिप को और मजबूत करने पर राजी हुए थे।

पाँच कंपनियों के सीईओ से मुलाकात

मोदी ने वॉशिंगटन में पाँच बड़ी कंपनियों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों से अलग-अलग मुलाक़ातें कीं और उनसे भारत में निवेश करने का आग्रह किया।

उन्होंने सॉफ़्टवेअर कंपनी एडोब के शांतनु नारायण, जनरल एटॉमिक्स के विवेक लाल, क्वालकॉम के क्रिस्टियानो आमोन, फर्स्ट सोलर के मार्क विडमार और ब्लैकस्टोन के स्टीफ़न ए श्वर्ज़मैन से मुलाकात की।

समझा जाता है कि क्वालकॉम ने भारत में शोध परियोजनाएं लगाने में दिलचस्पी दिखाई है। 

क्रिस्टियानो आमोन ने भारत में 5-जी, पीएम वाणी और कई दूसरे डिजिटल कार्यक्रमों में दिलचस्पी दिखाई है। उन्होंने कहा कि भारत एक बड़ा बाज़ार है और वे इसे बड़े निर्यात बाज़ार के रूप में देखते हैं।

अडोब के सीईओ शांतनु नारायण ने मोदी के साथ मुलाकात के दौरान कोविड से लड़ने और तेज़ी से टीकाकरण के लिए भारत के प्रयासों को सराहा। उन्होंने भारत में हर बच्‍चे के लिए वीडियो, एनिमेशन लाने में दिलचस्पी ली। 
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हर बच्‍चे के लिए स्‍मार्ट शिक्षा अहम है। उन्‍होंने कहा कि कोविड युग में डिजिटल एजुकेशन की नींव रखी गई, अब हमें इस दिशा में आगे बढ़ना चाहिए।
ब्लैकस्टोन के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मोदी से मुलाकात के दौरान निवेश के लिए भारत को सबसे अच्‍छा बाज़ार क़रार दिया। स्‍टीफन श्‍वार्जमैन ने भारत में निवेश बढ़ाने में दिलचस्पी दिखाई। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें