loader

चुनावी रैलियां, रोड शो नहीं होने चाहिए, वीके पॉल ने चुनाव आयोग से कहा

भारत की कोरोना टास्क फोर्स के प्रमुख वीके पॉल ने गुरुवार को चुनाव आयोग को बताया है कि ताजा हालात में बड़ी चुनावी रैलियां और रोड शो करना ठीक नहीं होगा। उन्होंने आयोग से कहा है कि इस तरह के चुनावी कार्यक्रम नहीं किए जाने चाहिए। डॉक्टर पॉल नीति आयोग के सदस्य भी हैं। 

बता दें कि कोरोना के मामले कुछ ही दिनों में बहुत तेज रफ्तार के साथ बढ़े हैं और बीते 24 घंटों में 90 हजार से ज्यादा मामले सामने आए हैं। 

कोरोनावायरस के तेजी से बढ़ते मामलों के बीच चुनाव आयोग को पांच राज्यों में विधानसभा के चुनाव भी कराने हैं। चुनाव आयोग अगले कुछ ही दिनों में इन राज्यों में चुनाव की तारीखों का एलान कर सकता है। 

ताज़ा ख़बरें

यह लगभग तय है कि कोरोना संक्रमण को देखते हुए आयोग कड़े दिशा-निर्देश जारी करेगा। पांच चुनावी राज्यों में उत्तर प्रदेश उत्तराखंड गोवा मणिपुर और पंजाब शामिल हैं।  

चुनाव आयोग ने कुछ दिन पहले प्रेस कांफ्रेंस करके कहा था कि सभी राजनीतिक दल चाहते हैं कि उत्तर प्रदेश में कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते हुए सही वक्त पर चुनाव कराए जाने चाहिए। निश्चित रूप से जिस तरह कोरोनावायरस के मामले तेज रफ्तार के साथ बढ़ रहे हैं उसमें इन पांच राज्यों में चुनाव करा पाना चुनाव आयोग के लिए बहुत बड़ी चुनौती है। 

चुनाव आयोग विधानसभा चुनाव को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय के भी संपर्क में बना हुआ है।

बीते साल जब कोरोना की दूसरी लहर चरम पर थी तब भी कई राज्यों में चुनाव हुए थे और उत्तर प्रदेश में भी पंचायत चुनाव हुए थे। उस दौरान बड़ी संख्या में लोगों की जान गई थी। ऐसे में चुनाव आयोग को बेहद सावधानी और समझदारी से काम करना होगा।
देश से और खबरें

चुनावी कार्यक्रम रद्द

तेज रफ्तार से बढ़ते कोरोना के मामलों को देखते हुए समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी अपने आने वाले कुछ दिनों के चुनावी कार्यक्रमों को रद्द कर दिया है। अखिलेश यादव को 9 जनवरी को अयोध्या में समाजवादी पार्टी की विजय रथ यात्रा लेकर पहुंचना था। इस कार्यक्रम के अलावा गोंडा और बस्ती में भी 7 और 8 जनवरी को उनकी चुनावी रैलियां थीं। लेकिन पूर्व मुख्यमंत्री ने इन सभी चुनावी कार्यक्रमों को रद्द कर दिया है। 

इससे पहले उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने कहा था कि वह कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए बड़ी राजनीतिक रैलियों का आयोजन नहीं करेगी। कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश के अलावा बाकी चुनावी राज्यों में भी बड़ी रैलियां न करने की बात कही है। 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को गुरुवार को नोएडा में आयोजित एक कार्यक्रम में शिरकत करनी थी लेकिन वह नहीं आए।  

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें