loader

Razorpay ने हमें बिना बताए पुलिस के साथ डोनर डाटा साझा किया: ऑल्ट न्यूज़

फैक्ट चेक करने वाली वेबसाइट ऑल्ट न्यूज़ ने आरोप लगाया है कि पेमेंट गेटवे Razorpay ने उसे चंदा देने वालों की जानकारी पुलिस के साथ शेयर की है। 

ऑल्ट न्यूज़ ने कहा है कि Razorpay ने बिना उसे बताए और बिना किसी जांच के ही उसे चंदा देने वालों की जानकारी पुलिस को दे दी। 

बता दें कि दिल्ली पुलिस इन दिनों ऑल्ट न्यूज़ को मिले चंदे की जांच कर रही है और कुछ दिन पहले ही एक अन्य मामले में उसने इसके सह संस्थापक मोहम्मद जु़बैर को गिरफ्तार किया था। 

ताज़ा ख़बरें

इस बारे में Razorpay का कहना है कि उसे एक लिखित आदेश मिला था और भारत के कानून के मुताबिक इसका पालन करना उसके लिए जरूरी था। Razorpay की ओर से कहा गया है कि वह डाटा सिक्योरिटी के लिए प्रतिबद्ध है और भारत के कानून और नियमों का भी पालन करता रहेगा। 

ऑल्ट न्यूज़ ने इस बात को कहा है कि केवल भारतीय बैंक खाते ही उसे दान दे सकते हैं और विदेशी क्रेडिट कार्ड Razorpay के बैक-एंड में नहीं थे। इसलिए उस पर यह आरोप लगाया जाना कि उसे ऐसे विदेशी स्रोतों से चंदा मिला है, जहां से वह चंदा नहीं ले सकता इस तरह के आरोप पूरी तरह झूठ हैं। 

Razorpay Shared Donor Data With police Alt News said - Satya Hindi

ऑल्ट न्यूज़ की ओर से कहा गया है कि वह Razorpay के विकल्प के तौर पर किसी दूसरे प्लेटफार्म पर विचार करेगा। इससे पहले पुलिस के कहने के बाद Razorpay ने ऑल्ट न्यूज़ के अकाउंट को अपने प्लेटफार्म से निष्क्रिय कर दिया था लेकिन बाद में इसे फिर से चालू कर दिया गया था। 

ऑल्ट न्यूज़ के मुताबिक, Razorpay ने उसे अकाउंट को निष्क्रिय करने के बारे में तो बताया था लेकिन यह नहीं बताया कि उसने ऐसा क्यों किया।

दिल्ली पुलिस ने मोहम्मद ज़ुबैर को पटियाला हाउस कोर्ट में पेश करने के दौरान उनके खिलाफ आपराधिक साजिश रचने और सबूत नष्ट करने के आरोप लगाए थे। 

ज़ुबैर के खिलाफ विदेशी चंदा प्राप्त करने के लिए फॉरेन कंट्रीब्यूशन रेगुलेशन एक्ट एफसीआरए की धारा 35 भी लगाई गई है। दिल्ली पुलिस ने कहा है कि ज़ुबैर की कंपनी को पाकिस्तान, सीरिया और अन्य खाड़ी देशों से चंदा मिला है।

पुलिस का कहना है कि ज़ुबैर ने अपने मोबाइल फोन को फॉर्मेट कर दिया और कुछ ट्वीट को भी डिलीट कर दिया। 

देश से और खबरें

14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा

दिल्ली पुलिस के द्वारा मोहम्मद ज़ुबैर को एक अन्य मामले में सोमवार को उत्तर प्रदेश के सीतापुर ले जाया गया था जहां उनके खिलाफ धार्मिक भावनाएं आहत करने का मुकदमा दर्ज था। इस मामले में ज़ुबैर को सीतापुर की स्थानीय अदालत में पेश किया गया था। मुकदमे में आरोप लगाया गया था कि मोहम्मद ज़ुबैर ने 3 लोगों- महंत बजरंग मुनि, यति नरसिंहानंद सरस्वती और स्वामी आनंद स्वरूप को नफरत फैलाने वाला करार दिया था। इस मामले में 27 मई को भगवान शरण नाम के शख्स की ओर से मोहम्मद ज़ुबैर के खिलाफ शिकायत दर्ज की गई थी। स्थानीय अदालत ने इस मामले में ज़ुबैर को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया था। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें