loader

अग्निपथ योजना के विरोध में संयुक्त किसान मोर्चा का प्रदर्शन

सशस्त्र बलों में भर्ती के लिए लाई गई अग्निपथ योजना का विरोध जारी है। शुक्रवार को संयुक्त किसान मोर्चा ने इस योजना के विरोध में देशभर में कई जिला और तहसील मुख्यालयों पर शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन किया है। बता दें कि अग्निपथ योजना के विरोध में बीते दिनों बिहार, उत्तर प्रदेश से लेकर तेलंगाना तक हिंसक प्रदर्शन हुए थे।

इस दौरान रेलवे की संपत्ति को भी अच्छा-खासा नुकसान पहुंचा था। उत्तर प्रदेश और बिहार में पुलिस ने बड़े पैमाने पर एफआईआर दर्ज की थी और सैकड़ों लोगों की गिरफ्तारियां भी की थी।

अग्निपथ योजना का विरोध कर रहे संयुक्त किसान मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने इस योजना को वापस लेने की मांग की है और कई जगहों पर कलेक्ट्रेट पर धरना प्रदर्शन कर ज्ञापन भी सौंपा है।

ताज़ा ख़बरें
इस दौरान उत्तर प्रदेश से लेकर मध्य प्रदेश और पंजाब से लेकर हरियाणा और कई राज्यों में किसानों ने प्रदर्शन किया है। किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए उत्तर प्रदेश सहित तमाम राज्यों में पुलिस अलर्ट पर है।

संयुक्त किसान मोर्चा ने केंद्र सरकार के द्वारा लाए गए तीन कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली के बॉर्डर्स पर जोरदार प्रदर्शन किया था और 1 साल तक लगातार धरना दिया था। इसके बाद केंद्र सरकार को कृषि कानून वापस लेने पड़े थे। 

वरुण ने फिर किया ट्वीट

बीजेपी के सांसद वरुण गांधी ने एक बार फिर अग्निपथ योजना को लेकर ट्वीट किया है। वरुण ने कहा है कि अल्पावधि की सेवा करने वाले अग्निवीर पेंशन के हकदार नही हैं तो जनप्रतिनिधियों को यह ‘सहूलियत’ क्यों?

Samyukt Kisan Morcha protest against Agnipath recruitment scheme - Satya Hindi

उन्होंने कहा है कि राष्ट्ररक्षकों को पेंशन का अधिकार नहीं है तो वह भी खुद की पेंशन छोड़ने के लिए तैयार हैं। बीजेपी सांसद ने कहा है कि क्या हम विधायक/सांसद अपनी पेंशन छोड़ यह नहीं सुनिश्चित कर सकते कि अग्निवीरों को पेंशन मिले?

दूसरी ओर सरकार इस योजना को लेकर पीछे हटने को तैयार नहीं है। एयरफोर्स और आर्मी में भर्ती की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है।

देश से और खबरें

विपक्षी राजनीतिक दलों के साथ ही सेना में रहे कई पूर्व अफसरों ने अग्निपथ योजना का विरोध किया है तो सेना में रहे कई पूर्व अफसर इस योजना के समर्थन में आगे आए हैं। केंद्र सरकार का कहना है कि यह योजना युवाओं के लिए फायदेमंद है और उन्हें विपक्षी दलों के द्वारा गुमराह किया जा रहा है।

बीते दिनों में केंद्र सरकार और निजी कंपनियों की ओर से अग्निवीरों के लिए तमाम बड़े एलान भी किए गए हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें