loader

ओमिक्रॉन: बुकिंग रद्द करवा रहे लोग, पर्यटन व्यवसाय पर फिर मार पड़ने का डर

कोरोना के डेल्टा वैरिएंट के बाद नया ख़तरा ओमिक्रॉन के रूप में सामने आय़ा है। इसे काफी तेज़ी से फैलने वाला बताया जा रहा है। इसकी आहट से ही भारत में पर्यटन व्यवसाय पर असर होने लगा है। 

टूर ऑपरेटर्स का कहना है कि ओमिक्रॉन के ख़तरे के चलते लोगों ने ट्रैवल एजेंसियों के जरिये की गई बुकिंग को रद्द करवाना शुरू कर दिया है। पिछले तीन दिनों में ही 20 फ़ीसदी बुकिंग रद्द हुई हैं। 

बीते साल भी लॉकडाउन के कारण पर्यटन व्यवसाय पर बुरी मार पड़ी थी और लंबे वक़्त तक शादियों, समारोहों का सिलसिला रुका रहा था। अब जब यह शुरू हो ही रहा था तो ओमिक्रॉन की दहशत ने इस व्यवसाय से जुड़े लोगों को परेशान कर दिया है। 

ताज़ा ख़बरें

दिसंबर में लोग जाड़े की छुट्टियां मनाने निकलते हैं, नए साल के साथ ही क्रिसमस के मौक़े पर होटल औऱ पर्यटन स्थल सैलानियों से गुलजार रहते हैं और पर्यटन व्यवसाय से जुड़े लोगों के लिए यह अच्छा वक़्त होता है। लेकिन बीते साल भी कोरोना की मार पड़ी थी और इस साल भी ऐसा होने का अंदेशा है। 

उत्तराखंड में भी चिंता 

उत्तराखंड में भी पर्यटन व्यवसाय से जुड़े लोग ओमिक्रॉन के आने से सहमे हुए हैं। यहां अल्मोड़ा से लेकर मसूरी और रानीखेत सहित कई जगहों पर होटल 90 फ़ीसदी तक बुक हो चुके हैं लेकिन होटल व्यवसायियों को डर है कि कोरोना के ख़तरे के कारण कहीं ये बुकिंग रद्द न हो जाएं। 

भारत में पर्यटन व्यवसाय से लाखों लोग जुड़े हुए हैं। उनकी आजीविका का यह एक मज़बूत सहारा है। ऐसे में ओमिक्रॉन की आहट के चलते उनका परेशान होना लाजिमी है।

पिछला साल भी उनके लिए बेहद ख़राब रहा है क्योंकि लॉकडाउन की वजह से ज़्यादा लोग नहीं आ पाए। 

देश से और ख़बरें
भारत सरकार ने एयरपोर्ट्स पर तमाम तरह के नए नियम लागू कर दिए हैं और कोरोना के ख़तरे को देखते हुए बहुत सारे देशों से उड़ानों को रद्द करने का फ़ैसला भी सरकार ले सकती है। ऐसे में निश्चित रूप से बाहर के देशों से भारत घूमने आने का प्लान बना रहे लोगों के क़दम ठिठक जाएंगे।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें