loader

विपक्षी दलों की बैठक में नहीं जाएंगे टीएमसी सांसद, एकता में दरार

कांग्रेस के नेताओं को अपनी पार्टी में शामिल कराने की कई घटनाओं के बाद तृणमूल कांग्रेस ने उससे दूसरी और बढ़ाने का फ़ैसला किया है। इस वजह से विपक्षी एकता में दरार साफ दिख रही है।

इसकी मिसाल संसद के शीतकालीन सत्र के पहले होने वाली विपक्षी दलों की बैठक के पहले ही मिल गई है। 

कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने सोमवार को सभी विपक्षी दलों की एक बैठक बुलाई है, जिसमें सदन के अंदर विपक्षी दलों में तालमेल पर विचार विमर्श किया जाना है। लेकिन तृणमूल कांग्रेस के लोग इस बैठक में शामिल नहीं होंगे। 

ख़ास ख़बरें

क्या होगा विपक्षी एकता का?

खड़गे ने पहले कहा था कि विपक्षी दलों की एकता की वजह से ही मानसून सत्र में इन दलों ने मिल कर बेहतर काम किया था और सरकार को कई मुद्दों पर घेरने में कामयाब रहे थे। 

इसके पहले कांग्रेस ने तृणमूल पर आरोप लगाया था कि वह कांग्रेस को कमज़ोर कर बीजेपी को मजबूत कर रही है।

टीएमसी ने इसका खंडन करते हुए कहा था कि कांग्रेस की अपनी कमज़ोरियों की वजह से ऐसा हो रहा है और टीएमसी ने पश्चिम बंगाल चुनाव में बीजेपी के ख़िलाफ़ मोर्चा संभाला था और उसे शिकस्त दी थी। 

टीएमसी-कांग्रेस कटुता!

टीएमसी और कांग्रेस के बीच कटुता इसलिए बढी है कि बीते दिनों मेघालय के 17 में से 12 कांग्रेस विधायकों ने पार्टी छोड़ दी और तृणमूल में शामिल हो गए।

इससे टीएमसी मेघालय की सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी बन गई, जबकि उसका वहां कोई आधार ही नहीं है।

इसी तरह गोवा कांग्रेस के बड़े नेता लुईज़ीनो फ़लीरो ने सिर्फ पार्टी छोड़ी और बीजेपी में शामिल हुए, बल्कि टीएमसी ने बाद में उन्हें राज्यसभा का सदस्य भी बना दिया। 

opposition unity in crisis as TMC-Congress differ oves parliament winter session - Satya Hindi
टीएमसी में शामिल होते हुए कीर्ति आज़ाद
बिहार कांग्रेस के नेता व पूर्व सांसद कीर्ति आज़ाद भी पार्टी छोड़ कर तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गए। हालांकि आज़ाद का बिहार में बहुत बड़ा आधार नहीं बचा है, पर उनके टीएमसी में शामिल होने का सांकेतिक महत्व है। 

विश्लेषकों का कहना है कि इन वजहों से टीएमसी और कांग्रेस के बीच दूरी बहुत तेजी से बढ़ी है। इसका नतीजा तब दिखा जब ममता बनर्जी तीन दिन तक दिल्ली में रहने के बावजूद सोनिया गांधी से मिलने नहीं गईं। इतना ही नहीं, उन्होंने यह भी कह दिया कि वे हर बार दिल्ली आने पर कांग्रेस अध्यक्ष से भला क्यों मिलें। 

इन तमाम बातों का असर विपक्षी एकता पर पड़ना ही था और वह अब साफ दिख भी रहा है। 

टीएमसी-कांग्रेस रिश्ते पर क्या कहना है वरिष्ठ आशुतोष का, देखें यह वीडियो। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें