loader

भारत की चाय में कीटनाशक, कई देशों ने चाय वापस की

भारत की चाय में कीटनाशक पाए जाने की वजह से कई देशों ने भारत की चाय वापस कर दी है। भारतीय चाय निर्यातक संघ (आईटीईए) के अध्यक्ष अंशुमान कनोरिया ने यह जानकारी दी। उन्होंने शुक्रवार को कहा कि अंतरराष्ट्रीय और घरेलू दोनों खरीदारों ने यहां की चाय में कीटनाशक और रसायन की मात्रा स्वीकार्य सीमा से अधिक होने के कारण चाय की खेपों को लेने से मना कर दिया है।
ग्लोबल मार्केट में श्रीलंका की चाय बहुत बिकती है। लेकिन वहां संकट को देखते हुए भारतीय चाय बोर्ड निर्यात में तेजी लाने पर विचार कर रहा है। हालांकि, खेपों की नामंजूरी के कारण बाहरी शिपमेंट में गिरावट आ रही है। 
ताजा ख़बरें
कनोरिया ने समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया कि भारत में बेची जाने वाली सभी चाय भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (FSSAI) के मानदंडों के अनुरूप होनी चाहिए। हालांकि, अधिकांश खरीदार चाय खरीद रहे हैं जिसमें असामान्य रूप से बहुत ज्यादा केमिकल की मात्रा होती है।
2021 में भारत ने 195.90 मिलियन किलो चाय का निर्यात किया। प्रमुख खरीदार स्वतंत्र राज्यों के राष्ट्रमंडल (सीआईएस) राष्ट्र और ईरान थे। बोर्ड का लक्ष्य इस साल 30 करोड़ किलो चाय का लक्ष्य हासिल करना है। 
देश से और खबरें
कनोरिया ने कहा कि कई देश चाय के लिए सख्त नियमों का पालन कर रहे हैं। अधिकांश देश यूरोपीय संघ के मानकों की विविधताओं का पालन करते हैं, जो एफएसएसएआई नियमों से अधिक कठोर हैं। कनोरिया ने कहा कि कई देश चाय के लिए सख्त नियमों का पालन कर रहे हैं। अधिकांश देश यूरोपीय संघ के मानकों की विविधताओं का पालन करते हैं, जो एफएसएसएआई नियमों से अधिक कठोर हैं।  
चाय बोर्ड के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इस मुद्दे पर चाय पैकर्स और निर्यातकों की ओर से शिकायतें मिली हैं। उन्होंने कहा कि यह बार-बार दोहराया जाता है कि उत्पादकों को मौजूदा FSSAI मानदंडों का सख्ती से पालन करना चाहिए। निर्माताओं के संगठनों द्वारा एफएसएसएआई के समक्ष मानदंडों में संशोधन का मुद्दा उठाया गया है। यह स्पष्ट है कि निर्यात को आयात करने वाले देशों के मौजूदा मानदंडों का पालन करना चाहिए।
भारत ने 2021 में 5,246.89 करोड़ रुपये की चाय का निर्यात किया।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें