loader

राहुल ने पूछा- बूस्टर डोज़ देना कब शुरू करेगी सरकार

ओमिक्रॉन वैरिएंट के बढ़ते ख़तरे के बीच कोरोना की बूस्टर डोज़ की मांग उठ रही है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को केंद्र सरकार से पूछा है कि वह लोगों को बूस्टर डोज़ देना कब से शुरू करेगी। 

राहुल ने कहा है कि हमारी बड़ी आबादी को अभी भी टीका नहीं लगा है। बता दें कि बीते कुछ ही दिनों में ओमिक्रॉन वैरिएंट देश के 15 राज्यों में पहुंच चुका है और आशंका जताई जा रही है कि इसकी वजह से फरवरी में कोरोना की तीसरी लहर आ सकती है। 

ओमिक्रॉन को लेकर आई रिपोर्ट्स यह बता चुकी हैं कि यह वैरिएंट बहुत तेज़ी से फैलता है और वैक्सीन के असर को कम कर सकता है। हालांकि यह भी कहा गया है कि यह डेल्टा वैरिएंट से ज़्यादा ख़तरनाक नहीं है।

इसीलिए दुनिया भर के साथ ही भारत में भी लोगों के मन में सवाल है कि आख़िर बूस्टर डोज़ कब लगनी शुरू होगी। 

ताज़ा ख़बरें

ओमिक्रॉन की तेज़ रफ़्तार 

ओमिक्रॉन किस रफ़्तार से फैल रहा है, इसका पता अमेरिका से आ रहे आंकड़ों से चलता है। अमेरिका में कोरोना के कुल नए मामलों में से 73.2% मामले ओमिक्रॉन के हैं। उधर, विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने इस महामारी को रोकने के लिए बड़े क़दम उठाने पर जोर दिया है। 

बूस्टर डोज़ जरूरी

उधर, रायटर्स की रिपोर्ट के अनुसार मैसाचुसेट्स जनरल अस्पताल (एमजीएच), हार्वर्ड और एमआईटी के शोधकर्ताओं के अध्ययन में पता चला है कि भले ही वैक्सीन की रूटीन डोज़ ओमिक्रॉन के ख़िलाफ़ पर्याप्त सुरक्षा नहीं देती हैं, लेकिन इसकी बूस्टर डोज़ से सुरक्षा बढ़ जाती है। 

देश से और ख़बरें

केंद्र ने राज्यों को चेताया 

ओमिक्रॉन के बढ़ते मामलों के बीच केंद्र सरकार ने पत्र लिखकर राज्यों से कहा है कि ओमिक्रॉन डेल्टा वैरिएंट से तीन गुना ज़्यादा संक्रामक है और इसे नियंत्रित करने के लिए वार रूम को सक्रिय किया जाना चाहिए। केंद्र ने यह भी कहा है कि ओमिक्रॉन के अलावा देश के कई हिस्सों में डेल्टा वैरिएंट अभी भी मौजूद है।

केंद्र ने पत्र में रोकथाम के उपाय भी बताए हैं। इन उपायों में रात का कर्फ्यू, कार्यालयों व सार्वजनिक परिवहन में लोगों की संख्या पर प्रतिबंध लगाना शामिल हैं। यह भी सुझाव दिया गया है कि आपातकालीन धन का उपयोग अस्पताल के बिस्तर, एम्बुलेंस, ऑक्सीजन उपकरण और दवाओं सहित चिकित्सा के बुनियादी ढांचे को बढ़ाने के लिए किया जाए।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें