loader

यूपी: आज़ादी के ‘अनजान’ क्रांतिकारियों की तलाश करेगा संघ 

देश की आज़ादी के 75 साल पूरे होने के मौक़े पर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ उत्तर प्रदेश में आज़ादी के ‘अनजान’ क्रांतिकारियों की खोज करेगा। ‘अनजान’ क्रांतिकारियों से मतलब उन लोगों से है, जिन्होंने देश की आज़ादी की लड़ाई लड़ी लेकिन उनका जिक्र इतिहास में नहीं हो सका और इस वजह से लोगों को भी उनके संघर्ष के बारे में पता नहीं चला। 

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कुछ महीने पहले एलान किया था कि देश की आज़ादी के 75 साल पूरे होने के अवसर को ‘आज़ादी का अमृत महोत्सव’ नाम से मनाया जाएगा। केंद्र सरकार की ओर से भी देश भर में आज़ादी के अमृत महोत्सव के तहत कार्यक्रम किए जा रहे हैं। 

‘आज़ादी का अमृत महोत्सव’ के तहत संघ के स्वयंसेवक उत्तर प्रदेश के हर जिले से ऐसे ‘अनजान’ क्रांतिकारियों के बारे में सूचना एकत्र करेंगे, इसके बाद इनके बारे में लोगों के बीच चर्चा की जाएगी और ‘अनजान’ क्रांतिकारियों के बारे में एक किताब भी प्रकाशित की जाएगी। 

ताज़ा ख़बरें
संघ के अवध प्रांत के सह कार्यवाह संजय ने ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ को बताया कि ‘आज़ादी का अमृत महोत्सव’ 19 नवंबर से 16 दिसंबर तक मनाया जाएगा। 19 नवंबर को रानी लक्ष्मी बाई का जन्मदिन है जबकि 16 दिसंबर को विजय दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस दिन 1971 के युद्ध में भारत ने पाकिस्तान को शिकस्त दी थी। 
RSS programmes on Azadi Ka Amrit Mahotsav  - Satya Hindi

उन्होंने कहा कि संघ की ओर से इसी तरह के कार्यक्रम पूरे देश भर में किए जाएंगे। संघ इस दौरान तिरंगा यात्रा भी निकालेगा। इसमें शामिल होने वाले लोग हाथों में तिरंगा लेकर चलेंगे और वंदे मातरम गाएंगे। संजय ने कहा कि संघ अवध प्रांत में अपनी शाखाओं के विस्तार पर भी ध्यान दे रहा है। 

देश से और ख़बरें

नज़दीक हैं चुनाव 

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव नज़दीक हैं और बीजेपी और संघ परिवार ने अपनी सक्रियता बढ़ा दी है। संघ परिवार की भी कोशिश है कि बीजेपी की सत्ता में वापसी हो। इसलिए भी संघ की ओर से तिरंगा यात्रा निकालकर या देशभक्ति से जुड़े कार्यक्रम कर बीजेपी के पक्ष में माहौल बनाने की कोशिश की जा रही है। हालांकि संघ ने उसके कार्यक्रमों का चुनाव से किसी तरह का संबंध होने से इनकार किया है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें