loader

श्रमिक स्पेशल का नया नियम, राज्यों की अनुमति ज़रूरी नहीं, क्या बढ़ेगी तकरार?

भारतीय रेल ने श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाने के बारे में एक अहम फ़ैसला लिया है, जिससे राज्यों के साथ उसकी ठन सकती है। रेलवे ने कहा है कि अब श्रमिक स्पेशल चलाने से पहले उन राज्यों की अनुमति ज़रूरी नहीं होगी, जिन राज्यों को यह ट्रेन जा रही होगी। अब तक रेलवे उन राज्यों से पहले पूछ लेता था। अब ऐसा करना ज़रूरी नहीं होगा। 

राज्यों से केंद्र की ठनेगी?

इस मुद्दे पर कुछ राज्यों और केंद्र सरकार के बीच पहले कई बार ठन चुकी है। गृह मंत्री अमित शाह ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर आरोप लगाया था कि वह श्रमिक स्पेशल को अपने राज्य में घुसने नहीं दे रही हैं। ऐसा कर वह राज्य के प्रवासी मज़दूरों के साथ अन्याय कर रही हैं। 
देश से और खबरें
ममता बनर्जी ने इसे झूठ क़रार देते हुए गृह मंत्री को चुनौती दी थी कि वह इसे साबित करें या माफ़ी माँगे। 
अब ममता बनर्जी ने कहा है कि श्रमिक स्पेशल ट्रेन गुरुवार को पश्चिम बंगाल न पहुँचे क्योंकि वहां चक्रवाती तूफान अम्फान के उसी दिन पहुँचने की आशंका है। ऐसा होने से वह ट्रेन से पहुँचे लोगों पर ध्यान नहीं दे पाएंगी।

बिहार ने किया था विरोध

इसके पहले बिहार के मुख्यमंत्री ने प्रवासी मज़दूरों को उनके गृह राज्य भेजने के प्रस्ताव का ज़ोरदार विरोध किया था। उन्होंने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की उस पहल का विरोध किया था जिसमें उत्तर प्रदेश के प्रवासी मज़दूरों को दिल्ली और उसके आसपास के इलाक़े से निकालने के लिए बस भेजी गई थी।

अब बिहार से ख़बर आ रही है कि वहाँ लौट रहे प्रवासी मज़दूरों में से जिनकी कोरोना जाँच हुई है, उनमें से 25 प्रतिशत से अधिक लोग कोरोना से संक्रमित पाए गए हैं।

गोवा

बीते दिनों गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने ज़ोर देकर कहा था कि कोई भी ट्रेन उनके राज्य में न रुके। बता दें कि गोवा को कोरोना मुक्त घोषित कर दिया गया था। 
लेकिन देश के कई शहरों में हज़ारों की तादाद में लोग अपने-अपने घरों से निकल कर पास के रेलवे स्टेशन पर पहुँच रहे हैं। 
मंगलवार दोपहर को मुंबई के नज़दीक बांद्रा रेलवे स्टेशन के बाहर बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूरों का हुजूम उमड़ पड़ा। ये सभी प्रवासी मजदूर बिहार जाने वाली स्पेशल श्रमिक ट्रेन में चढ़ने के लिए आए थे। ट्रेन बांद्रा रेलवे टर्मिनल से पूर्णिया के लिए जानी थी। 

इसी तरह सोमवार को घर लौटने वाले प्रवासी मजदूर बड़ी संख्या में दिल्ली-ग़ाज़ियाबाद में इकट्ठा हो गए थे। ये प्रवासी मजदूर भी श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में चढ़ने के लिए आए थे। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग तार-तार हो गई थी। ऐसे में ख़तरा इस बात का है कि कहीं कोई एक व्यक्ति अगर संक्रमित हुआ तो वह कई और लोगों को अपनी चपेट में ले सकता है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें