loader
पत्रकार मोहम्मद जुबैर को दिल्ली पुलिस गुरुवार को बेंगलुरु स्थित उनके घर ले गई

जुबैर के बेंगलुरु वाले घर पहुंची पुलिस, 1 जुलाई को दिल्ली हाईकोर्ट में सुनवाई

दिल्ली पुलिस की एक टीम गुरुवार को ऑल्ट न्यूज़ के सह-संस्थापक मोहम्मद जुबैर के बेंगलुरु स्थित आवास पर जांच के लिए पहुंची। ऑल्ट न्यूज ने इस बीच जुबैर की गिरफ्तारी को हाईकोर्ट में चुनौती दे दी है। हाईकोर्ट 1 जुलाई को सुनवाई करेगा।
मोहम्मद जुबैर को ट्वीट के जरिए हिंदुओं की धार्मिक भावनाओं को आहत करने के आरोप में सोमवार को गिरफ्तार किया गया था। मंगलवार को दिल्ली की एक अदालत ने उन्हें चार दिन के रिमांड पर दिल्ली पुलिस को सौंप दिया था।

ताजा ख़बरें
पुलिस ने बुधवार को कई बैंकों को पत्र लिखकर जुबैर के खाते के विवरण और अन्य वित्तीय लेनदेन के बारे में जानकारी मांगी थी।

अधिकारी ने यह भी कहा कि फैक्ट चेकिंग वेबसाइट के सह-संस्थापक द्वारा इस्तेमाल किए जा रहे मोबाइल फोन को फॉर्मेट किया गया है। इसमें मामले से संबंधित जानकारी नहीं है। पुलिस के अनुसार, जुबैर ने बताया है कि उनका वो फोन खो चुका है, जिसे कथित तौर पर आपत्तिजनक ट्वीट पोस्ट करने में इस्तेमाल किया गया था।

इस बीच, यह तथ्य भी सामने आया कि अज्ञात ट्विटर हैंडल अब माइक्रोब्लॉगिंग साइट पर मौजूद नहीं है। जिसके जरिए जुबैर के खिलाफ शिकायत दिल्ली पुलिस को टैग की गई थी। जुबैर के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 153ए (धर्म, नस्ल, जन्म स्थान, भाषा आदि के आधार पर विभिन्न समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देना) और 295ए (धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के इरादे से किया गया जानबूझकर और दुर्भावनापूर्ण कार्य) के तहत मामला दर्ज किया गया है।

हाईकोर्ट में शुक्रवार को सुनवाई

दिल्ली हाईकोर्ट गुरुवार को ऑल्ट न्यूज़ के सह-संस्थापक मोहम्मद जुबैर की याचिका पर सुनवाई के लिए सहमत हो गया, जिसमें उन्होंने 2018 में एक हिंदू देवता के खिलाफ पोस्ट किए गए एक आपत्तिजनक ट्वीट से संबंधित मामले में उनकी पुलिस रिमांड को चुनौती दी थी।

जुबैर की याचिका का उल्लेख वकील वृंदा ग्रोवर ने हाईकोर्ट की वेकेशन बेंच के सामने किया। कोर्ट ने इसे शुक्रवार को सुनवाई के लिए लिस्ट कर दिया।
देश से और खबरें
बता दें कि पत्रकार मोहम्मद जुबैर ने एक ट्वीट में जिस तस्वीर का इस्तेमाल किया वह ऋषिकेश मुखर्जी की 1983 की हिंदी फिल्म, किसी से ना कहना की थी और फिल्म पर प्रतिबंध नहीं लगाया गया था। इसमें हनीमून होटल का नाम एक देवता के नाम पर करने पर चुटकी ली गई थी। जुबैर के उस ट्वीट को मुद्दा बना दिया गया, जबकि उसी फिल्म के उस हिस्से को असंख्य लोगों ने सोशल मीडिया पर डाला है, जिस पर आजतक कोई विवाद नहीं हुआ।
पूरी दुनिया में मोहम्मद जुबैर और एक्टिविस्ट तीस्ता सीतलवाड़ की गिरफ्तारी की निन्दा हो रही है। यूएन महासचिव के प्रवक्ता ने भी इस गिरफ्तारी पर चिन्ता जताई है। जुबैर के मामले में दक्षिणपंथी संगठन निन्दा अभियान चला रहे हैं। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें