loader

राजस्थान में सीएम का मामला फँसा, पायलट दावा छोड़ने को तैयार नहीं

9:45 PM - राहुल गाँधी साढ़े दस बजे एक बार फिर सचिन पायलट से मिलेंगे और कोशिश करेंगे कि वे अशोक गहलोत के पक्ष में अपना नाम वापस ले लें। समझा जाता है कि सचिन पायलट अपना दावा छोड़ने को तैयार नहीं है।उधर राज्य में उनके समर्थक जगह-जगह प्रदर्शन कर रहे हैं। पायलट ने उनको संयम रखने को कहा है।9:00 PM - मध्य प्रदेश में कमलनाथ का नाम फ़ाइनल हो गया है। आज विधायक दल की बैठक के बाद उनके नाम की घोषणा होने की संभावना है। छत्तीसगढ़ में कल इस बारे में फ़ैसला किया जाएगा।
06:01 PM - मध्य प्रदेश के कांग्रेस विधायकों की बैठक भोपाल में रात 8.30 बजे होगी। 05:36 PM - राहुल के आवास पर चल रही बैठक में प्रियंका भी शामिल। ज्योतिरादित्य सिंधिया, एके एंटनी भी मौजूद।05:34 PM - जयपुर में पायलट समर्थकों का उग्र विरोध जारी। हाईवे जाम किया, टायर जलाए।04:05 PM - ज्योतिरादित्य सिंधिया राहुल गाँधी के आवास पर मौजूद. कमल नाथ भी राहुल से मुलाक़ात करेंगे।04:02 PM - राजनीतिक गहमागहमी के बीच सोनिया गाँधी, राहुल गाँधी से मिलने उनके आवास पर पहुँच गई हैं।कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और सांसद ताम्रध्वज साहू छत्तीसगढ़ के सीएम हो सकते हैं। बताया जा रहा है कि राहुल गाँधी ने इसके लिए मन बना लिया है। इसके अलावा अशोक गहलोत को राजस्थान की कमान सौंपी जा सकती है। गहलोत पार्टी के वरिष्ठ नेता हैं और दो बार पहले भी सीएम रह चुके हैं। अशोक गहलोत के घर के बाहर उनके समर्थकों ने जश्न मनाना शुरू कर दिया है। 
तेलंगाना में के. चंद्रशेखर राव ने गुरुवार को मुख्यमंत्री पद पर शपथ ली। विधानसभा चुनाव में उनकी पार्टी टीआरएस को भारी जीत मिली है।
राजस्थान में सीएम पद को लेकर सस्पेंस बरक़रार है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट और पूर्व सीएम अशोक गहलोत से बातचीत की है। बताया जा रहा है कि राज्य में सीएम पद को लेकर जल्द फ़ैसला हो सकता है। गहलोत और पायलट राहुल गाँधी से मुलाक़ात करके बाहर आ गए हैं। 
राजस्थान में सचिन पायलट को सीएम बनाने की माँग को लेकर उनके समर्थकों ने दिल्ली में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के दफ़्तर के बाहर जमकर नारेबाजी की। 
मध्य प्रदेश, राजस्थान, और छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री का फ़ैसला कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी आज करेंगे। राजस्थान से अशोक गहलोत और सचिन पायलट गुरुवार सुबह ही दिल्ली पहुँच गए। माना जा रहा है कि मध्य प्रदेश में कमलनाथ को मुख्यमंत्री बनने में कोई परेशानी नहीं आएगी। राजस्थान में अशोक गहलोत और सचिन पायलट दोनों की दावेदारी मजबूत है। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री पद पर कांग्रेस को खासी मुश्किल आ सकती है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने कार्यकर्ताओं से मुख्यमंत्री पद के लिए राय भी माँगी थी। एमपी और राजस्थान में कांग्रेस नेता सरकार बनाने का दावा पेश करने के लिए वहाँ के राज्यपाल से मुलाकात कर चुके हैं। 
राजस्थान में अशोक गहलोत का दावा काफ़ी मजबूत माना जा रहा है। कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने बताया कि छत्तीसगढ़ में कांग्रेस विधायकों ने प्रस्ताव पारित कर पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी को विधायक दल का नेता चुनने का अधिकार दे दिया था। छत्तीसगढ़ में नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल सीएम की दौड़ में आगे चल रहे हैं। सिंहेदव ने अंबिकापुर से और बघेल ने पाटन से जीत हासिल की है। राज्य में दुर्ग लोकसभा सीट से सांसद ताम्रध्वज भी मुख्यमंत्री पद के दावेदारों में से एक हैं। साहू ने दुर्ग ग्रामीण विधानसभा सीट से जीत हासिल की है। 
मध्य प्रदेश में कांग्रेस विधायकों की बैठक शाम 4 बजे से भोपाल में होगी। 
इससे पहले बुधवार को बसपा सुप्रीमो मायावती ने दिल्ली में प्रेस कॉन्फ़्रेंस कर मध्य प्रदेश और राजस्थान में कांग्रेस को समर्थन देने का एलान कर दिया था। इससे मध्य प्रदेश और राजस्थान में सरकार बनाने के लिए कांग्रेस का रास्ता काफ़ी आसान हो गया है। 230 सदस्यों की मध्य प्रदेश विधानसभा में कांग्रेस को 114 सीटें मिली थीं जो कि बहुमत के 116 के आंकड़े से 2 सीटें कम थी। बीएसपी ने 2 सीटें जीती हैं। अब इस तरह बीएसपी के 2 विधायकों को लेकर कांग्रेस ने बहुमत के आंकड़े को छू लिया है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें