loader

नफरत की राजनीतिः 108 के जवाब में 197 मोदी के समर्थन में उतरे

प्रधानमंत्री मोदी के समर्थन में शनिवार को 197 पूर्व ब्यूक्रेट्स उतर पड़े। दरअसल, हाल ही में 108 पूर्व ब्यूक्रेट्स ने पीएम मोदी से अपील की थी कि वो नफरत की राजनीति बंद कराएं। अब 197 पूर्व नौकरशाहों ने पीएम की तारीफ करते हुए उस अपील का जवाब दिया है। 197 पूर्व नौकरशाहों ने उस अपील को 'एजेंडा वाला पक्षपातपूर्ण और राजनीतिक बयान' कहा। कुल 197 हस्ताक्षर करने वालों 8 रिटायर्ड जज, 97 रिटायर्ड ब्यूरोक्रेट्स और 92 सशस्त्र बलों के दिग्गज शामिल हैं।

इन लोगों ने अपने पत्र में कहा कि यह सामाजिक उद्देश्य की उच्च भावना वाले नागरिकों के रूप में खुद की ओर ध्यान आकर्षित करने का बार-बार प्रयास है, जबकि वास्तविकता यह है कि यह एक स्पष्ट राजनीतिक मोदी सरकार विरोधी कवायद है जो यह समूह समय-समय पर इस विश्वास में करता है कि वे जनता की राय को आकार दे सकते हैं।

ताजा ख़बरें
इन 197 लोगों ने पीएम मोदी के आलोचकों के खुले पत्र को पाखंड बताया। इन लोगों ने कहा कि जनता एक कथित संवैधानिक आचरण समूह (सीसीजी) द्वारा नफरत की राजनीति को खत्म करने के आह्वान से प्रभावित नहीं होगी। यह उनके लिए अपनी निराशा को दूर करने का एक तरीका है। वो लोग जानते हैं कि जनता की राय प्रधानमंत्री मोदी के पीछे मजबूती से बनी हुई है जैसा कि हाल के पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों ने दिखाया है।

इन लोगों ने कहा कि ये लोग अपनी बात कहने के लिए उसी समय अवसर चुनते हैं जब यह उनके लिए सुविधाजनक हो।

इन लोगों ने पश्चिम बंगाल की चुनाव बाद की हिंसा का 'अभूतपूर्व' हवाला देते हुए कहा कि उस पर सीसीजी क्यों चुप रहा था। वही रवैया विभिन्न राजनीतिक दलों द्वारा शासित विभिन्न राज्यों में कई हिंसक घटनाओं (रामनवमी, हनुमान जयंती) पर उनकी प्रतिक्रियाओं में देखा जा सकता है। पत्र में उन घटनाओं का उल्लेख किया गया है जिनका जिक्र सीसीजी ने नहीं किया था।  
देश से और खबरें
इन लोगों ने 108 पूर्व ब्यूरोक्रेट्स पर ताना मारा कि इस तरह के अध्ययन चूक "संवैधानिक आचरण" के प्रति उनके लगाव को उजागर करते हैं। '... गैर-मुद्दों को मुद्दा बनाने की जानबूझकर कोशिश की गई है। पीएम मोदी की 'नफरत की राजनीति' की आलोचना करने वाले पत्र की आलोचना करते हुए 197 लोगों ने लिखा है कि वास्तविकता यह है कि बीजेपी सरकार के कार्यकाल में बड़ी सांप्रदायिक हिंसा की घटनाओं में काफी कमी आई है और जनता ने इसकी सराहना की है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें