loader

बढ़ रहा ओमिक्रॉन, कोरोना के मामलों में भी 35 फीसद उछाल

भारत में ओमिक्रॉन के मामले बढ़ते जा रहे हैं और इनका आंकड़ा 1431 हो गया है। महाराष्ट्र में इसके सबसे ज्यादा मामले सामने आए हैं जबकि देशभर में कोरोना के मामले भी बढ़ रहे हैं। आज कोरोना के 22775 नए मामले सामने आए और इनमें 35 फीसद का उछाल देखने को मिला है। 

भारत में ओमिक्रॉन 23 राज्यों में फैल चुका है। महाराष्ट्र में इसके सबसे ज्यादा 454 केस हैं, इसके बाद दिल्ली में 351 मामले हैं। तमिलनाडु में 118 जबकि गुजरात में 115 और केरल में 109 मामले हैं। डब्ल्यूएचओ ने कुछ दिन पहले ही कहा है कि कोरोना की सुनामी दुनिया भर के स्वास्थ्य ढांचे को ध्वस्त कर सकती है।  

बता दें कि फ्रांस, यूरोप, अमेरिका, ब्रिटेन में कोरोना के बहुत ज़्यादा मामले आ रहे हैं। अमेरिका में तो 1 दिन में 5 लाख से ज्यादा केस आ चुके हैं। ओमिक्रॉन के बारे में यह कई बार कहा जा चुका है कि यह बहुत तेजी से फैलता है। 

ताज़ा ख़बरें

भारत में नए साल के जश्न और पांच राज्यों के चुनाव से पहले हो रही रैलियों में जिस तरह बड़ी संख्या में लोग उमड़ रहे हैं, उससे लगता है कि आने वाले दिनों में हालात खराब हो सकते हैं। ओमिक्रॉन के चलते ही फरवरी में कोरोना की तीसरी लहर आने की संभावना जताई जा चुकी है। 

बीते दिनों में महाराष्ट्र, दिल्ली, तमिलनाडु, मध्य प्रदेश सहित कई राज्यों ने तमाम तरह की पाबंदियां आयत की हैं। मुंबई में तो 15 जनवरी तक शाम 5 बजे से सुबह 5 बजे तक समुद्र के किनारे, पार्कों में और अन्य सार्वजनिक जगहों पर जाने की अनुमति लोगों को नहीं होगी। 

देश से और खबरें

बीते साल कोरोना की दूसरी लहर में बड़ी संख्या में लोगों की जान गई थी अगर लापरवाही जारी रही तो ऐसा फिर से होने की आशंका है। 

भारत में कोरोना की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए किशोरों और युवकों के टीकाकरण की शुरुआत 3 जनवरी से की जा रही है। इसमें 15 से 18 साल की उम्र के किशोरों और युवकों को टीके लगाए जाएंगे जबकि फ्रंटलाइन वर्कर्स और 60 साल से ऊपर के लोगों को भी एक अतिरिक्त डोज लगेगी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें