loader

भारत में तानाशाही, लोकतंत्र ख़त्म हो चुका है: राहुल गांधी 

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की। राहुल ने कहा कि आज हिंदुस्तान में लोकतंत्र ख़त्म हो चुका है और तानाशाही लागू है। उन्होंने कहा कि संसद में विपक्ष को बोलने नहीं दिया जाता है और केंद्र सरकार नहीं चाहती कि जनता से जुड़े मुद्दों को उठाया जाए। राहुल ने कहा कि यह सरकार सिर्फ चार पांच लोगों के लिए काम कर रही है।

राहुल ने कहा कि कांग्रेस की सरकारों के वक्त हमारा संस्थानों के कामकाज में कोई दखल नहीं था और उन्हें पूरी आज़ादी थी। उन्होंने कहा कि आरएसएस देश में मनमानी कर रहा है। उन्होंने कहा कि सबसे ज्यादा बेरोजगारी भारत में है और वित्त मंत्री को महंगाई और बेरोजगारी के आंकड़े नहीं दिख रहे हैं। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार बताए कि स्टार्टअप इंडिया कहां है और स्टार्टअप लोगों को नौकरी से निकाल रहे हैं।

राहुल गांधी ने कहा कि जितना वह लोगों के सामने सच को रखेंगे उतने ही ज्यादा उन पर आक्रमण होंगे। उन्होंने कहा कि वह आम लोगों के मुद्दों को उठाते रहेंगे। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार डरी हुई है और यह जनता की ताकत से डरती है।

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि हिटलर भी चुनाव जीत जाता था और वह इसलिए चुनाव जीतता था क्योंकि जर्मनी के सभी संस्थान उसके हाथ में थे। वायनाड से कांग्रेस के सांसद राहुल गांधी ने कहा कि वित्त मंत्री को अर्थव्यवस्था की कोई समझ नहीं है और वह सिर्फ सरकार का मुखौटा हैं। उन्होंने कहा कि छोटे उद्योग पूरी तरह खत्म हो गए हैं और वित्त मंत्री कहती हैं कि कोई दिक्कत नहीं है।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में मौजूद राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि देश में माहौल बेहद खतरनाक है और अब जनता को ही आगे आना चाहिए। उन्होंने कहा कि मीडिया को भी मोदी सरकार की तानाशाही के खिलाफ आवाज़ उठानी चाहिए।
Rahul gandhi said India under dictatorship democracy is dead - Satya Hindi

बता दें कि ईडी ने नेशनल हेराल्ड से जुड़े कथित मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी से पूछताछ की थी। कांग्रेस सांसद मल्लिकार्जुन खड़गे से भी जांच एजेंसी ने गुरूवार को पूछताछ की। तब कांग्रेस ने जोरदार प्रदर्शन किया था। 

राहुल गांधी ने गुरूवार को कहा था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उन्हें और अन्य विपक्षी नेताओं की आवाजों को चुप कराने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि नेशनल हेराल्ड का पूरा मामला डराने और धमकाने का है। राहुल ने कहा कि नरेंद्र मोदी और अमित शाह को लगता है कि थोड़े दबाव डालने से हम चुप हो जाएंगे लेकिन ऐसा नहीं होगा।

देश से और खबरें
उधर, कांग्रेस महंगाई, जीएसटी की दरों में बढ़ोतरी, बेरोज़गारी जैसे बड़े मुद्दों को लेकर प्रदर्शन कर रही है। कांग्रेस ने कहा है कि पिछले कुछ सालों में पेट्रोल, डीजल, एलपीजी सिलेंडर, नमक, अरहर दाल,  सोयाबीन तेल, सरसों तेल, चाय जैसी जरूरी चीजों के दामों में अच्छी-खासी बढ़ोतरी हुई है और इससे देश का आम और खास वर्ग बुरी तरह हलकान है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें