loader

राजन मिश्रा के बेटे बोले- पीएम आवास बाद में बन जाता, अभी स्वास्थ्य पर निवेश ज़रूरी

हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत के जाने-माने क्लासिकल गायक रहे राजन मिश्रा के बेटे रजनीश मिश्रा ने कहा है कि प्रधानमंत्री का आवास कुछ वक़्त बाद भी बन सकता है और इसमें लगने वाले पैसे को स्वास्थ्य सुविधाओं में लगाया जाना चाहिए जिससे इस महामारी में लोगों की जान बचाई जा सके। 

बता दें कि महामारी से पस्त हो चुके भारत की राजधानी दिल्ली में सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट पर तेज़ गति से काम चल रहा है। सामाजिक चिंतकों का कहना है कि इस बेहद ख़राब वक़्त में सेंट्रल विस्टा के काम को रोक दिया जाना चाहिए था। सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट के तहत एक नए संसद भवन के साथ ही प्रधानमंत्री और उप राष्ट्रपति के आवास के साथ कई मंत्रालयों के कार्यालय और केंद्रीय सचिवालय भी बनाया जाएगा। यह प्रोजेक्ट 20 हज़ार करोड़ का है। 

ताज़ा ख़बरें

यहां ये भी बताना ज़रूरी होगा कि राजन मिश्रा की बीते महीने कोरोना से संक्रमित होने के कारण मौत हो गई थी। लाख कोशिशों के बाद भी मिश्रा को दिल्ली में एक वेंटिलेटर तक नहीं मिल पाया था। इसे लेकर सोशल मीडिया पर भी काफी चर्चा हुई थी। 

रजनीश मिश्रा ने ‘द टेलीग्राफ़’ से बातचीत में कहा, “पद्म भूषण अवार्ड से सम्मानित राजन मिश्रा को तक स्वास्थ्य सुविधाएं नहीं मिल सकीं तो आम आदमी का क्या हाल होगा। अगर स्वास्थ्य सुविधा मिल जाती तो वे (पिता) बच जाते।” 

रजनीश मिश्रा ने कहा, “किसी व्यक्ति के मरने के बाद उसे अवार्ड देना या उसके लिए स्मारक बनाने का कोई मतलब नहीं है क्योंकि वह शख़्स अब इस दुनिया में नहीं है। लोगों को जब वे जीवित हों तब सुविधा चाहिए, चाहे वे वीआईपी हों या नहीं।”

डीआरडीओ की ओर से वाराणसी में बनाए गए एक अस्थायी अस्पताल को राजन मिश्रा के नाम पर रखा गया है। रजनीश मिश्रा इसे लेकर पूछे गए एक सवाल का जवाब दे रहे थे। 

रजनीश ने ‘द टेलीग्राफ़’ से कहा, “हम ना इससे ख़ुश हैं और ना दुखी, ना ही हमें इससे कोई लेना-देना है कि अस्पताल का नाम मेरे पिता के नाम पर रखा गया है। हम सरकार या किसी और को उनकी मौत के लिए दोष नहीं देना चाहते।” 

देश से और ख़बरें

उन्होंने आगे कहा, “हम सब जानते हैं कि हमारे देश का स्वास्थ्य ढांचा पूरी तरह ढह चुका है। आपके पास मंदिर या प्रधानमंत्री आवास या राष्ट्रपति भवन बनाने के लिए पैसा है, इन चीजों को रोका जा सकता है। अभी हमें पैसे को स्वास्थ्य के क्षेत्र में निवेश करने की ज़रूरत है जिससे हमारी तरह दूसरे परिवार परेशान न हों।” 

सरकार की आलोचना 

राजन मिश्रा की दिल्ली के सेंट स्टीफ़न अस्पताल में मौत हुई थी। उनकी मौत से पहले उनके दोस्त विश्व मोहन भट्ट ने एक वेंटिलेटर की ज़रूरत की गुहार ट्विटर पर लगाई थी। कई बड़े अफ़सरों से संपर्क के बाद भी मिश्रा को वेंटिलेटर नहीं मिल सका था। लेकिन उनकी मौत के बाद एक अस्पताल का नाम उनके नाम पर रखे जाने को लेकर लोग सोशल मीडिया पर सरकार की ख़ूब आलोचना कर रहे हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें