loader

‘एक देश, एक चुनाव’: कई दलों ने किया बैठक से किनारा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा ‘एक देश, एक चुनाव’ पर चर्चा के लिए बुलाई गई सर्वदलीय बैठक से कई दल ग़ैरहाज़िर रहे। कांग्रेस ने इससे दूर रहना ही बेहतर समझा जबकि बीएसपी अध्यक्ष मायावती, तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष ममता बनर्जी और आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल भी बैठक में नहीं आए। कुछ वाम दलों और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने इस बैठक में हिस्सा लिया। सीपीएम ने इसका विरोध किया है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी बैठक में शामिल हुए। 
ताज़ा ख़बरें
बैठक ख़त्म होने के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि अधिकतर पार्टियों ने इसका समर्थन किया है। राजनाथ सिंह ने बताया कि प्रधानमंत्री ने बैठक में कहा कि एक कमेटी बनाई जाएगी जो एक निश्चित समय में इस मुद्दे पर अपने सुझाव देगी। सिंह ने कहा कि हमने 40 राजनीतिक दलों को बैठक में आमंत्रित किया था, इसमें से 21 राजनीतिक दलों ने इसमें हिस्सा लिया और तीन दलों ने पत्र भेजकर अपनी राय रखी।
कांग्रेस में ही इसके भीतर अलग-अलग आवाज़ें उठ रही हैं। कांग्रेस नेता मिलिंद देवड़ा ने पार्टी से अलग राय दी है। देवड़ा ने कहा कि सरकार के इस प्रस्ताव पर डिबेट की जा सकती है। उन्होंने कहा कि 1967 तक देश में एक साथ चुनाव होते रहे हैं। देवड़ा ने कहा कि लगातार चुनाव की वजह से कामकाज प्रभावित होता है।
आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री और वाईएसआर कांग्रेस के प्रमुख जगन मोहन रेड्डी की पार्टी ने एक देश एक चुनाव का समर्थन किया है। पार्टी का कहना है कि इससे चुनाव खर्च और समय दोनों बचेंगे। एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने भी बैठक में हिस्सा लिया।
बीजेपी को इसमें ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक का साथ मिला है। पटनायक ने कहा है कि उनकी पार्टी एक देश, एक चुनाव के आइडिया से सहमत है। टीआरएस की तरफ़ से चंद्रशेखर राव के पुत्र और पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष केटी ने बैठक में हिस्सा लिया। वाम दलों की ओर से सीताराम येचुरी के अलावा सीपीआई के राज्यसभा सदस्य डी राजा भी बैठक में शामिल हुए। टीडीपी के मुखिया चंद्रबाबू नायडू ने बैठक में हिस्सा नहीं लिया। समाजवादी पार्टी ने कहा कि वह इसका विरोध करती है। इसके अलावा एआईएडीएमके, झारखंड मुक्ति मोर्चा, एआईयूडीएफ़, डीएमके, शिवसेना, आरजेडी, जेडीएस ने भी इसका विरोध किया है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें