loader
फ़ोटो साभार : ट्विटर ऑफ़िस ऑफ़ शिवराज

उभरती 'कोरोना की सेकंड पीक' को तुरत रोकना होगा: प्रधानमंत्री

देश में तेज़ी से बढ़ते कोरोना के प्रकोप के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि 'उभरते कोरोना की सेकंड पीक' को रोकना ही होगा। कोरोना संक्रमण को लेकर मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में प्रधानमंत्री ने कहा कि छोटे स्तर पर केंटेनमेंट ज़ोन बनाने, प्रतिबंधों को लागू करने जैसे क़दमों को उठाने को कहा। उन्होंने मुख्यमंत्रियों से कहा कि यदि महामारी को अभी नहीं रोका गया तो यह पूरे देश में फिर से फैल जाएगा। 

प्रधानमंत्री ने जोर देकर कहा कि लोगों में दहशत की स्थिति पैदा किए बिना पहल किए जाने की ज़रूरत है। यह बैठक तब हो रही है जब देश में एक दिन में 28 हज़ार 903 कोरोना संक्रमण के मामले आए हैं। यह 11 दिसंबर के बाद सबसे ज़्यादा है। तब 30254 संक्रमण के मामले आए थे। इसी हफ़्ते केंद्र सरकार ने कहा है कि महाराष्ट्र में कोरोना की दूसरी लहर आ गई है। 24 घंटे में सबसे ज़्यादा संक्रमण के मामले भी महाराष्ट्र से ही आए हैं। एक दिन में महाराष्ट्र में 17 हज़ार 864, केरल में 1970, पंजाब में 1463, कर्नाटक में 1135 और गुजरात में 954 मामले आए हैं।

ताज़ा ख़बरें

भारत में कोरोना का ख़तरा फिर बढ़ गया है और रिकॉर्ड संक्रमण के मामले आ रहे हैं। संक्रमण का ख़तरा कितना ज़्यादा है, यह इससे ही समझा जा सकता है कि इस मसले पर प्रधानमंत्री मोदी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की। इस बैठक में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल शामिल नहीं हो पाए हैं। 

प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्रियों की ऑनलाइन बैठक में एक प्रस्तुति के दौरान कहा गया है कि 70 ज़िलों में कोरोना के मामलों में 150% की वृद्धि हुई। सबसे ज़्यादा प्रभावित राज्य महाराष्ट्र में 60 फ़ीसदी सक्रिय कोरोनो के मामले हैं। पंजाब में कोरोना संक्रमण की बढ़ती संख्या को रोकने के लिए पूरे राज्य में RTPCR टेस्ट को बढ़ाने का प्रस्ताव किया गया। 

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पहले जो दूसरे और तीसरे स्तर के शहर उतने प्रभावित नहीं हुए थे वे इस बार प्रभावित हो रहे हैं। प्रधानमंत्री ने चेताया, 'इस आपदा में अगर हम बच पाए तो इसकी एक वजह यह थी कि हम गाँवों को इससे मुक्त रख पाए थे। इस बार संक्रमण दूसरे और तीसरे स्तर के शहरों में पहुँच रहा है।'

प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि यदि गाँवों में संक्रमण फैला तो उसको संभालने में व्यवस्थाएँ कम पड़ जाएँगी। उन्होंने इसके सुधार करने की भी बात कही।

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने महाराष्ट्र के मुख्य सचिव को पत्र लिखकर कहा था कि केंद्रीय टीम ने राज्य में स्थिति का जायजा लिया था। केंद्रीय टीम ने कहा है कि कोरोना को नियंत्रित करने के लिए अगस्त-सितंबर 2020 की तरह ही प्रशासनिक तैयारी की जानी चाहिए।

राज्य में कोरोना के हालात चिंताजनक हैं और कोरोना दिशा-निर्देशों की पालना को लेकर सवाल उठते रहे हैं। ख़ुद मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे कई बार लोगों को चेता चुके हैं। उन्होंने शनिवार को राज्य में होटल और रेस्तरां को आदेश दिया कि वे अपने परिसर में कोरोना प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करें और राज्य को लॉकडाउन जैसे कठोर उपायों को लागू करने के लिए मजबूर न करें। 

pm modi meets cms and says need to stop emerging second peak of coronavirus - Satya Hindi

भारत में संक्रमण की दूसरी लहर?

संक्रमण के मामले बढ़ने से संदेह यह जताया जाने लगा है कि क्या भारत में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर शुरू हो गई है। यह इसलिए कि हर रोज़ संक्रमण के मामले क़रीब 10 हज़ार आने लगे थे वे अब बढ़कर क़रीब 29 हज़ार हो गए हैं। कोरोना पॉजिटिव एक्टिव मामले जहाँ 1 लाख 37 हज़ार पहुँच गए थे वे अब बढ़कर 2 लाख से काफ़ी ज़्यादा हो गए हैं। पहले जहाँ ठीक होने वाले मरीज़ों की संख्या नये कोरोना पॉजिटिव वालों की संख्या से ज़्यादा थी वहीं अब नये कोरोना पॉजिटिव मरीज़ों की संख्या ज़्यादा हो गई है। और तो और देश के कई ज़िलों में सख़्त लॉकडाउन लगा दिया गया है और महाराष्ट्र सहित कुछ राज्यों ने पूरे राज्य में ही लॉकडाउन लगाने की चेतावनी भी दे दी है।

देश से और ख़बरें

यूरोप में कोरोना की तीसरी लहर!

इटली में फिर से लॉकडाउन लगाया गया है। इस प्रयास में कि कोरोना की तीसरी लहर को रोका जाए। जर्मन सरकार की स्वास्थ्य से जुड़ी एजेंसी रॉबर्ट कोच संस्थान के प्रमुख ने कहा है कि जर्मनी में तीसरी लहर पहले ही शुरू हो गई है। फ्रांस में नवंबर के बाद अब हर रोज़ सबसे ज़्यादा संक्रमण के मामले आ रहे हैं और वहाँ पूरे देश में लॉकडाउन लगाने पर विचार किया जा रहा है। उस तरह से जैसे पिछले साल मार्च-अप्रैल महीने में लगाया गया था। पूरे यूरोप के हालात कैसे हैं इसका अंदाज़ा इसी से लग सकता है कि अब हर रोज़ डेढ़ लाख तक संक्रमण के मामले आने लगे हैं। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें