loader

टूलकिट मामला : शांतनु मुलुक को अग्रिम ज़मानत

किसान आन्दोलन से जुड़े टूलकिट बनाने और उसे शेयर करने के मामले में सामाजिक कार्यकर्ता शांतनु मुलुक को अग्रिम ज़मानत मिल गई है। बंबई हाई कोर्ट की औरंगाबाद बेंच ने उन्हें यह ज़मानत दी है। मुलुक पर यह टूलकिट बनाने और दूसरों को भेजने का आरोप है। मुलुक ने इसके ख़िलाफ़ अग्रिम ज़मानत की अर्जी अदालत में दाखिल की गई थी। 

इस मामले में निकिता जैकब की याचिका पर सुनवाई बुधवार को होगी। 

कौन है शांतनु मुलुक?

महाराष्ट्र के बीड में जन्मे शांतनु मुलुक मूल रूप से एअरोनॉटिकल इंजीनियर हैं। लेकिन उन्होंने  इंजीनियर की वह नौकरी छोड़ दी और एक ग़ैरसरकारी संगठन से जुड़ गए। पुलिस का कहना है कि उन्होंने गूगल डॉक्यूमेंट पर टूलकिट बनाने में निकिता जेकब और दिशा रवि की मदद की थी।इस मामले की दूसरी अभियुक्त दिशा रवि पुलिस हिरासत में हैं। उन्हें रविवार को पाँच दिन की पुलिस हिरासत में भेजा गया। 

ख़ास ख़बरें

शांतनु मुलुक के वकील ने कहा है कि पुणे पुलिस ने बीड स्थित उनके घर पर छापा मारा है और उनके माता-पिता को बेवजह परेशान किया जा रहा है। 

मुलुक किसानों के मुद्दे पर पहले भी काम करते रहे हैं और उन्हें लेकर चिंतित रहे हैं। शांतनु के पिता ने कहा है कि मुलुक पर्यावरण सरंक्षण पर काम करते रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा है कि उनके परिवार को जानबूझ कर और बेवजह परेशान किया जा रहा है। 

क्या होता है टूलकिट?

साधारण व सपाट शब्दों में कहा जाए तो टूलकिट एक गूगल डॉक्यूमेंट होता है। इसमें एक्शन प्वाइंट्स दर्ज होते हैं, यानी क्या-क्या करना है, यह लिखा जाता है। इस पर यह भी लिखा जा सकता है कि किसी समस्या के समाधान के लिए क्या-क्या किया जाना चाहिए। 

इसका प्रयोग सोशल मीडिया कैम्पेन स्ट्रेटजी के तौर पर किया जाता है। इसके अलावा सामूहिक प्रदर्शन या आन्दोलन से जुड़ी जानकारी दी जाती है। इसमें किसी भी मुद्दे पर दर्ज याचिकाओं,  विरोध-प्रदर्शन और जनांदोलनों के बारे में जानकारी हो सकती है। 

अमेरिका में ‘ब्लैक लाइव्स मैटर’ आन्दोलन के दौरान टूलकिट का बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किया गया था। उसे लोगों से यह कहा गया था कि किसे कहाँ, कब और कैसे प्रदर्शन के लिए पहुँचना है। उन्हें बताया गया था कि वे अपने साथ क्या लाएं और पुलिस के चंगुल से कैसे बचें

इसी तरह अमेरिका के टेक्सस में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वागत में हुए हाउडी मोडी कार्यक्रम में भी इसका इस्तेमाल किया गया था। आयोजकों और उनसे जुड़े लोगों ने टूलकिट से भारतीय मूल के लोगों को विस्तार से बताया था कि उन्हें किस जगह बस मिलेगी, वे कैसे कार्यक्रम के स्थल तक जाएं, वगैरह वगैरह। 

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज जस्टिस दीपक गुप्ता ने कहा है कि टूलकिट में कुछ भी आपत्तिजनक नहीं है। यह राजद्रोह का मामला नहीं बनता है। 
टूलकिट मामले में दिशा रवि की गिरफ्तारी पर क्या कहना है वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष का? 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें