loader

नीतीश : केंद्र से माँगे 5 लाख प्रोटेक्टिव किट्स, मिले 4 हज़ार

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने यह कह कर नरेंद्र मोदी की पिछले दरवाज़े से आलोचना की है कि उन्होंने 5 लाख पर्सनल प्रोटेक्टिव किट की माँग की थी, पर उन्हें अब तक सिर्फ 4,000 किट ही मिले हैं। कोरोना संक्रमण रोकने के लिए ये किट ज़रूरी हैं
नीतीश कुमार ने गुरुवार को प्रधानमंत्री के साथ सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हुई बैठक के बाद एक बयान में यह कहा है।
देश से और खबरें

नीतीश के कहने का मतलब?

नीतीश कुमार के कहने का कुल आशय यह था कि उन्होंने जितने उपकरण माँगे थे, केंद्र सरकार ने नहीं दिए हैं। नीतीश कुमार का सार्वजनिक रूप से यह कहना अहम इसलिए है कि उनका जनता दल (यूनाइटेड) बीजेपी का सहयोगी दल है और बिहार में दोनों की साझा सरकार है, जिसके मुख्यमंत्री नीतीश कुमार हैं। 
नीतीश कुमार ने यह भी कहा है कि उन्होंने 10 लाख एन-65 मास्क माँगे थे, पर उन्हें 10 हज़ार मास्क ही मिले हैं। उन्होंने यह भी कहा कि उन्होंने 10 लाख पीआई मास्क माँगे हैं, उन्हें 1 लाख मास्क मिले हैं।
बिहार के मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने 10 हज़ार आरएनए किट माँगे थे, उन्हें महज 250 किट ही मिले। बिहार ने 100 वेंटीलेटर की माँग की है, पर उसे अब तक एक भी नहीं मिला है। 

ज़रूरी उपकरण भी नहीं!

नीतीश कुमार ने ये शिकायतें ऐसे समय की हैं, जब कई डॉक्टरों ने कहा कि उन्हें ज़रूरी उपकरण नहीं दिए गए हैं। ऐसी कई ख़बरें छपी हैं जिनमें कहा गया है कि किस तरह डॉक्टर बग़ैर किसी उपकरण के ही इलाज कर रहे हैं, कई डॉक्टरों के संक्रमित होने की घटना भी सामने आई है। ऑल इंडिया इंस्टीच्यूट ऑफ़ मेडिकल साइसेंज जैसी जगहों पर भी एक डॉक्टर के कोरोना से संक्रमित होने की बात सामने आई है।
यह महत्वपूर्ण इसलिए भी है कि सरकार पर यह आरोप लगे हैं कि उसने कोरोना से लड़ने की तैयारी नहीं की थी, लॉकडाउन की तैयारी नही की थी, उसके पास ज़रूरी उपकरण नहीं हैं। यह आरोप भी लगा था कि सरकार ने विश्व स्वास्थ्य संगठन की चेतावनी के बावजूद पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट एकत्रित करने की कोशिश नहीं की थी, उसके उलट इन चीजों के निर्यात की छूट दी गई थी। आज वे चीजें ही नहीं हैं।  

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें