loader

वंशवादी दल संविधान निष्ठ लोगों के लिए चिंता का विषय: मोदी

संविधान दिवस पर प्रधानमंत्री मोदी ने विपक्षी दलों को जमकर कोसा। कोसा क्या, सीधे-सीधे कहें तो उन्हें लोकतंत्र के लिए ख़तरा बताने की कोशिश की। संसद में संविधान दिवस समारोह का बहिष्कार करने वाले विपक्षी दलों को आड़े हाथों लेते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि 'परिवार द्वारा संचालित पार्टियों' ने लोकतांत्रिक गुणों को खो दिया है और उनसे देश के लोकतंत्र की रक्षा की उम्मीद नहीं की जा सकती है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत एक संकट की ओर बढ़ रहा है, जो लोकतंत्र की भावना में विश्वास रखने वालों के लिए बड़ी चिंता का विषय है। 

ताज़ा ख़बरें

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने विपक्षी दलों पर निशाना साधते हुए कहा, 'जब कोई राजनीतिक दल अपना लोकतांत्रिक चरित्र खो देता है, तो वह लोकतंत्र की रक्षा कैसे कर सकता है? आज कश्मीर से कन्याकुमारी तक भारत के कोने-कोने पर नज़र डालें, तो देश एक ऐसे संकट की ओर बढ़ रहा है जिससे संविधान का सम्मान करने वाले हर व्यक्ति को चिंता होनी चाहिए। राजनीतिक दल - परिवार के लिए पार्टी, परिवार द्वारा पार्टी...., और मुझे विस्तार से बताने की ज़रूरत नहीं है। यदि कोई पार्टी एक परिवार द्वारा कई पीढ़ियों तक चलाई जाती है, तो यह स्वस्थ लोकतंत्र के लिए अच्छा नहीं है... कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक के राजनीतिक दलों को देखें।'

उन्होंने इसके आगे कहा कि 'यह संविधान के सिद्धांतों के ख़िलाफ़ है, जो संविधान हमें बताता है, उसके बिल्कुल विपरीत है।'
प्रधानमंत्री का यह बयान तब आया है जब आने वाले शीतकालीन सत्र से पहले कांग्रेस सांसद मल्लिकार्जुन खड़गे ने बैठक की है और सरकार को घेरने के लिए विपक्षी दलों के साथ रणनीति बनाई है। उन विपक्षी दलों ने संविधान दिवस कार्यक्रम से खुद को दूर रखा।

वैसे, वंशवादी राजनीति का उदाहरण हर राजनीतिक दल में मिलता है। शायद यही वजह है कि प्रधानमंत्री मोदी ने वंशवाद की अपनी एक परिभाषा दी। उन्होंने कहा, 'वंशवाद की राजनीति से मेरा मतलब यह नहीं है कि एक परिवार के एक से अधिक सदस्य राजनीति में प्रवेश नहीं कर सकते। नहीं... क्षमता के आधार पर, लोगों के आशीर्वाद से, लोग राजनीति में शामिल हो सकते हैं। लेकिन अगर एक राजनीतिक दल - पीढ़ी पीढ़ी दर पीढ़ी - एक परिवार द्वारा चलाया जाता है, यह लोकतंत्र के लिए ख़तरा बन जाता है।' यह सीधे तौर पर गांधी परिवार पर तीखा हमला था।

देश से और ख़बरें

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि 2015 में भी उनकी सरकार को विरोध का सामना करना पड़ा था जब पहली बार संविधान दिवस मनाया गया था। उन्होंने कहा, 'आप ऐसा क्यों कर रहे हैं... क्या ज़रूरत है, उन्होंने पूछा था।' उन्होंने विपक्ष की आलोचना करते हुए कहा, 'यह दिन बीआर आंबेडकर को देश के लिए किए गए कार्यों के लिए सम्मान देने के लिए था।' 

एनडीटीवी की रिपोर्ट के अनुसार, कांग्रेस सांसद मनिकम टैगोर ने कहा, 'बीजेपी के नेतृत्व वाली यह सरकार संविधान का सम्मान नहीं करती... वे संविधान के अनुसार शासन नहीं करते लेकिन संविधान दिवस मनाना चाहते हैं... यह एक जनसंपर्क कार्यक्रम है जिसे उन्होंने शुरू किया था।'

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें