loader

सलमान खुर्शीद ने जी-23 को लिखी चिट्ठी, फटकार लगाई

कांग्रेस पार्टी का अंदरूनी घमासान थमने का नाम नहीं ले रहा है। विवाद बढ़ता जा रहा है और नए-नए लोग जुड़ते जा रहे हैं। ताज़ा घटनाक्रम में पूर्व विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद ने अंसतुष्ट धड़ा जी-23 पर क़रारा हमला करते हुए उनके नाम एक खुला खत लिखा है।

उन्होंने पार्टी के अंदरूनी लोकतंत्र का हवाला देते हुए कहा कि हज़ारों कांग्रेस कार्यकर्ता हैं जिन्हें पार्टी से कुछ नहीं मिला है या बहुत ही कम मिला है, वे भी लोकतंत्र में यकीन करते हैं। उन्होंने असंतुष्टों को निशाने पर लेते हुए उन्हें दिलाया कि पार्टी के आंतरिक चुनाव सही समय पर कराए जाएंगे यह उन्हें पता है, वे कांग्रेस कार्यकारी अध्यक्ष और बाद में कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में इस पर राजी हो चुके हैं। लेकिन उन्होंने समय देख कर गोलपोस्ट बदल दिया, पार्टी के प्रति असहमति दिखाने के लिए जम्मू में जमा हो गए और वे ऐसा ही हरियाणा में करने वाले हैं।

ख़ास ख़बरें

'बीजेपी-आरएसएस की चुनौतियाँ'

सलमान खुर्शीद ने जी-23 के नेताओं को याद दिलाया कि कांग्रेस पार्टी का पिछले 50 सालों का इतिहास बहुत ही जटिलताओं से भरा रहा है और अब उसे बीजेपी-आरएसएस की विभाजनकारी राजनीति का सामना करना है। उन्होंने कहा कि पार्टी दो पाटों के बीच फँसी है, कुछ लोग यह मानते हैं कि कांग्रेस धर्मनिरपेक्षता पर कोई समझौता कर ही नहीं सकती और कुछ लोग यह मानते हैं कि उसने धर्मनिरपेक्षता का फ़ायदा नहीं उठाया है।

सलमान खुर्शीद ने अंसतुष्ट धड़े को लिखी चिट्ठी में कहा है कि सांप्रदायिक ताक़तों के बढ़ते प्रभाव की वजह से कांग्रेस कुछ ज्यादा ही चौकन्नी हो गई है।

कांग्रेस अब अल्पसंख्यकों की बात नहीं करती है, वह अब बहुमत के सांस्कृतिक प्रतीकों का प्रदर्शन करने लगी है, जो काम अब तक बीजेपी करती आई है।


सलमान खुर्शीद, कांग्रेस नेता

उन्होंने तंज करते हुए कहा कि कांग्रेस अपने नायकों की 'गल़तियों' को स्वीकार करने लगी है क्योंकि वह समय की माँग बन गई है।

'संतुलन ज़रूरी' 

सलमान खुर्शीद ने ज़ोर देकर कहा है कि ऐसे में वस्तुस्थिति और अवधारणा, रणनीति और विचारधारा के बीच संतुलन बनाना ज़रूरी है। ऐसे में कांग्रेस को हर तरह के लोगों-युवा व बुजुर्ग, खुश-नाखुश, सिद्धांतकार और व्यक्तिगत आकांक्षा वाले, उन्हें जिन्हें तरजीह दी गई और उन्हें जिनकी उपेक्षा की गई है, सबकी ज़रूरत है। ऐसे में आंतरिक कलह और सचमुच के और काल्पनिक कमियों पर बहस करने की ज़रूरत नहीं है।

'लोकतंत्र एक प्रक्रिया'

किसी समय सोनिया गांधी के नज़दीक रहे खुर्शीद ने कहा कि लोकतंत्र एक प्रक्रिया है, वह समय पर रुक जाने वाली चीज नहीं है।

सलमान खुर्शीद ने असंतुष्टों को फटकार लगाते हुए सवाल किया है कि क्या यह उचित है कि जिस सीढ़ी पर चढ़ कर आप ऊँचाई पर पहुँचे हैं, जहाँ से ज़ोर से बोलना आसान है, उस सीढ़ी को ही झटक दिया जाए।
सलमान खुर्शीद ने अंसतुष्ट धड़े को निशाने पर लेते हुए कहा है कि संकट की इस घड़ी में दो रास्ते हैं-हमें जो कुछ मिला है, उस पर आनंदित हों और उनका आनंद उठाएं और जो कुछ नहीं मिला है, उस पर शिकायत करते रहें। यदि हमने शिकायत करना जारी रखा तो हम उन कार्यकर्ताओं को क्या संकेत देंगे जो यह उम्मीद पाले बैठे हैं कि संकट की यह घड़ी एक न एक दिन टल जाएगी। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें